scriptबारिश से शिवपुरी-ग्वालियर रेलवे ट्रेक क्षतिग्रस्त, आवागमन पूरी तरह से ठप | Shivpuri-Gwalior railway track damaged due to rain | Patrika News

बारिश से शिवपुरी-ग्वालियर रेलवे ट्रेक क्षतिग्रस्त, आवागमन पूरी तरह से ठप

locationशिवपुरीPublished: Aug 04, 2021 10:37:19 pm

Submitted by:

rishi jaiswal

रेलवे की पटरी को मजबूत बेस बनाने के बाद डाली जाती है, लेकिन शिवपुरी में पिछले चार दिनों से हो रही बारिश के बाद आया पानी का तेज फ्लो पटरी के नीचे का पूरा मटेरियल अपने साथ बहा ले गया।

बारिश से शिवपुरी-ग्वालियर रेलवे ट्रेक क्षतिग्रस्त, आवागमन पूरी तरह से ठप
बारिश से शिवपुरी-ग्वालियर रेलवे ट्रेक क्षतिग्रस्त, आवागमन पूरी तरह से ठप
शिवपुरी. रेलवे की पटरी को मजबूत बेस बनाने के बाद डाली जाती है, लेकिन शिवपुरी में पिछले चार दिनों से हो रही बारिश के बाद आया पानी का तेज फ्लो पटरी के नीचे का पूरा मटेरियल अपने साथ बहा ले गया। स्थिति यह बनी कि रेल की पटरी हवा में लटक गई। रेलवे ट्रेक के उखडऩे से शिवपुरी-ग्वालियर रेलवे ट्रेक पर आवागमन पूरी तरह से ठप हो गया। रेलवे की इंजीनियर टीम ट्रेक की रिपेयरिंग में अभी से जुट गई, लेकिन बारिश रुकने के बाद भी ट्रेक को फिर से चालू होने में लगभग एक माह का समय लग सकता है।

गौरतलब है कि शिवपुरी जिले में सोमवार की रात को भिंड-रतलाम एक्सप्रेस जब पाडरख़ेड़ा पर पहुंची तो वहां पर आसपास पहाड़ों से आया पानी ट्रेक पर भर जाने की वजह से ट्रेन को वहीं पर रोक दिया गया। ट्रेन में फंसे यात्री भूख-प्यास से व्याकुल रहे तथा ट्रेक पर पानी अधिक होने की वजह से ट्रेन को आगे नहीं बढ़ाया जा सका। यह तो शुक्र है कि मंगलवार की सुबह ही ट्रेन को वापस ले जाया गया, क्योंकि उसके बाद आसपास के पहाड़ी क्षेत्र से पानी का फ्लो इतना तेज आया कि रेल की पटरी की पहले गिट्टियां और फिर उसके नीचे मिट्टी के बेस को पानी अपने साथ तेज फ्लो में बहाकर ले गया। एक बार जब रेल की पटरी के नीचे से पानी बहना शुरू हुआ तो फिर धीरे-धीरे करके पटरियों का जमीन से संपर्क टूटना शुरू हो गया और बुधवार की सुबह रेल की पटरी पूरी तरह से हवा में लटकती नजर आई। रेल की पटरी में हवा में झूल जाने की वजह से अब इस ट्रेक पर ट्रेनों की आवाजाही पूरी तरह से ठप हो गई। बारिश के दौरान ही रेलवे की इंजीनियर टीम ट्रेक को सुधारे जाने की संभावनाएं तलाशने मौके पर पहुंच गई।
पाडरखेड़ा-मोहना के बीच रेल ट्रैक का सुधार कार्य जारी

पश्चिम मध्य रेल, भोपाल मंडल के गुना-ग्वालियर रेल खण्ड पर शिवपुरी-ग्वालियर क्षेत्र में गत दिनों से हो रही लगातार बारिश के चलते पाडरखेड़ा-मोहना के बीच क्षतिग्रस्त रेल लाइन के सुधार का कार्य युद्ध स्तर पर जारी है। रेलवे मंडल ने यह दावा करते हुए कहा है कि इस क्षेत्र में रुक रुक कर लगातार हो रही बारिश के कारण सुधार कार्य में अवरोध उत्पन्न हो रहा है। इसके बावजूद मंडल के इंजीनियर साइट पर डटे हुए हैं और इस खंड पर यातायात के शीघ्र बहाली के लिए अपनी टीम के साथ प्रयासरत हैं।
रेलकर्मियों को पुरस्कार देने की घोषणा
महाप्रबंधक पश्चिम मध्य रेल, शैलेन्द्र कुमार सिंह ने बीते 2 अगस्त को ग्वालियर-रतलाम स्पेशल को सुरक्षित रूप से पाडरखेड़ा स्टेशन तक पहुंचाने वाले चालक दल तथा ग्वालियर-शिवपुरी क्षेत्र में लगातार हो रही भारी बारिश में ट्रैक की पेट्रोलिंग कर रहे रेल पथ निरीक्षक रमेश बैरवा एवं पेट्रोल मैनों/गैंग मैनों को सामूहिक पुरस्कार देने की घोषणा की है। ज्ञात हो कि गत कई दिनों से ग्वालियर-शिवपुरी क्षेत्र में लगातार भारी बारिश का क्रम जारी है। बीते 2 अगस्त को रेल पथ निरीक्षक रमेश बैरवा अपनी पेट्रोल मैन की टीम के साथ मोहना-पाडरख़ेड़ा रेल खंड की पेट्रोलिंग कर रहे थे। पेट्रोलिंग के दौरान देखा कि भारी बारिश के कारण पानी ट्रैक के ऊपर से बह रहा है। उन्होनें किसी संभावित खतरे को भांप कर अपनी सूझ बूझ और तत्परता से तुरंत इसकी सूचना संबंधित अधिकारियों एवं मंडल नियंत्रण कार्यालय को दी। उसी समय गाड़ी ग्वालियर से रतलाम के लिए रवाना हो चुकी थी। ट्रैक पर जल भराव की सूचना तुरंत गाड़ी के चालक दलों को दी गई। गाड़ी पर भोपाल मंडल के लोको पायलट (गुना) भरतलाल मीना, सहायक लोको पायलट (गुना) भूपेंद्रलाल मीना तथा गार्ड राजेश दुबे ड्यूटी कर रहे थे। चालक दलों ने अपने अनुभव और समझदारी से गाड़ी को सुरक्षित रूप से पाडरखेड़ा स्टेशन तक पहुंचाया। महाप्रबंधक ने अपने इन सभी कर्मचारियों की सूझबूझ, तत्परता और कर्तव्यनिष्ठा से प्रभावित होकर समूह पुरस्कार देने की घोषणा की है। जिसमें रेल पथ अनुरक्षण एवं पेट्रोलिंग से जुड़े कर्मचारियों को रुपए 25 हजार तथा चालक दल को रुपए 15000 का सामूहिक पुरस्कार देने की घोषणा की है।

ट्रेंडिंग वीडियो