scriptMobile addiction is dangerous Jain sage said in Rajsamand it has a bad effect on immunity and fitness | मोबाइल की लत खतरनाक जैन मुनि बोले - इम्यूनिटी, फिटनेस पर पड़ता है बुरा असर | Patrika News

मोबाइल की लत खतरनाक जैन मुनि बोले - इम्यूनिटी, फिटनेस पर पड़ता है बुरा असर

locationराजसमंदPublished: Feb 02, 2024 02:36:14 pm

Jain Sage Advice in Rajsamand : राजसमंद के रिछेड़ राउमावि धानीन में जैन मुनि अतुल कुमार ने मोटिवेशनल स्पीच दी। जिसमें मोबाइल के अधिक प्रयोग पर सलाह दी कि मोबाइल पर ज्यादा समय बिताने से इम्यूनिटी, फिटनेस और ब्रेन हेल्थ को नुकसान हो सकता है।

rajsamand_1.jpg
Rajsamand
Jain Sage Advice on Mobile : शासन मुनि रविंद्र कुमार एवं मुनि अतुल कुमार के सान्निध्य में श्रीमती देवी बाई मोतीलाल चोरडिया राउमावि धानीन में गुरुवार को मोटिवेशनल स्पीच का आयोजन किया गया। मुनि अतुल कुमार ने छात्र-छात्राओं को मोटिवेट करते हुए कहा आज हर माता-पिता की एक ही शिकायत रहती है कि उनका बच्चा घंटों मोबाइल फोन से चिपका रहता है। मोबाइल पर कई तरह की चीजें देखने की वज़ह से उनकी भाषा ख़राब होने के साथ स्वभाव भी चिड़चिड़ा हो रहा है। व्यक्ति चाहते हुए भी खुद को इस लत से नहीं निकाल पा रहा है। समस्या तब और ज्यादा बढ़ जाती है जब यह लत बड़ों को देखते-देखते बच्चों को भी अपनी गिरफ्त में लेने लगती है। सोशल मीडिया इतना बड़ा है कि बच्चा अश्लील और हानिकारक वेबसाइटों तक पहुंच सकता है, जो उनकी सोचने की प्रक्रिया को प्रभावित कर सकता है।

चिड़चिड़ेपन और बार-बार बीमार पड़ने की वजह कहीं स्मार्टफोन तो नहीं? जब आप मोबाइल फोन के साथ ज़्यादा समय बिताते हैं तो यह आपकी इम्यूनिटी, फिटनेस और ब्रेन हेल्थ को नुकसान पहुंचाने लगता है। इससे आप गुस्सैल चिड़चिड़े और कमज़ोर भी होने लगते हैं।

रात को रील्स देखने की आदत आपकी नींद को करती है प्रभावित

शासन मुनि रविंद्र कुमार एवं मुनि अतुल कुमार ने कहा स्मार्टफोन के इस युग में आजकल सभी अपने मोबाइल फोन को 24 घंटे अपने पास रखते हैं। पूरा दिन मोबाइल फोन के साथ बिताने के बाद रात को सोने से ठीक पहले कोई भी मोबाइल चलाना नहीं भूलता। रात को रील्स देखने की आदत सीधे आपकी नींद को प्रभावित करती है और आपकी अधूरी नींद समग्र सेहत को नुकसान पहुंचाती है। बड़ों के साथ-साथ आजकल कम उम्र के बच्चे भी इन गतिविधियों में शामिल हो रहे हैं। इसकी वज़ह से बहुत जल्दी लोग डिप्रेशन और तरह-तरह की बीमारियों का शिकार हो जाते हैं। देर रात तक फोन चलाने से आंखें खराब हो जाती हैं और साथ में सिरदर्द की समस्या, अनिद्रा की समस्या, मानसिक अस्थिरता की समस्या, सर्वाइकल प्रॉब्लम, स्ट्रेस, डिप्रेशन और डार्क सर्कल जैसी प्रॉब्लम्स शुरू हो जाती हैं।

यह भी पढ़ें

Good News : रूफटॉप सोलर के घरेलू उपभोक्ताओं के लिए बड़ी खुशखबर, डिस्कॉम्स ने बढ़ाए नए रेट, जानें



इन्होंने किया स्वागत

प्रधानाचार्य रामावतार सिंघल ने स्वागत किया। इस दौरान विक्रम गावड़िया, विशन शर्मा, रक्षपाल जाखड़, भंवरलाल खत्री, मोलेश कुमार मीना, केसरमल, मनोहर, राकेश, मोहित, प्रमिला नंदवाना, तुलसाराम, ओमप्रकाश सिंह, त्रिलोकचंद, कुम्पाराम, शैलेंद्रसिंह भाटी, प्रभुराम, शंकरलाल बलाई, गर्वित जोशी, प्रवीण कुमार, चंपालाल गुर्जर आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें

Weather Update : जोधपुर, बीकानेर संभाग में आज मेघगर्जन संग होगी बारिश, जानें कल कैसा रहेगा मौसम

ट्रेंडिंग वीडियो