मां काली के इस मंदिर में अमावस्या पर आती है डायन, होती है भक्तों की हर मुराद पूरी

मां काली के इस मंदिर में अमावस्या पर आती है डायन, होती है भक्तों की हर मुराद पूरी

Tanvi Sharma | Publish: Dec, 02 2018 04:20:11 PM (IST) मंदिर

मां काली के इस मंदिर में अमावस्या पर आती है डायन, होती है भक्तों की हर मुराद पूरी

आस्था के द्वार माता पोहलानी का मंदिर डलहौजी में डैनकुंड की खुबसूरत वादियों में बसा हुआ है। माता के इस दरबार में लोगों की भारी आस्था जुड़ी हुई है। हिमाचल प्रदेश के जिला चंबा के डलहौजी से 12 km की दूरी पर खूबसूरत वादियों के बीच स्थित इस मंदिर में मां काली का रुप पोहलानी स्थापित है। पोहलानी देवी पहलवानों की देवी कही जाती हैं। वैसे तो यहां हमेशा ही भक्तों का तांता देवी दर्शन के लिए लगा रहता है लेकिन नवरात्रि के मौके पर यहां अथाह भीड़ देखने को मिलती है। भक्त यहां अपनी मुरादें लेकर आते हैं उनका मानना है की यहां आने वाले हर भक्त की मन्नत पूरी जरुर होती है। मन्नत पूरी होने पर भक्त देवी को धन्यवाद देने भी आते हैं। मंदिर से काफी लोगों की आस्‍था जुड़ी हुई हैं। कहा जाता है कि हजारों वर्ष पहले इस डैनकुण्ड की पहाड़ी के उस मार्ग से कोई भी नहीं आ जाता था, क्योंकि इस पहाडीं पर राक्षसों का वास था। माता काली जी ने पहलवान के रुप में आकर उन राक्षसों का संहार किया तब से इस मंदिर का नाम पोहलवानी पड़ा। कहते है डेनकुण्ड नामक जगह पर डायने रहती थी यंहा पर आज भी कुंड देखे जा सकते हैं। लोगों का मानना है कि डैन अमावस्या पर यहां आज भी डायने आती हैं।

pohlani devi mandir

पौराणिक कथाओं के अनुसार

पौराणिक कथाओं के अनुसार लोगों पर बढ़ रहे अत्याचार को देखकर माता महाकाली से रहा नहीं गया और वह डैन कुंड की इन्ही पहाड़ियों पर एक बड़े से पत्थर से बाहर प्रकट हुई पत्थर के फटने की आवाज दूर दूर तक लोगों को सुनाई दी कन्या रूपी माता की हाथ में त्रिशूल था और यंही पर माता ने राक्षसों से एक पहलवान की तरह लड़ कर उनका वध किया तभी से यहाँ पर माता को पहलवानी माता के नाम से पुकारा जाने लगा। होवार के एक किसान को माता ने सपने में आकर कहा यहाँ पर माता का मंदिर स्थापित करने का आदेश दिया और उनके आदेशानुसार ही यहाँ पर माता के मंदिर की स्थापना की गई।

बेहतरीन पर्यटन स्थल है पोहलानी मंदिर

पोहलानी माता रखेड़ गांव के वाशिन्दों की कुल माता है इसके नजदीक खूबसूरत रखेड़ गांव पड़ता है जो काहरी पंचायत के अंदर आता है। यंही के लोगो की कमेटी मंदिर की देख रेख करती है। यह मंदिर हिमाचल प्रदेश के उत्तर पश्चिम भाग में 2200 मीटर की उंचाई पर स्‍थित है। गमियों जहां पर्यटक यहां की ठण्डी हवाओं का लुप्त उठाते है तो वहीं सर्दी के मौंसम में बर्फ से ढ़के पहाडों का नजारा देखते ही बनता है। सर्दियों में ये मंदिर और इसके आसपास वर्फ़ की मोटी चादर बिछ जाती है, जिससे नजारा बहुत ही मनमोहक हो जाता है। दूर दूर तक वर्फ़ ही नज़र आती है उस समय यहां पंहुचना बहुत कठिन हो जाता है। यहां से चारों ओर का नजारा दिखाई देता है।

Ad Block is Banned