दूसरे विश्वयुद्ध का बंकर अब दुनिया का पहला 10K 3D तारामंडल

यहां दर्शक 360 डिग्री में अंतरिक्ष कार्यक्रमों का लुत्फ उठा सकते हैं।

By: Mohmad Imran

Published: 23 Jun 2021, 03:15 PM IST

उत्तरी फ्रांस में स्थित द्वितीय विश्वयुद्ध (World War II) के समय के एक पूर्व बंकर, 'ला कूपोल' को तारामंडल में बदल दिया गया है। लेकिन यह तारामंडल अपनी विशेषताओं के कारण अपनी तरह का दुनिया का पहला तारामंडल है। फ्रांस की आरएसए कॉसमॉस कंपनी ने इस बंकर को दुनिया के पहले 10k 3D तारामंडल में बदल दिया है। यहां दर्शक 360 डिग्री में अंतरिक्ष कार्यक्रमों का लुत्फ उठा सकते हैं। यह तारामंडल अपनी उन्नत तकनीक के कारण दर्शकों को अंतरिक्ष में विचरने का अहसास कराता है। कॉसमॉस की टीम ने इस प्लेनेटोरियम में एक दर्जन 4k प्रोजेक्टर लगाए हैं।

दूसरे विश्वयुद्ध का बंकर अब दुनिया का पहला 10K  3D तारामंडल

कबाड़ से कमाल तक का सफर
द्वितीय विश्वयुद्ध में नाजी सेना ने इस विशाल बंकर का निर्माण लंदन और दक्षिणी इंग्लैंड पर V-2 रॉकेट लॉन्च करने के लिए किया था। लेकिन मित्र राष्ट्रों की सेना ने इसे नेस्तानाबूद कर सितंबर 1944 में इस पर कब्जा कर लिया था। इसे सैन्य अड्डे के रूप में पुन: उपयोग करने से रोकने के लिए, विंस्टन चर्चिल ने इसे ध्वस्त करने का आदेश दिया। हालांकि, बाद में अपोलो कार्यक्रम के लिए इसके विशाल परिसर का उपयोग किया जाने लगा। 1990 में इसे वॉर म्यूजियम में बदल दिया गया।

दूसरे विश्वयुद्ध का बंकर अब दुनिया का पहला 10K  3D तारामंडल

अंतरिक्ष में होने का एहसास
हाल ही आरएसए कॉसमॉस और सोनी कंपनी ने एक साझे प्रोजेक्ट के तहत इस संग्रहालय में एक नए तारामंडल का निर्माण किया है। इसमें एक नया डिजिटल सिस्टम लगाया गया है, जिसमें आरएसए कॉसमॉस ने 3डी अनुभव की गुणवत्ता को और बढ़ाया है। दावा किया जा रहा है कि यह दुनिया का पहला तारामंडल है जो 10k पिक्चर क्वालिटी में 3D वीडियो स्ट्रीमिंग करता है। दर्शकों को इस प्लेनेटोरियम में बिल्कुल वास्तविक अंतरिक्ष और उसकी अंधेरी गहराइयों को देखने का अनुभव होता है वह भी भीतर तक प्रवेश कर जाने वाली ग्रहों, उल्कापिंडो और ब्रह्मांड से आने वाली विभिन्न प्रकार की आवाजों की।

दूसरे विश्वयुद्ध का बंकर अब दुनिया का पहला 10K  3D तारामंडल

60 लाख का है एक प्रोजेक्टर, ऐसे 12 लगाए हैं
कंपनी ने अपने स्काई एक्सप्लोरर 2021 सॉफ्टवेयर के संयोजन और सोनी के 49 फीट (15 मीटर) ऊंचे 12 वीपीएल-जीटीजेड 380 के 4k प्रोजेक्टर को इसके डिजिटल गुंबद में लगाया है। प्रत्येक प्रोजेक्टर की कीमत करीब 80 हजार अमरीकी डॉलर (59,44,984 रुपये) है। जो अपनी बेहतरीन इमेज, उन्नत वीडियो क्वालिटी और क्रिस्टल साउंड तकनीक के 100 प्रतिशत मनोरंजन के साथ आंखों को जादुई अहसास कराते हैं।

दूसरे विश्वयुद्ध का बंकर अब दुनिया का पहला 10K  3D तारामंडल

इतना ही नहीं, यह प्रोजेक्टर सीन-दर-सीन ब्लर तस्वीर को डिजिटली साफ करना, कॉन्ट्रास्ट को एडजस्ट करना और साउंड को नियंत्रित करने के लिए इनबिल्ट तकनीक से लैस हैं।

दूसरे विश्वयुद्ध का बंकर अब दुनिया का पहला 10K  3D तारामंडल
Show More
Mohmad Imran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned