SC ST Act: ठाकुरों के 22 गांव की महापंचायत में हुआ बड़ा फैसला, देवकीनंदन ठाकुर 11 सितंबर को करेंगे बड़ा ऐलान

SC ST Act: ठाकुरों के 22 गांव की महापंचायत में हुआ बड़ा फैसला, देवकीनंदन ठाकुर 11 सितंबर को करेंगे बड़ा ऐलान

Dhirendra yadav | Publish: Sep, 09 2018 06:28:54 PM (IST) Agra, Uttar Pradesh, India

आगरा में पुलिस ने क्षत्रियों को किया नजरबंद। क्षत्रियों ने दिखाई चालाकी, पुलिस की नजरों से बचकर की दूसरे स्थान पर पंचायत।

आगरा। एससी एसटी एक्ट पर गांव खंदौली के सैमरा में होने वाली 22 गांव के ठाकुरों की महापंचायत पुलिस ने रोक दी। पुलिस ने क्षत्रिय महासभा के लोगों को वाटर वक्र्स स्थित क्षत्रिय भवन में नजरबंद कर लिया, तो वहीं सैमरा गांव को भी पुलिस ने छावनी में तब्दील कर दिया। इसके बाद ठाकुरों द्वारा पुलिस की नजरों से छुपकर सैमरा से दो किलोमीटर दूर अपनी कुल देवी के मंदिर पर बैठक की। बैठक में बड़ा ऐलान किया गया।

यहां हुई बैठक, लिया गया बड़ा निर्णय
पुलिस ने क्षत्रियों को नजर बंद कर लिया, तो ठाकुरों के 22 गांव के लोगों ने बेहद चालाकी से बैठक का स्थान बदल दिया। ये बैठक चौहानों की कुलदेवी आशा पूर्णा देवी मंदिर पर हुई। बैठक में लोगों की संख्या महापंचायत जितनी नहीं थी, फिर भी संख्या अच्छी खासी थी। बैठक में निर्णय लिया गया कि अब बड़ा आंदोलन किया जायेगा। 11 सितंबर को देवकीनंदन ठाकुर सैमरा आ रहे हैं, उनके कार्यक्रम की तैयारियां चल रही हैं। क्षत्रिय महासभा ने ऐलान किया, कि झूठे मुकदमे बर्दाश्त नहीं किये जायेंगे।

sc st act 2018

क्षत्रियों में आक्रोश
वहीं पुलिस द्वारा क्षत्रिय महासभा के भवन पर नजरबंद किये जाने से क्षत्रिय समाज में आक्रोश है। क्षत्रिय महासभा के महामंत्री एके सिंह ने कहा कि मासिक बैठक का आयोजन किया जा रहा था, इसी दौरान पुलिस प्रशासन भवन में पहुंच गया। भवन के नीचे वाले हॉल को जेल बना दिया गया। वहीं पर सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे तक क्षत्रिय सभा के 50 से अधिक पदाधिकारी और सदस्यों को नजरबंद रखा गया।

लोकतंत्र की हत्या
महामंत्री एके सिंह ने बताया कि ये लोकतंत्र की हत्या है। कोई व्यक्ति अपने घर में बैठकर भी चर्चा नहीं कर सकता है। पुलिस प्रशासन का रवैया बेहद दुखद था। उन्होंने बताया कि क्षत्रिय महासभा इस प्रकार से डरने वाली नहीं है। आगामी समय में बैठक कर जो आंदोलन चल रहा है, उसकी रणनीति बनाई जायेगी। आने वाले समय में संगठन चुप नहीं बैठेगा।

Ad Block is Banned