scriptShradh Paksha Special: Shradh will run for 16 days from tomorrow | श्राद्धपक्ष विशेष : कल से 16 दिन तक चलेंगे श्राद्ध | Patrika News

श्राद्धपक्ष विशेष : कल से 16 दिन तक चलेंगे श्राद्ध

श्राद्ध में पितरों की बनेगी कृपा, ऐसे करें तर्पण

इस बार 16 दिन रहेंगे श्राद्ध, 16 साल बाद बना यह संयोग

सिरोही

Published: September 09, 2022 03:26:19 pm

सिरोही. भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा मसलन 10 सितम्बर से श्राद्ध शुरू होंगे। जो 25 सितम्बर को सर्व पितृ अमावस्या तक चलेंगे। श्राद्ध में अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति और पितृ दोष से मुक्ति के लिए पितरों के तर्पण, पिंडदान और श्राद्ध का विधान है। मान्यता के मुताबिक पितृ पक्ष के समय हमारे पूर्वज स्वर्गलोक से धरती पर अपने परिजनों से मिलने आते हैं। पितरों के प्रसन्न होने पर उनकी कृपा से जीवन में सुख-समृद्धि आने की मान्यता है। वहीं पितृपक्ष में कुछ करने करने की मनाही होती है। सारणेश्वर धाम के भविष्यवक्ता अशोक एम. पंडित ने बताया कि इस साल श्राद्ध पक्ष 15 दिन की बजाए 16 दिन रहेंगे। पितृपक्ष में ऐसा संयोग 2011 के बाद आया है।
भविष्यवक्ता अशोक एम. पंडित।
भविष्यवक्ता अशोक एम. पंडित।
श्राद्ध का महत्व

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पितृपक्ष में पितरों का श्राद्ध और तर्पण करने से उनकी आत्मा को शांति मिलती है। हमारे पूर्वज हमें आशीर्वाद देने आते हैं और उनकी कृपा से जीवन की तमाम समस्याएं खत्म हो जाती हैं। पितृपक्ष में श्राद्ध कर्म के अलावा जरूरतमंदों को दान देना भी फलदायी माना जाता है।
पितृ पक्ष में ये काम न करें

माना जाता है कि श्राद्ध पक्ष में आपके पितर आपसे मिलने के लिए किसी भी रूप में आपके घर आ सकते हैं। नतीजतन अपने घर की चौखट पर आए किसी भी व्यक्ति अथवा पशु का न तो अपमान करें और ना ही किसी को घर से भूखा जाने दें। घर में लड़ाई-झगड़ा करने से भी पितृ नाराज हो सकते हैं। शास्त्रों के अनुसार पितृ पक्ष में नए वस्त्र और आभूषण खरीदने, बाल कटवाने, दाढ़ी बनवाने, कोई नया या मांगलिक कार्य शुरू शुभ नहीं माना जाता। पितरों का तर्पण या श्राद्ध कभी भी तड़के, सुबह-शाम या रात में नहीं करना चाहिए। यह कर्म दिन में करना शुभ होता है।
कब किनका करें श्राद्ध

ऐसी मान्यता है कि पितृपक्ष में मृत्यु की तिथि के अनुसार श्राद्ध करना चाहिए। इसके मायने ये हुए कि जिस व्यक्ति की जिस तिथि पर मृत्यु हुई, उसी तिथि पर उसका श्राद्ध किया जाना चाहिए। अगर किसी की मृत्यु की तिथि की जानकारी नहीं है, तो उसका श्राद्ध सर्वपितृ अमावस्या पर किया जा सकता है।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Operation Chakra: साइबर फ्रॉड को लेकर CBI की देशभर में बड़ी कार्रवाई, 105 ठिकानों पर चल रही छापेमारीUttarakhand News: द्रौपदी का डांडा में हिमस्खल में पर्वतारोहण संस्थान के 29 ट्रेनी बर्फ में फंसे, 8 को रेस्क्यू किया, 21 अभी भी लापतामातम में बदली दुर्गा पूजा की खुशियां, गुजरात के वडोदरा में भीषण सड़क हादसा, 10 लोगों की मौतअमरीका में जनरल बाजवा का राजनाथ सिंह जैसा भव्य स्वागत, भारत के लिए है कितनी चिंता की बात?KCR की नेशनल पार्टी लॉन्चिंग से पहले TRS नेता ने लोगों में बांटी शराब की बोतलें और मुर्गियां, देखिए VIDEOकर्नाटकः दूसरी जाति के लड़के से बेटी ने की शादी, मनाने पर भी नहीं लौटी तो माता-पिता और भाई ने त्याग दिए प्राण'मोदी-मोदी के नारे... खून की नदियां बह जाएगी कहने वालों को जवाब', अमित शाह की रैली में क्या हुआ ऐसा?Jio Book: जियो ने पेश किया अपना पहला और सबसे सस्ता लैपटॉप! जानिये कब से शुरू होगी बिक्री
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.