आयकर विभाग को लोहा कारोबारी के घर से मिली इतनी ब्लैकमनी, नोटों को गिनने के लिए मशीन मंगवानी पड़ी

आयकर विभाग (Income Tax Department) की टीम दूसरे दिन लोहा कारोबारी के सभी 3 ठिकानों पर जांच पूरी करने के बाद देर शाम को वापस लौट गई है। छापेमारी के दौरान गीता नगर स्थित कारोबारी के दोनों घर से 6 करोड रुपए बरामद किए गए थे।

By: Ashish Gupta

Published: 23 Jun 2021, 11:51 AM IST

रायपुर. आयकर विभाग (Income Tax Department) की टीम दूसरे दिन लोहा कारोबारी के सभी 3 ठिकानों पर जांच पूरी करने के बाद देर शाम को वापस लौट गई है। छापेमारी के दौरान गीता नगर स्थित कारोबारी के दोनों घर से 6 करोड रुपए बरामद किए गए थे। इसका हिसाब नहीं देने पर आयकर विभाग द्वारा जब्त कर लिया गया है।

तलाशी के दौरान करोड़ों रुपए के लेन-देन से संबंधित पेपर और लैपटॉप एवं कंप्यूटर में संदिग्ध खातों का हिसाब बरामद किया गया है। इसमें आय से अधिक खर्च करना बताया गया है। साथ ही टैक्स चोरी करने के लिए फर्जी एंट्री की गई है। बताया जाता है कि तलाशी के दौरान करोड़ों रुपए के हवाला से संबंधित पेपर भी मिले हैं। इसे जांच के लिए जब्त कर सिविल लाइन स्थित आयकर विभाग कार्यालय लाया गया है।

यह भी पढ़ें: सत्ता के नशे में चूर कांग्रेसी नेता ने ट्रैफिक पुलिस को दिखाया रौब, पकड़ा कॉलर, कहा- जानते नहीं मैं कौन हूं

बता दें की आयकर अन्वेषण विभाग की 25 सदस्य टीम ने 20 जून की देर शाम को रायगढ़ के टीएमटी सरिया कारोबारी के रायपुर में देवेंद्र नगर और गायत्री नगर स्थित दो ठिकानों पर छापा मारा था। प्राथमिक जांच के दौरान ही लगातार कैश और लेन-देन के फर्जी दस्तावेज के दस्तावेज बरामद किए गए थे। गड़बड़ी पकड़े जाने के बाद विभागीय अधिकारियों की टीम लगातार उससे पूछताछ कर रही थी।

बताया जाता है कि रायगढ़ स्थित लोहा फैक्ट्री में उसकी साझेदारी के साथ ही रायपुर दफ्तर में वह कर्मचारी की हैसियत से काम भी करता हैं। उसकी दोहरी भूमिका को देखते हुए आयकर विभाग की टीम पिछले काफी समय से उसके गतिविधियों पर नजर रखे हुए थी।

यह भी पढ़ें: ASI का ट्रांसपोर्टर्स से रिश्वत लेते हुए वीडियो वायरल, SP ने किया सस्पेंड, देखें VIDEO

मशीन से नोटों की गिनती
तलाशी के दौरान गायत्री नगर स्थित घर से बरामद नकदी की निगती करने के लिए मशीन भेजी गई थी। बताया जाता है कि बड़ी संख्या में 2000 और 500 रुपए के नोट मिले है। इसकी गिनती करने के बाद पेटियों और बोरो में भरकर आयकर दफ्तर लाया गया है। आयकर विभाग के अधिकारियों का कहना है कि लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान बाजार में कैश की कमी को देखते हुए नकदी रकम को हवाला कारोबार के लिए रखा गया था। यह राशि बड़े ही सुरक्षित तरीके से लोहे की तिजोरी और अलमारी में रखी गई थी।

संदिग्धों से होगी पूछताछ
कारोबारी के घर से बरामद दस्तावेज, कम्प्यूटर और लैपटाप में संदिग्ध लोगो के नाम मिले है। इसका जांच करने के बाद संदेह के दायरे में आने वाले लोगों को पूछताछ के लिए बुलवाया जाएगा। बताया जाता है कि कारोबारी के साथ लेनदेन करने वाले और दस्तावेजों में मिली जानकारी के आधार पर आने वाले दिनों में कुछ और कार्रवाई किए जाने के संकेत भी मिले है।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned