भारत के Tamil Nadu में स्थित है बेहद रहस्यमयी चट्टान, साइंटिस्ट के लिए बनी चुनौती

  • 6 मीटर ऊंची और 5 मीटर चौड़ी इस चट्टान का वजन 250 टन है
  • इसे आज तक कोई हिला नहीं पाया है
  • 1200 वर्षों से साइंस को चुनौती दे रही है ये चट्टान

By: Pratibha Tripathi

Published: 13 Jan 2021, 10:15 PM IST

नई दिल्ली। दुनिया में कई ऐसी अजीबोगरीब चीजें हैं, जो रहस्यों से भरी पड़ी है। जिनेक बारे में जानने के लिए वैज्ञानिक भी लगातार रिसर्च कर रहे हैं। लेकिन इनके बारे में वो आज तक पता नही लगा पाए। ऐसी ही एक चट्टान साइंटिस्ट (Scientist) के लिए चुनौती बनी हुई हैं। जो 1200 वर्षों से साइंस को चैलेंज कर रही है। इस चट्टान को कृष्णा का बटरबॉल (Krishna's Butterball)के नाम से जाना जाता हैं। आइए जानते हैं इस बटरबॉल के पीछे का रहस्य।

क्या है बटरबॉल?

तमिलनाडु (Tamil Nadu) में स्थित महाबलिपुरम का कृष्णा बटरबॉल (Krishna's Butterball) एक विशाल ग्रेनाइट चट्टान (Mysterious Stone) है।जो 6 मीटर ऊंची और 5 मीटर चौड़ी होने के साथ वजन में 250 टन है यह ढलान पर स्थित होने के बाद भी इस तरह से चिपकी हुई है। कि अपनी जगह से अलग नही हो पा रही है। आप जान कर चौंक जाएंगे कि यह चट्टान पिछले 1200 वर्षों से इसी ढलान पर स्थित है। चट्टान का मूल नाम Vaan Irai Kal है, जिसका अर्थ है, 'आकाश के देवता का पत्थर'. इसे यूनेस्को (UNESCO) द्वारा विश्व धरोहर स्थल (World Heritage Site) की मान्यता प्राप्त है।

इसके पीछे का वैज्ञानिक तर्क

वैज्ञानिकों का मानना है कि धरती में आए प्राकृतिक बदलाव की वजह से इस तरह के असामान्‍य आकार के पत्‍थर का जन्‍म हुआ है। कुछ लोगों का दावा है कि पत्‍थर के न लुढ़कने की वजह घर्षण (Friction) और गुरुत्‍वाकर्षण (Gravity) है।

इसे हटाने की सारी कोशिशें नाकाम

इस पत्थर को हटाने के लिए कई तरह की कोशिशे की गई। यहा तक कि साल 1908 में महाबलिपुरम के गवर्नर आर्थर हैवलॉक ने सात हाथियों की मदद से इस चट्टान को दूसरी जगह पर रखने का प्रयास भी किया था, लेकिन चट्टान एक इंच भी नहीं हिली। यह पिछले 1200 वर्षों से हिली भी नहीं है! और इतने सालों से भूकंप, सुनामी, चक्रवात समेत कई प्राकृतिक आपदाओं के बाद भी अपने स्‍थान पर बनी हुई है।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned