scriptIndian Army soldier Anil Verma cremated with full military honors at Lasudia Parihar village | पंच तत्व में विलीन हुआ एमपी का लाल, लद्दाख में हुए थे शहीद, सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार | Patrika News

पंच तत्व में विलीन हुआ एमपी का लाल, लद्दाख में हुए थे शहीद, सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

locationसीहोरPublished: Feb 12, 2024 06:54:17 pm

Submitted by:

Faiz Mubarak

भारतीय सेना के जवान अनिल वर्मा को उनके गृह ग्राम लसुड़िया परिहार में सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। लद्दाक में ड्यूटी के दौरान उनका निधन हो गया था।

news
पंच तत्व में विलीन हुआ एमपी का लाल, लद्दाख में हुए थे शहीद, सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

मध्य प्रदेश के सीहोर जिले के रहने वाले भारतीय सेना के जवान, सूबेदार अनिल वर्मा की सोमवार को उनके गृह ग्राम लसुड़िया परिहार में पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया है। इस मौके पर भारतीय सेना के जवानों ने गॉड ऑफ ऑनर दिया। इससे पहले गांव में निकली उनकी अंतिम यात्रा में जन सैलाब उमड़ पड़ा। हजारों लोगों ने नम आंखों से बलिदानी को अंतिम विदाई देने आए। अंतिम यात्रा में मध्य प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री करण सिंह वर्मा भी शामिल हुए।

आपको बता दें कि सूबेदार अनिल वर्मा 10 फरवरी 2024 को लद्दाक के लेह में ड्यूटी करते हुए शहीद हो गए थे। उनके निधन की खबर जैसे ही उनके गांव पहुंची, पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ पड़ी। उनका पार्थिव शरीर इंडिगो फ्लाइट से भोपाल पहुंचाया गया, जहां से सुबह करीब 7 बजे पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव सीहोर के लसूड़िया परिहार के लिए रवाना हुआ था। लसूड़िया परिहार और आस-पास के गावों के सैकड़ों लोग उनके अंतिम दर्शन पाने के लिए अलसुबह से गांव पहुंच गए थे। इसके बाद पैतृक निवास से अंतिम यात्रा निकाली गई, जिसके बाद उनका पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार हुआ। इस मौके पर हजारों लोग मौजूद रहे।

jawan.jpg

प्रदेश के राजस्व मंत्री करण सिंह वर्मा ने उनके गृह ग्राम लसूड़िया परिहार पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की। जिला प्रशासन की ओर से कलेक्टर प्रवीण सिंह, एसपी मयंक अवस्थी सहित अनेक सेना एवं जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों तथा जनप्रतिनिधियों ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए। इस दौरान राजस्व मंत्री करण सिंह वर्मा ने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि अपने कर्तव्य को निभाते हुए अनिल वर्मा ने अपने प्राण त्याग दिए। भारत माता के ऐसे वीर सपूतों के कारण ही हम सभी और पूरा देश सुरक्षित है। मंत्री वर्मा ने कहा कि वीर सपूत अनिल वर्मा के माता-पिता को भी प्रणाम करता हूं। मंत्री ने प्रदेश सरकार की ओर से 11 लाख रुपये तथा स्वयं अपनी ओर से पांच लाख रुपये वीर सपूत वर्मा के परिजनों को प्रदान करने के साथ ही उनकी स्मृति में ग्राम वासियों से चर्चा कर भव्य स्मारक बनाने की बात कही।

यह भी पढ़ें- दर्दनाक हादसा : ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटने से 2 लोगों की मौत, एक दर्जन गंभीर


शोक में डूबा पूरा गांव

ग्राम लसूड़िया परिहार के सरपंच के अनुसार, अनिल वर्मा लसूड़िया परिहार गांव के पहले सैनिक थे, जो सेना में चयनित हुए थे। उनके दो बच्चे हैं, जिसमें 18 साल का बेटा और 14 साल की बेटी है। अनिल वर्मा 25 साल से सेना में अपनी सेवा दे रहे थे। उनकी मौत की सूचना से पूरे गांव में शोक है।

ट्रेंडिंग वीडियो