धरती के अंदर हो रही हलचल से खिसक रही जमीन, कच्छ जैसी तबाही के संकेत

  • Study Claims For Earth Core Moving : धरती के कोर के घूमने से पहाड़ों की ऊंचाई लगातार बढ़ रही है
  • यूनिवर्सिटी ऑफ इलिनॉय के वैज्ञानिकों ने भौगोलिक परिवतर्न पर की स्टडी

 

By: Soma Roy

Published: 13 May 2020, 02:55 PM IST

नई दिल्ली। धरती (Earth) अपनी धुरी पर घूमती रहे तो सब ठीक रहता है, लेकिन इसके अंदर मौजूद प्लेट्स में हुई थोड़ी-सी हलचल भी भयंकर विनाश का कारण बन सकती है। साल 2001 गुजरात (Gujrat) के कच्छ में आए भूंकप ने खूब तबाही मचाही थी। इसका जिक्र पीएम मोदी (PM Modi) ने कल अपने संबोधन के दौरान भी किया, लेकिन क्या आपको पता है यही महाप्रलय दोबारा कहर बरपा सकती है। इस बात का खुलासा एक स्टडी के दौरान हुआ है। वैज्ञानिकों ने जमीन के खिसकने की बात कही है।

भौगोलिक परिवर्तन पर यूनिवर्सिटी ऑफ इलिनॉय के वैज्ञानिकों ने एक स्टडी की है। इसकी रिपोर्ट अर्थ एंड प्लेनेटरी साइंस लेटर्स में प्रकाशित की गई है। इस स्टडी के मुताबिक धरती के अंदर केंद्र (Inner Core Moving) में मौजूद हिस्सा घूमता हुआ पाया गया है। जिसकी वजह से धरती के मैग्नेटिक फील्ड यानी चुंबकीय क्षेत्र में बदलाव हो रहा है। यही वजह है कि चुंबकीय उत्तरी ध्रुव कनाडा से खिसक कर साइबेरिया पहुंच गया है। प्रोफेसर जियाओडोंग ने कहा कि उन्होंने दुनिया भर के अलग-अलग स्थानों पर भूकंप के आने की दरों का अध्ययन किया। जिसमें पता चला कि भूकंप के आने की दर धरती के अंदर घूम रहे कोर की वजह से कम ज्यादा हो रही है। उन्होंने यह भी बताया कि कोर के घूमने की वजह से धरती की ऊपरी सतह और प्लेटें आपस में टकराती हैं या खिसकती हैं। इससे धरती के ऊपर बने पहाड़ों की ऊंचाई पर भी असर पड़ रहा है।

माना जा रहा है कि इन प्लेट्स के लगातार खिसकने से पहाड़ों की ऊंचाई लगातार बढ़ रही है। इस बारे में प्रो. सॉन्ग ने बताया कि भूकंप की वजह से पैदा हुई भूकंपीय तरंगे धरती के केंद्र तक जाती हैं। अगर केंद्र रुका रहता तो ये अंदर तक जा ही नहीं पाती। मगर इसके लगातार घूमने से खतरा बढ़ गया है। इससे भविष्य में बड़े भूंकप आ सकते हैं। भौगोलिक स्थिति में हो रहे बदलाव खतरे की ओर इशारा करते हैं। पीकिंग यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और इस स्टडी के सहलेखक जियाओडोंग सॉन्ग ने कहा कि वे साल 1996 से इस विषय पर अध्ययन कर रहे हैं। उस वक्त धरती के कोर में एक छोटा भूकंपीय परिवर्तन देखने को मिला था, जो अब लगतार बढ़ता जा रहा है।

Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned