नासा ने खोजा एक और सौरमंडल, 'सुपर अर्थ' पर मिले जीवन के आसार

नासा ने खोजा एक और सौरमंडल, 'सुपर अर्थ' पर मिले जीवन के आसार

Navyavesh Navrahi | Publish: Aug, 06 2019 06:39:23 PM (IST) | Updated: Aug, 06 2019 06:42:52 PM (IST) विज्ञान और तकनीक

  • सुपर अर्थ ( Super Earth ) पर मौजूद हैं जीवन की संभावना
  • तरल अवस्था में हो सकता है पानी
  • इस ग्रह पर मौजूद हैं धरती जैसी चट्‌टानें

नासा ( NASA ) ने एक ऐसे सौरमंडल की खोज की है, जिसमें एक ग्रह बिलकुल पृथ्वी जैसा है। इसे 'सुपर अर्थ' ( Super Earth ) का नाम दिया गया है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इसका अपना वायुमंडल हो सकता है। वैज्ञानिकों ने इस सुपर अर्थ पर जीवन होनकी उम्मीद भी जताई है।

अब जानवरों से विकसित होंगे मानवीय अंग, जापान में विवादित रिसर्च को मंजूरी

इस सौरमंडल के हैं तीन ग्रह

एक रिपोर्ट के अनुसार- इस सौरमंडल में तीन ग्रह हैं। इनमें से एक पर जीवन के आसार हैं। इस ग्रह की परिस्थितियां धरती से मिलती-जुलती हैं। वैज्ञानिकों ने उम्मीद जताई है कि इसका अपना वायुमंडल होने की संभावना है। इसकी अपने सूर्य से दूरी उतनी है, जितनी मंगलग्रह की हमारे सौरमंडल की है।
ये खोज नासा ( NASA ) ने अपने एक उपग्रह ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटलाइट
(TESS) के माध्यम से की है।

एक बौना ग्रह भी खोजा

वैज्ञानिकों के अनुसार- पृथ्वी से इस 'सुपर अर्थ' की दूरी 31 प्रकाश वर्ष है। इस पर जीवन की सभी परिस्थितियां मौजूद हैं। वैज्ञानिकों की टीम के प्रमुख राफेल लूक के अनुसार- इस ग्रह का नाम जीजे 357 डी है। रिपोर्ट में एक बौने ग्रह को खोजने का भी दावा किया गया है। इसका आकार सूर्य का एक तिहाई है। ये सूर्य से 40 प्रतिशत ज्यादा ठंडा है।

चंदा मामा के बारे में वे पांच बातें जो हकीकत में भ्रांतियां हैं

सुपर अर्थ पर वायुमंडल

बता दें, नासा ने इस मिशन की शुरुआत इसी साल की थी। इसका उद्देश्य अपने सौर मंडल से बाहर नए ग्रहों की खोज करना है। अमरीका की कॉर्नेल यूनिवर्सटी की प्रफेसर और वैज्ञानिकों की टीम की मैंबर लिजा कलटेनेगर के अनुसार- इस ग्रह पर जीवन की लगभग सभी परिस्थितियां मौजूद हैं। इसकी चट्‌टानों की बनावट भी पृथ्वी से मिलती जुलती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इसके आसपास वायुमंडल होने का भी अनुमान है।

धरती से दोगुना आकार

वैज्ञानिकों के अनुसार- अपना वायुमंडल होने के कारण इसका तापमान मंगल से ज्यादा होने की संभावना है। खास बात यह है कि यहां पर पानी तरल अवस्था में हो सकता है। 'सुपर अर्थ' जीजे 357डी का आकार धरती के बराबर या दोगुना हो सकता है। इस ग्रह के बारे में शोध ऐस्ट्रॉनॉमी ऐंड ऐस्ट्रोफिजिक्स जर्नल में रिपोर्ट प्रकाशित हुई है।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned