सांसद व विधायक ने दिया धरना, नाबालिग से सामूहिक बलात्कार के आरोपियों को फांसी की मांग

5 मई को एक नाबालिग के साथ हुए बलात्कार मामले में सांसद व विधायक के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने अपराधियों को फांसी की सजा दिलाने की मांग करते हुए पीडि़ता के परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग करते मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

By: pawan sharma

Published: 08 May 2020, 09:47 PM IST

मालपुरा. उपखंड के एक ग्राम में 5 मई को एक नाबालिग के साथ हुए बलात्कार मामले में जांच अधिकारी द्वारा पीडि़ता बालिका को डरा धमकाकर बयान लेने, महिला चिकित्सक द्वारा डॉक्टरी मुआयने के दौरान पीडि़ता के साथ अभद्रता पूर्ण व्यवहार करने करने की बात सामने आने पर शुक्रवार को सांसद व विधायक के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कार्यालय के बाहर धरना देकर जांच अधिकारी बदलने एवं चिकित्सक के खिलाफ कार्यवाही करने तथा पीडि़ता को उचित मुआवजा दिलाने की मांग करते हुए धरना दिया।


नाबालिग के साथ हुए दुष्कर्म मामले में सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरिया, विधायक कन्हैया लाल चौधरी, जिला महामंत्री नरेश बंसल, रामचंद्र गुर्जर, एससी मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष सतीश चंदेल, जिला मंत्री नरेंद्र जैन, शहर मंडल अध्यक्ष त्रिलोक चंद जैन, पूर्व मंडल अध्यक्ष टोंक विष्णु शर्मा, पूर्व विधायक राजेंद्र गुर्जर सहित कई लोगों द्वारा शुक्रवार को पीडि़त परिवार की कुशल क्षेम पूछने पहुंचने पर परिवारजनों द्वारा बताया गया कि मामले के जांच अधिकारी एससी-एसटी सेल प्रभारी पुलिस उप अधीक्षक द्वारा बयानों के दौरान पीडि़ता को डराने-धमकाने की बात सामने आने पर सभी भडक़ गए तथा वहां से सभी जनप्रतिनिधि मालपुरा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कार्यालय के बाहर धरना देकर बैठ गए तथा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोवर्धन लाल सोकरिया से मामले में जांच अधिकारी बदलने की मांग के साथ उपखंड अधिकारी डॉ राकेश कुमार मीणा को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

यह रही पांच सूत्री मांग
ज्ञापन में पीडि़ता को अलवर जिले के थानागाजी में दुष्कर्म पीडि़ता को दिया गया पैकेज दिलाने, पूर्व में पीडि़ता के लिए गए 16 1 के बयानों को दोबारा कराने एवं मामले के जांच अधिकारी को बदलने साथ ही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मालपुरा में पीडि़ता के डॉक्टरी मुआयने के दौरान महिला चिकित्सक द्वारा किया गया अभद्रता पूर्ण व्यवहार की जांच कराने एवं अपराधियों को फांसी की सजा दिलाने की मांग करते हुए पीडिता के परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग करते मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

वहीं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक द्वारा पीडि़ता के 16 1 के बयान परिवारजनों की मौजूदगी में पचेवर थाने में कराने के आश्वासन दिए जाने के बाद लगभग 2 घंटे बाद धरने से जनप्रतिनिधि उठे। वहीं दूसरी ओर टोंक के पूर्व विधायक अजीत मेहता, पूर्व प्रधान जगदीश गुर्जर, पूर्व जिलाध्यक्ष गणेश माहुर, दीपक संगत कई युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं के साथ पीडि़त परिवार को ढांढस बंधाया। पूर्व विधायक मेहता ने कहा कि पीडि़त बालिका को उचित न्याय दिलाने के लिए हम सभी साथ हैं

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned