उपभोक्ताओं को परेशानी नहीं हो इसलिए सेवानिवृति के बाद भी दे रहे सेवा

बीएसएनएल के 80-100 कर्मचारी स्वे'छा से आ रहे काम पर

महाप्रबन्धक की अपील का असर

अजमेर. जिले में बीएसएनएल bsnl के उपभोक्ताओं Consumers को परेशानी नहीं हो इसके लिए पिछले माह एक साथ सेवानिवृतretirement हुए बीएसएनएल के 179 कर्मचारियों में से 80-100 कर्मचारी स्वे'िछक रूप से अपनी सेवाएं serviceफिर से दे रहे हैं। कर्मचारियों के फिर से मोर्चा संभालने के कारण बीएसएनएल की सेवाओं पर असर नहीं पड़ा है। पिछले माह जिले में बीएसएलएन के कुल 377 कर्मचारियों में 179 ने एक साथ वीआरएस ले लिया था। बीएसएनएल अधिकारियों का कहना है अब जिले में बीएसएनएल के पास केवल 138 कर्मचारी ही हैं। एेसे में एक साथ आधे से अधिक कर्मचारियों के सेवानिवृत हो जाने से बीएसएनएल की सेवाएं प्रभावित होने का अंदेशा था लेकिन कर्मचारियों की स्वे'िछक सेवा से परेशानी नहीं आई है।

अब आपके कुछ देने का समय है

सेवानिवृत कार्यक्रम में बीएसएनएल के महाप्रबन्धक आर.के.चौहान ने सेवानिवृृत कर्मचारियों से अपील करते हुए कहा कहा था कि बीएसएनएल ने आपको बहुत कुछ दिया है आप के भी बीएसएनएल को कुछ देने का समय है। महाप्रबन्धक की अपील के बाद बड़ी संख्या में कर्मचारी स्वै'िछक रूप से सेवा दे रहे हैं। वहीं कई कर्मचारियों ने भरोसा दिया है कि उन्हें जब भी बुलाया जाएगा वह सेवा देने के लिए उपलब्ध हो जाएंगे।

मार्केटिंग पर असर

महाप्रबन्धक ने बताया कि आधे से अधिक कर्मचारियों के एक साथ सेवानिवृत होने के बावजूद बीएसएनएल की मोबाइल सेवा पर असर नहीं पड़ा है। सेल्स व मार्केटिंग जरूर प्रभावित है। इसके लिए आउट सोर्सिंग की जा रही है। आगारागेट एक्सचेंज मेंटीनेंस के लिए टेंडर अप्रूव किया गया है।

जीपीएफ का भुगतान शुरु

सेवानिवृत हुए कर्मचारियों को उनका जीपीएफ का पेमेंट मिलना शुरु हो गया है। कर्मचारियों को एक्सग्रेसिया, वीआरएस के अंगेस्ट मिलने वाला भुगतान तथा छुट्टियों का पैसा मिलना है। सेवानिवृत होने वाले कर्मचारियों को बीएसएनएल करीब 54 करोड़ रुपए का भुगतान एक साथ करेगा।

घाटे में आएगी कमी

जिले में बीएसएनएल को एक माह में ढाई करोड़ का राजस्व मिलता है जबकि तीन करोड़ रुपए कर्मचारियों के वेतन भत्तों पर ही खर्च हो जाते हैं। 179 कर्मचारियों सेवा निवृत होने के बाद बीएसएनएल अजमेर को प्रतिमाह डेढ़ करोड़ रुपए की तनख्वाह कर्मचारियों को नहीं देनी पड़़ेगी इससे बीएसएनएल का घाटा कम होगा।
फैक्ट फाइल

जिले में बीएसएनएल के 68 एक्सचेंज हैं। इनमें किशनगढ़,नसीराबाद, ब्यावर और अजमेर में कार्यालय हैं। कार्यालयों के बिजली-पानी व किराए आदि पर ही लाखों रुपए प्रतिमाह खर्च होतें। जिले में बीएसएनएल के पास 28 हजार बेसिक फोन उपभोक्ता तथा डेढ़ लाख बीएसएनएल के मोबाइलधारक उपभोक्ता हैं।

read more:निगम की रिव्यू याचिका पर 21 दिन पुराने आदेश निष्प्रभावी

bsnl
bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned