script Skin Donation: झुलसे हुए मरीजों के आएगी काम, इस युवक की स्किन, जानिए पूरी स्टोरी | Skin Donation: Young man's skin will be useful for burnt patients | Patrika News

Skin Donation: झुलसे हुए मरीजों के आएगी काम, इस युवक की स्किन, जानिए पूरी स्टोरी

locationरायपुरPublished: Nov 24, 2023 03:51:56 pm

Skin Donation: हीमोफीलिया जैसी गंभीर बीमारी से पीड़ित 21 वर्षीय युवक की मौत के बाद परिजनों ने स्किन डोनेशन किया।

Skin Donation: झुलसे हुए मरीजों के आएगी काम, इस युवक की स्किन, जानिए पूरी स्टोरी
Skin Donation: झुलसे हुए मरीजों के आएगी काम, इस युवक की स्किन, जानिए पूरी स्टोरी
रायपुर। Skin Donation: हीमोफीलिया जैसी गंभीर बीमारी से पीड़ित 21 वर्षीय युवक की मौत के बाद परिजनों ने स्किन डोनेशन किया। एम्स में मरीज का इलाज चल रहा था। परिजनों ने युवक की स्किन के अलावा कार्निया व किडनी को डोनेशन किया। स्किन को डीकेएस सुपर स्पेश्यालिटी अस्पताल के स्किन बैंक में रखा गया है। यह स्किन किसी झुलसे हुए मरीज के काम आएगी। परिजनों ने यही सोचकर अपने लाड़ले की स्किन समेत दूसरे ऑर्गन को डोनेट किया। डीकेएस को 7वां स्किन डोनेशन मिला है। एक महिला में स्किन ट्रांसप्लांट भी किया जा चुका है।
यह भी पढ़ें

भिलाई स्टील प्लांट में हुई लाखों की चोरी.. बिना ताला खोले मैगनेटिक क्वाइल चुराकर हुए रफूचक्कर



रिसीवर को कोई समस्या नहीं

प्रदेश के किसी भी सरकारी अस्पताल में यह पहला स्किन डोनेशन था। प्लास्टिक सर्जरी विभाग के डॉक्टरों के अनुसार युवक को गंभीर बीमारी थी, लेकिन स्किन के अलावा किडनी, कार्निया दूसरे मरीजों में ट्रांसप्लांट किया जा सकता है। इससे रिसीवर को कोई समस्या नहीं होगी। चूंकि हीमोफीलिया खून संबंधी बीमारी है। इसलिए युवक के विभिन्न अंग को किसी जीवित व्यक्ति में लगाया जा सकता है।
यह भी पढ़ें

Crime: शादियों में चोर सूट-बूट पहन के शामिल होकर कर रहे चोरियां, जानिए डिटेल में...



35 दिन बाद उपयोग

विभाग के एचओडी डॉ. दक्षेश शाह ने बताया कि स्किन डोनेशन के बाद इसे किसी व्यक्ति के उपयोग के लायक बनाने में 30 से 35 दिन लगता है। स्किन का कल्चर टेस्ट कराया जा रहा है। इसकी रिपोर्ट आने में ही 72 घंटे लगते हैं। यह इसलिए कराते हैं, जिससे पता चलता है कि स्किन में कहीं बैक्टीरिया का संक्रमण तो नहीं है। संक्रमण नहीं होने पर इसे स्किन बैंक के उस सेक्शन में रखा जाएगा, जिसे दूसरे मरीजों में ट्रांसप्लांट किया जा सकता है।
लोग ज्यादा से ज्यादा स्किन डोनेशन करे इसलिए विभिन्न संस्थाओं के साथ मिलकर जागरूकता अभियान भी शुरू किया जा रहा है।

ट्रेंडिंग वीडियो