scriptChange in weather may cause danger of corona | मौसम में बदलाव से बढ़ रहा कोरोना का खतरा | Patrika News

मौसम में बदलाव से बढ़ रहा कोरोना का खतरा

स्वास्थ्य विभाग ने जारी की एडवाइजरी

सीहोर

Published: October 17, 2021 06:11:48 pm

सीहोर. मौसम में आए बदलाव के साथ ही कोरोना संक्रमण (corona third wave) को लेकर स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया है। मौसम में हो रहे बदलाव के चलते इस समय सर्दी, वायरल, खांसी, जुखाम के मरीज ज्यादा आ रहे हैं, ऐसे में कोरोना को मौका मिला तो उसके पनपने के लिए अनुकूल वातावरण है।

Newborn born with Corona Kavach
Newborn born with Corona Kavach

कोरोना (covid 19) से सुरक्षा और बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग (helth department) की तरफ से एडवाइजरी जारी की गई है, जिसमें कहा गया है कि गंभीर बीमारी ब्लड प्रेशर, डायबिटीज किड़नी, अस्थमा, कैंसर, पीड़ित व्यक्तियों को कोरोना से बचाव के लिए विशेष सतर्कता बरतने की जरूरत है।

Must See: प्रदेश में किसानों को बेचा जा रहा है नकली उर्वरक

कोरोना से सुरक्षा और बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग निरंतर सैंपलिंग कर रहा है। वैक्सीनेशन भी किया जा रहा है, लेकिन बड़ी संख्या में अभी ऐसे लोग हैं, जिन्होंने कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज नहीं लगवाया है। सीहोर जिले में कोरोना पॉजिटिव एक्टिव केस की संख्या जीरो हैं। जिले के आंकड़ो पर नजर डाले तो पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 10142 है, जिसमें से 10020 रिकवर हो चुके हैं और 112 की मौत हुई है। जिलेभर से शनिवार को जांच के लिए 254 सैंपल लिए गए हैं। सीहोर शहरी क्षेत्र से 106 , श्यामपुर से 83, नसरुल्लागंज 31, आष्टण से 20, बुदनी से 14 सैंपल लिए गए हैं।

सीएमएचओ डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि ब्लड प्रेशर, डायबिटीज किड़नी, अस्थमा, कैंसर पीड़ित हमेशा मास्क लगाएं। भीड़-भाड़ में नहीं जाएं। आपस में दो गज की दूरी बनाकर रखें। हाथों को सेनेटाइज करते रहना है। यदि किसी भी व्यक्ति को सर्दी, जुखाम, खांसी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ, सिरदर्द, भूख नहीं लगना, दस्त आदि के लक्षण हैं तो घर पर ही पारंपरिक उपचार नहीं लें। ऐसे में कई बार व्यक्ति ठीक होने की उम्मीद में 5 से 7 दिन गुजार देते है, जिससे बीमारी बढ़कर जटिल हो जाती है और
फिर अस्पताल में भर्ती करना पड़ता है।

Must See: उपचुनाव के बीच विधायक लक्ष्मण सिंह ने फिर उठाए कांग्रेस पर सवाल

ऐसी स्थिति में कोविड-19 की जांच पॉजिटिव आती है तो उपचार जटिल हो जाता है। ऐसे मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट या आइयीयू में भर्ती करना जरूरी हो जाता है, इसलिए सर्दी, खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ, सिरदर्द, हाथ-पैरों में दर्द, शरीर में ऐठन, भूख नहीं लगना, सूघंने में स्वाद का पता नहीं लगना आदि लक्षण हैं तो तत्काल चिकित्सक से परामर्श लें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.