समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के गठन के बाद मुलायम सिंह को लेकर शिवपाल का बड़ा बयान

समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के गठन के बाद मुलायम सिंह को लेकर शिवपाल का बड़ा बयान

suchita mishra | Publish: Sep, 16 2018 11:05:41 AM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 11:05:42 AM (IST) Agra, Uttar Pradesh, India

समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के अध्यक्ष शिवपाल यादव का कहना है कि अगर मुलायम सिंह उनका प्रस्ताव स्वीकार करते हैं तो वे लोकसभा चुनाव 2018 में उन्हें मैनपुरी जिले से सेक्युलर मोर्चे का पहला प्रत्याशी बनाया जाएगा।

आगरा। शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने के बाद अखिलेश यादव के खिलाफ मोर्चा खोलना शुरू कर दिया है। हाल ही उन्होंने समाजवादी पार्टी के संरक्षक और अपने बड़े भाई मुलायम सिंह को लेकर बड़ा बयान दिया है। शिवपाल यादव का कहना है कि अगर मुलायम सिंह यादव ने उनका प्रस्ताव स्वीकार कर लिया तो मैनपुरी जिले से वे समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के पहले प्रत्याशी होंगे।

ये है पूरा मामला
दरअसल शिवपाल यादव द्वारा समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के गठन के बाद से ही नेता जी को लेकर शिवपाल और अखिलेश के बीच खींचातानी मची हुई है। इसका कारण है कि प्रदेश में आज भी एक बड़ा तबका नेताजी का मुरीद है और वो उनके नाम पर वोट देता है। शिवपाल यादव का कहना है कि वे मुलायम सिंह को समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के अध्यक्ष पद का आॅफर देंगे। अगर इस आॅफर को वे स्वीकार कर लेते हैं तो इस बार के लोकसभा चुनाव 2019 में वे मैनपुरी जिले से समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के पहले प्रत्याशी बनेंगे।

भाजपा की गलतियों का मिलेगा फायदा
शिवपाल का कहना है कि उन्होंने बहुत सोच समझकर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाया है। नेता जी का आशीर्वाद उनके साथ है और पीछे हटने का सवाल नहीं उठता। उनका मानना है कि कि भविष्य में यादव महासभा और अधिकतर पूर्व विधायक उनका साथ देंगे। इस बीच उन्होंने भारतीय जनता पार्टी से किसी भी तरह के गठबंधन की अटकलों को गलत बताया। उनका कहना है भाजपा से हमारी विचारधारा नहीं मिलती इसलिए गठबंधन का सवाल ही नहीं उठता। शिवपाल का कहना है कि भाजपा ने लोगों के साथ किए वायदे को पूरा नहीं किया। जीएसटी और नोटबंदी जैसे फैसले बगैर सोचे समझे लिए। इससे जनता का बहुत नुकसान हुआ है। इस बार भाजपा का जनाधार गिरेगा, जिसका फायदा हमें मिलेगा।

Must Read - यूपी के हर जिले में बनेगा ऐसा थाना कि बिजली चोर थर्राएंगे, देखें वीडियो

Ad Block is Banned