प्रदेश कांग्रेस में अफसरों की एंट्री से बिगड़ रहा पुराने दावेदारों का गणित

प्रदेश कांग्रेस में अफसरों की एंट्री से बिगड़ रहा पुराने दावेदारों का गणित

Deepak Sahu | Publish: Sep, 04 2018 11:05:02 AM (IST) Raipur, Chhattisgarh, India

विधानसभा चुनाव-2018: दर्जनभर पूर्व अफसर हो चुके हैं कांग्रेस में शामिल

रायपुर . पिछले दो दिनों में दो सेवानिवृत्त आइएएस अफसरों ने कांग्रेस का दामन थाम लिया है। अभी कम से कम तीन पूर्व अफसरों के कांग्रेस से जुडऩे की संभावना जताई जा रही है।

जुलाई-अगस्त महीने में ही दर्जनभर अफसर सर्विस से त्यागपत्र देकर कांग्रेस से टिकट की दावेदारी कर चुके हैं। इन अफसरों की एंट्री से विधानसभा क्षेत्रों मेंं पहले से सक्रिय टिकट के दावेदारों का गणित बिगाड़ दिया है। कई क्षेत्रीय नेताओं ने आशंका जताई कि ऐसा होता रहा तो हर चुनाव में मेहनत कर जनाधार बनाने वाले उन जैसे कार्यकर्ताओं का कभी नंबर ही नहीं आएगा। हालांकि प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ऐसी किसी संभावना से इनकार कर रहे हैं।

उनका कहना है कि जो भी अफसर, समाजसेवी अथवा दूसरे क्षेत्र से आया व्यक्ति कांग्रेस में शामिल हो रहा है, वह टिकट मिलने की शर्त पर नहीं आ रहा है। उनके आने से किसी की दावेदारी खारिज भी नहीं की जा रही है। शुक्ला ने कहा, जो जीतने लायक होगा टिकट उसी को मिलेगा। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि ऐसा हर बार नहीं होता। शिशुपाल शोरी आइएएस छोडक़र पिछले विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में आए थे। पार्टी ने उनको टिकट नहीं दिया। पांच साल से वे संगठन का काम कर रहे हैं।

इन अफसरों ने ठोका है दावा
विभोर सिंह : मूल रूप से बिलासपुर जिले के निवासी हैं। राज्य पुलिस सेवा के प्रमोटी अफसर। रायपुर में डीएसपी थे, इस्तीफा देकर कोटा क्षेत्र से टिकट की दावेदारी की है।

किश्मतलाल नंद : महासमुंद जिले के हैं और रायगढ़ जिले में उप पुलिस अधीक्षक थे। इस्तीफा देकर सरायपाली विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस का टिकट मांगा है।

गिरिजाशंकर जौहर : बिलासपुर जिले के ही जौहर मस्तुरी थाना प्रभारी पद से इस्तीफा दिया है। उन्होंने मस्तुरी से चुनाव लडऩे के लिए कांग्रेस के टिकट पर दावा ठोका है।

इंदर सिंह मंडावी : दुर्ग में आबकारी विभाग के अनुविभागीय अधिकारी पद से इस्तीफा देकर चुनावी मैदान में ताल ठोकने की तैयारी में हैं। उन्होंने आवेदन देकर मोहला-मानपुर से टिकट की दावेदारी की है।
सुधीराम नेताम : दुर्ग में ही जिला रोजगार अधिकारी के पद से त्यागपत्र दिए हैं। नेताम ने सिहावा विधानसभा क्षेत्र से टिकट मांगा है।

गिरीश कुर्रे : स्वास्थ्य विभाग में जिला संयोजक कुर्रे ने पामगढ़ से कांग्रेस का टिकट मांगा है। बताया जा रहा कि है उन्होंने आधिकारिक तौर पर अभी इस्तीफा नहीं दिया है।

इन वरिष्ठ अफसरों की भी चर्चा
पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त सरजियस मिंज रविवार को कांग्रेस में शामिल हुए। उन्हें जशपुर जिले के कुनकुरी से टिकट देने की बात कही जा रही है। एक चर्चा उन्हें रायगढ़ से लोकसभा चुनाव लड़ाने की भी है। शनिवार को पार्टी में शामिल हुए पूर्व आइएएस आरपीएस त्यागी को कोरबा से टिकट की बात चल रही है।

कार्यकर्ता की स्वीकार्यता जरूरी
कांग्रेस विधायक दल के नेता टीएस सिंहदेव, ने बताया सैद्धांतिक रूप से यह नहीं कहा जा सकता कि उनको टिकट नहीं मिलेगा अथवा मिलेगा ही। यह कोई नई स्थिति भी नहीं है। चुनाव से पहले हर राजनीतिक दल में नए लोग शामिल होते हैं, उसमें से कुछ संगठन का काम करते हैं, कुछ लोगों को टिकट भी मिल जाता है। लेकिन किसी भी प्रत्याशी को जिताता तो कार्यकर्ता है। अगर कार्यकर्ता नए चेहरे को स्वीकार कर लेता है और जीतने लायक भी है तो उन्हें टिकट भी मिल सकता है।

Ad Block is Banned