बड़ी ही दुर्लभ बीमारी से जूझ रहा बच्चा, काटने के बाद भी बढ़ती ही जा रही है जीभ

  • तीन साल के बच्चे ओवेन को है बेहद दुर्लभ बीमारी
  • इस बच्चे की जीभ सामान्य से चार गुना लंबी है
  • इस बीमारी को बेकविथ-विडमैन सिंड्रोम (BWS) कहा जाता है

By: Pratibha Tripathi

Updated: 12 Feb 2021, 05:50 PM IST

नई दिल्ली। बच्चों के शरीर में जरा सी चोट भी लग जाए तो हर माता पिता का दिल दर्द से कराह उठता है। लेकिन जब बच्चा किसी दुर्लभ बीमारी से जूझ रहा हो तो, आप ही समझ सकते है कि उनके लिए दिन गुजारना भी कितना भारी पड़ जाता है। जैसा कि अमेरिका में रहने वाले एक दंपती को अपने तीन साल के बच्चे ओवेन की बीमारी से जूझना पड़ रहा है। ओवेन थॉमस नाम का यह बच्चे को एक बेहद दुर्लभ बीमारी(beckwith wiedemann syndrome) है। इस बीमारी को बेकविथ-विडमैन सिंड्रोम (BWS) कहा जाता है। इस बीमारी के होने से शरीर के कुछ हिस्सों में लगातार वृद्धि होती रहती है। यह स्थिति हजारों में से किसी एक बच्चे को होती है। इसी तरह से इस बच्चे के शरीर का एक अंग भी लगातार वद्धि कर रहा है और वो है इस बच्चे की जीभ, जो सामान्य से चार गुना लंबी है।

इस गांव के बच्चे घर पर नही पेड़ों और छतों पर पढ़ने को हैं मजबूर, जाने इसके पीछे की खास वजह

ओवेन के यह बीमारी जन्म ही शुरु हो गई थी। डॉक्टरों के द्वारा की गई जांच के बाद ओवेन की बीडब्ल्यूएस समस्या का पता चला। ओवेन को ना केवल जीभ के बढ़ने की समस्या है बल्कि उसे सांस लेने में भी तकलीफ रहती थी। कई बार तो वह सोते समय सांस लेना भी भूल जाता था जिससे उसे गले में घुटन होने लगती थी। बच्चे की समस्या को देखते हुए थेरेसा और उनके पति ने एक डिजिटल मॉनिटर लाया, जिसमें ओवेन की हृदय गति और ऑक्सीजन के स्तर की जाँच की गई जिसमें पता चला कि उनके बेटे को ठीक से ऑक्सीजन नहीं मिल रही है और इस मॉनीटर ने कई बार उसकी जान बचाई। थेरेसा के अनुसार, ओवेन की स्थिति ने भी उनके कैंसर की संभावना बढ़ गई है। इसलिए, हर तीन महीने में उनका अल्ट्रासाउंड और रक्त जांच की जाती है।

इसके बाद ओवेन की भी सर्जरी हुई है जिसमें उनकी दो इंच की जीभ काटकर अलग कर दी गई। इसके बाद ओवेन की नींद में भूलने की समस्या तो खत्म हो गई। लेकिन उसकी जीभ का विकास अभी तक कम नहीं हुआ है और डॉक्टर एक स्थायी समाधान की तलाश कर रहे है ताकि बच्चे की इस समस्या को भी दूर किया जा सके। और अन्य बच्चों की तरह समान्य जिंदगी जी सके।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned