इन छात्रों की आंखों में दिखती है चंद्रयान-3 की हकीकत, प्रदर्शनी लगाकर बताई ये अहम जानकारियां

  • लुधियाना के स्कूली बच्चों ने लगाई प्रदर्शनी

By: Prakash Chand Joshi

Published: 05 Oct 2019, 12:35 PM IST

नई दिल्ली: चंद्रयान-2 जिससे हर भारतीय को काफी उम्मीद थी, लेकिन चंद्रमा पर न उतरने के कारण इन करोड़ों उम्मीदों को धक्का लगा। लेकिन ये उम्मीदें अभी खत्म नहीं हुई हैं क्योंकि ऑर्बिटर चंद्रमा की काफी तस्वीरें भेज रहा है। साथ ही ये मिशन लगभग 98 प्रतिशत सफल रहा। ऐसे में अब सबकी नजरें चंद्रयान-3 की तरफ भी हैं क्योंकि माना ऐसा भी जा रहा है कि इसरो विक्रम लैंडर को चंद्रयान-3 में भेज सकता है। वहीं लुधियाना के कुछ युवा वैज्ञानिकों ने चंद्रयान-3 को लेकर एक प्रदर्शनी लगाई।

chandryaan2.jpg

ये है होनहारों का अंतरिक्ष स्टेशन

किसी भी मिशन के पीछे वैज्ञानिकों की कड़ी मेहनत झलकती है। ठीक वैसे ही इन बच्चों की आंखों में चंद्रयान-3 के लिए ख्वाब नहीं बल्कि हकीकत पलती है। इनकी तैयारी देखकर ऐसा लगता है कि मानो चंद्रयान-3 किसी भी वक्त उड़ान भर देगा। चंद्रयान-2 से उत्साहित लुधियाना के सिविल लाइन स्तिथ कुंदन विद्या मंदिर के ग्यारहवीं की छात्रा अदिति कपूर, आदित्य, ऋषि गांधी ग्यारहवीं-ए की सलीना ने स्कूल परिसर में आयोजित स्कूल परिसर में आयोजित विज्ञान व कला प्रदर्शनी में चंद्रयान-3 का मॉडल प्रदर्शित किया।

chandryaan1.jpg

लाइन फोलोअर रोबोट के प्रयोग से बना गया मॉडल

इस प्रदर्शनी में इन युवा वैज्ञानिकों ने चंद्रयान-3 के धरती से चंद्रमा तक के संपूर्ण प्रक्षेपण को दर्शाया। इस मॉडल को लाइन फोलोअर रोबोट के प्रयोग से बनाया गया। अदिति, आदित्य और ऋषि ने कहा कि चंद्रयान-2 ने अपने मिशन के 95 फीसदी लक्ष्यों को हासिल किया है। चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अबी भी सही तरीके से काम कर रहा है। चंद्रयान-2 का जो उद्देश्य था उसे अब हम चंद्रयान-3 से पूरा करेंगे। साथ ही छात्रों ने कहाकि वो चंद्रयान-3 के मिशन के लिए फंड की कमी नहीं आने देंगे। देश का हर नागरिक अपने-अपने स्तर पर कंट्रीब्यूट करने को तैयार है। इन छात्रों के हौसले की हर कोई काफी तारीफ कर रहा है। इनका हौंसला देखकर लगता है कि जल्द ही चंद्रयान-3 उड़ान भरेगा।

Show More
Prakash Chand Joshi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned