यमुना और चम्बल नदी से सटे इन गांवों में ऐलानिया हो रहा अवैध खनन, सबने बंद कर ली हैं आँखें

यमुना और चम्बल नदी से सटे इन गांवों में ऐलानिया हो रहा अवैध खनन, सबने बंद कर ली हैं आँखें

Bhanu Pratap | Publish: Mar, 14 2018 09:02:41 AM (IST) Agra, Uttar Pradesh, India

अवैध खनन करने वालों के हौसले बुलंद, सेंचुरी क्षेत्र में खनन से घडियालों व वन्यजीवों को हो रहा है भारी नुकसान

आगरा। पिनाहट क्षेत्र में वन कर्मियों पर हमले के बाद भी बालू खनन का अवैध कारोबार घटने के बजाय दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है। देश की सर्वोच्च अदालत के आदेश की भी अवहेलना हो रही है। फिर भी ये कारोबार खूब फलफूल रहा है। खनन करने वालों को किसी का भी भय नहीं है। जहां खनन हो रहा है, वह सेंचुरी क्षेत्र है। इशसे वन्य जीवों और घड़ियालों को भी नुकसान हो रहा है। वन विभाग के कर्मचारी जब अवैध खनन रोकने का प्रयास करते हैं तो उन पर हमला कर दिया जाता है। इस तरह से भय का माहौल बनाकर अवैध खनन किया जा रहा है।

रातभर करते हैं खनन, किसी का भय नहीं

पिनाहट और मंसुखपुरा में चम्बल नदी से बसई अरेला में उटंगन नदी से और पिढ़ौरा यमुना नदी से बेखौफ रात्रि के अँधेरे में प्रतिबन्धित क्षेत्र में खुलकर ट्रैक्टरों से बालू खनन किया जा रहा है। खनन कराने वालों को किसी का भी भय नहीं है। थाना मंसुखपुरा के राजस्थान सीमा से सटे गांवों में खुलेआम खनन हो रहा है। खनन माफियाओं द्वारा खेतों में बड़े-बड़े बालू के स्टॉक तक बनाए गए हैं। वहीं थाना बसई अरेला के उटंगन के बीहड़ से बसई भदौरिया में रातभर खनन का खेल चलता है। ग्रामीणों की जान तक को खतरा है। रात में खनन कर निकलने वाले ट्रैक्टर पकड़ने के भय से बुरी गति से भागते हैं। रास्ते में आते जाते लोगों को भी नहीं देखते हैं। उप जिलाधिकारी (एसडीएम) बाह अरुण कुमार यादव ने बताया कि यदि रात्रि में उटंगन नदी व चम्बल नदी से हो रहे अवैध बालू खनन करने वालों के खिलाफ अभियान चलाया जाएगा।

ये हैं खनन के ठिकाने

बासौनी थाना क्षेत्र के गाँव उमरैठा व बासौनी, बसई अरेला थाना क्षेत्र के गाँव सेरव, अरनौटा, बसई भदौरिया व कांकर खेड़ा, पिढ़ौरा थाना क्षेत्र के गाँव कांकर, पिढ़ौरा व विजय गढ़ी, पिनाहट थाना क्षेत्र के गाँव विप्रावली, देवगढ़ , पडुआपुरा व क्यौरी, मंसुखपुरा थाना क्षेत्र के गाँव करकौली, तासौड, पलोखरा व मेदीपुरा में अवैध खनन चल रहा है।

 

Ad Block is Banned