script चार मौतों से गुस्साया क्षत्रिय समाज, दहशत में बाजार हो गया बंद, देखें Video | Magrauni market in Narwar closed due to Pohari murder case | Patrika News

चार मौतों से गुस्साया क्षत्रिय समाज, दहशत में बाजार हो गया बंद, देखें Video

locationशिवपुरीPublished: Nov 24, 2023 12:11:17 pm

Submitted by:

deepak deewan

शिवपुरी जिले की नरवर तहसील के ग्राम चक्रामपुर में हुए हत्याकांड में चार मौतों के बाद क्षत्रिय समाज में नाराजगी है। शुक्रवार को क्षत्रिय समाज के युवा जब बाजार में घूमे तो दहशत के कारण मगरौनी का बाजार खुलने के साथ ही बन्द हो गया। क्षेत्र में बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात किया गया है। इस मामले में पुलिस 16 लोगों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

narwar_market.png
मगरौनी का बाजार खुलने के साथ ही बन्द हो गया
शिवपुरी जिले की नरवर तहसील के ग्राम चक्रामपुर में हुए हत्याकांड में चार मौतों के बाद क्षत्रिय समाज में नाराजगी है। शुक्रवार को क्षत्रिय समाज के युवा जब बाजार में घूमे तो दहशत के कारण मगरौनी का बाजार खुलने के साथ ही बन्द हो गया। क्षेत्र में बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात किया गया है। इस मामले में पुलिस 16 लोगों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।
बीते 17 नवंबर को मतदान के बाद भदौरिया परिवार पर कुशवाह समाज के लोगों ने जानलेवा हमला कर दिया था। इस हमले में भदौरिया परिवार के तीन लोगों आशा भदौरिया, उनके देवर लक्ष्मण भदौरिया, भतीजे हिमांशु सेंगर की 18 नवंबर को मौत हो गई थी। आशा के पति मुन्ना भदौरिया ने गुरुवार को दम तोड़ दिया।
मुन्ना भदौरिया का शव नरवर-मगरौनी पहुंचेगा जहां उनके अंतिम संस्कार की तैयारी की जा रही है। इधर भदौरिया परिवार के चार लोगों की मौत के बाद क्षत्रिय समाज में रोष व्याप्त है। अंतिम संस्कार में शामिल होने आए क्षत्रिय समाज के युवा सुबह जब बाजार में घूमे तो मगरौनी का बाजार खुलने के साथ ही बन्द हो गया।
इधर तनाव को देखते हुए पुलिस भी सतर्क हो गई है। क्षेत्र में बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात किया गया है। इस मामले में पुलिस ने 16 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।
पोहरी विधानसभा में हमले में घायल भदोरिया परिवार के मुखिया मुन्नालाल भदोरिया ने घटना के सात दिन बाद अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। वे कई दिनों से वेंटीलेटर पर थे।

चक्रामपुर में दो फर्जी वोटों को लेकर हुए विवाद में भदोरिया परिवार पर हमला किया गया था। 17 नवंबर को वारदात में मुन्नालाल की 42 साल की पत्नी आशा देवी, 45 साल के छोटे भाई लक्ष्मण और 20 साल के भतीजे हिमांशु उर्फ अमरसिंह की भी जान जा चुकी है। इस हत्याकांड में चौथी मौत हो गई। 50 साल के मुन्नालाल भदोरिया की सांसे भी उखड़ गईं।
मृतक पक्ष की मांग के बाद आरोपियों के घरों को जमींदोज कर दिया गया है। दोनों परिवारों में पुरानी रंजिश थी जिसे चुनावी विवाद ने हवा दे दी। भदोरिया परिवार के लोगों का कहना है कि दो फर्जी वोट डाले जा रहे थे जिसे रोका गया। इससे नाराज कुशवाह परिवार के लोगों ने भदोरिया परिवार को जिंदा जलाने की कोशिश की और फिर बाद में लोगों को पीट-पीट कर मार डाला।

ट्रेंडिंग वीडियो