scriptIf in the name of verification of tenants, you will be a victim of | किराएदारों का वेरीफिकेशन के नाम पर यदि की खानापूर्ति, तो आप होंगे पुलिस कार्रवाई का शिकार | Patrika News

किराएदारों का वेरीफिकेशन के नाम पर यदि की खानापूर्ति, तो आप होंगे पुलिस कार्रवाई का शिकार

किराएदार वेरीफिकेशन प्रक्रिया के नाम पर केवल कागजी खानापूर्ति जिले में चल रही है। दूसरे जिले और प्रदेश का कौन व्यक्ति जिले में रह रहा है? उसका आपराधिक रेकॉर्ड है या नहीं? इस बात की जानकारी पुलिस और मकान मालिकों को नहीं है।

रायपुर

Updated: January 24, 2022 12:10:36 pm

रायपुर। दूसरे राज्यों और जिले से आए व्यक्तियों की जानकारी पुलिस (RAIPUR NEWS) अधिकारियों को हो, इसलिए रायपुर पुलिस के अधिकारियों ने किराएदार फार्म जमा करने के निर्देश जिले के मकान मालिकों को दिए हैं। किराएदार फार्म जमा कराने के पीछे का उद्देश्य यह है कि दूसरे जिले और राज्य से आए व्यक्ति की जानकारी पुलिस को हो और पुलिस उन व्यक्ति के मूल निवास में जांच कराकर यह पता कर सके कि व्यक्ति अपराधी है या नहीं? पुलिस अधिकारियों द्वारा बनाई गई इस व्यवस्था को राजधानी के मकान मालिक और थानों में पदस्थ पुलिस अधिकारियों ने मजाक बनाकर रख दिया है।
RAIPUR POLICE
किराएदार वेरीफिकेशन प्रक्रिया (RAIPUR NEWS) के नाम पर केवल कागजी खानापूर्ति जिले में चल रही है। दूसरे जिले और प्रदेश का कौन व्यक्ति जिले में रह रहा है? उसका आपराधिक रेकॉर्ड है या नहीं? इस बात की जानकारी पुलिस और मकान मालिकों को नहीं है। घटना के बाद पुलिस अधिकारी केवल नोटिस देते रह जाते है और मकान मालिक हाथ मलते रह जाते हैं।
हर गली-मोहल्ले में रह रहे किराएदार

रायपुर प्रदेश की राजधानी होने की वजह से नौकरी, कारोबार, शिक्षा का हब है। छात्रों के अलावा दूसरे जिले और राज्यों के लोग यहां आकर अपना जीविकोपार्जन करते है। जिले के कुछ मकान मालिक (RAIPUR NEWS) अपने निवास में रहने वालों को सूचना पुलिस को देना जरूरी नहीं समझते। जो जागरूक सूचना देते भी हैं, उनके आवेदन थानों की फाइलों में कैद होकर रह जाते हैं। जिले के थाना प्रभारी किराएदारी फार्म दूसरे जिलों की पुलिस से जांच करवाना जरूरी नहीं समझते। जब घटना होती है, तो पुलिस अधिकारी कार्रवाई करने का दावा करते है, लेकिन कुछ दिन बाद भी ठंडे बस्ते में पड़ जाती है।
इसलिए जरूरी है किराएदारों का वेरीफिकेशन

दूसरे जिले और राज्य से आने वाला शख्स किस तरह का है। मकान मालिक को उसने जो जानकारी दी है वो सही है या नहीं? इस बात की जांच कराने के लिए पुलिस वेरीफिकेशन कराया जाता है। इस वेरीफिकेशन के बाद किराएदार के मूल निवास और उसके बैकग्राउंड का पता रहता है और आवश्यकता पडऩे पर तत्काल कार्रवाई हो जाती है। कई मकान मालिक कागजी कार्रवाई से बचने के लिए ये प्रक्रिया पूरी नहीं करते और फिर पुलिस कार्रवाई के चक्कर में फंसकर परेशान होते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

ताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातेंकर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवालPM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदीमहबूबा मुफ्ती ने कहा इनको मस्जिद में ही मिलता है भगवानइलाहाबाद हाईकोर्ट: ज्ञानवापी में मिला बड़ा शिवलिंग, कोर्ट के आदेश पर स्थान सरंक्षित, 20 को होगी अगली सुनवाईIPL 2022 DC vs PBKS Live Updates : दिल्ली ने पंजाब को जीत के लिए दिया 160 रनों का लक्ष्यBJP कार्यकर्ता अभिजीत सरकार की हत्या के मामले में CBI ने TMC विधायक को किया तलब49 डिग्री के हाई तापमान से दिल्ली बेहाल, अब धूलभरी आंधी के आसार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.