अजमेर.
राजस्थान के धार्मिक शहर अजमेर के दरगाह क्षेत्र में एक सनसनीखेज मामला सामने आया तो कई लोगों के पैरों तले जमीन खिसक गई। वन विभाग की टीम ने एक ऐसे शख्स को पकड़ा है जो हजारों मृत बिच्छुओं के साथ रहता था। यह शख्स है बिच्छु बाबा, जो हजारों मृत बिच्छुओं के साथ पकड़ा गया। यह शख्स मृत बिच्छुओं से दवा बनाकर लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ कर रहा था।

वन विभाग की टीम ने अजमेर में छापामार कार्रवाई तो इसके ठिकाने में हजारों मृत बिच्छू पाए गए। एक साथ हजारों बिच्छू देखकर वन विभाग के अफसर भी हैरत में पड़ गए। टीम ने कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर कार्रवाई की।


शुक्रवार को वन विभाग ने हजारों मृत बिच्छू और उससे निर्मित दवाओं की खरीद-फरोख्त मामले में गिरफ्तार आरोपी को अदालत में पेश किया। अदालत ने उसे २२ अगस्त तक न्यायिक अभिरक्षा में भेजने के आदेश दिए।

READ MORE : पुलिस ने बीच रास्ते रोकी तिरंगा रैली


दरगाह के आमबाव इलाके में बिच्छू बाबा की जड़ी-बूटियों, नगीनों और जीव-जंतुओं की दवा बेचने की दुकान है। वह लम्बे समय से मृत बिच्छुओं की दवा बनाकर बेचने का काम रहा है। वन विभाग की टीम को गुरुवार को उसकेघर और दुकान पर छापा मारा। यहां हजारों की संख्या में मरे हुए बिच्छू और इनके तेल से निर्मित दवाएं मिली। इस दौरान दो जिंदा बिच्छू भी बरामद किए गए।

READ MORE : Dfcc: डीएफसीसी ट्रेक में अटकी 10 हजार की ‘जिदंगी’

 


वन विभाग ने बिच्छू बाबा की दुकान पर काम करने वाले सलीम ऊर्फ बिच्छू बाबा को शुक्रवार को अदालत में पेश किया। अदालत ने उसे २२ अगस्त तक न्यायिक अभिरक्षा में भेजने के आदेश दिए। उसे वन्य जीव अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया था।


विभाग ने सीज की दुकान !
वन विभाग ने बिच्छू सहित उससे निर्मित तेल-दवाएं जब्त कर ली। साथ ही बिच्छू बाबा की दुकान को सीज कर दिया। रेंजर सुधीर माथुर ने बताया कि दुकान से जब्त सामान रेंज कार्यायलय में रखवाया गया है। उच्चाधिकारियों को इससे अवगत कराया गया है। उधर दुकान संचालक हकीम एस. के. अनवर उर्फ बिच्छू बाबा को बंगाल जाना बताया गया। संभवत: विभाग उसके खिलाफ भी वन्य जीव अधिनियम में मामला दर्ज करा सकता है।


इनका कहना है...
गिरफ्तार व्यक्ति को अदालत ने न्यायिक अभिरक्षा में भेजा है। दुकान को सीज किया है। मृत बिच्छू और उनसे निर्मित दवाओं के मामले की छानबीन जारी है। विभिन्न एंगल से जांच की जाएगी।
-सुदीप कौर, उप वन संरक्षक, वन विभाग

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned