स्मार्ट सिटी में अभियंता ही चुन रहे ‘अभियंता ’

गत वर्ष साक्षात्कार कमेटी में एक आईएएस सहित दो अफसर थे

स्मार्ट सिटी

By: bhupendra singh

Published: 07 Sep 2020, 07:04 AM IST

अजमेर.स्मार्ट सिटी लिमिटेड में रिक्त पदों को प्रतिनियुक्त से भरने के लिए सोमवार को स्मार्ट सिटी में साक्षात्कार का आयोजित किया जाएगा। अधिशाषी अभियंता सिविल,अधिशाषी अभियंता विद्युत,सहायक अभियंता,कनिष्ठ अभियंता के एक-एक पद,कनिष्ठ लेखाकार के दो,एक निजी सहायक व एक क्लर्क का एक पद प्रतिनियुक्ति से भरा जाएगा। प्रतिनियुक्ति के पदों के अभियंताओं का साक्षात्कार स्मार्टसिटी के मुख्यअभियंता तथा बिना पद के ही अतिरिक्त मुख्य अभियंता का काम कर रहे अधीक्षण अभियंता व एडीए में अपने कामकाज को लेकर चर्चित रहीं वित्तीय सलाहकार की कमेटी लेगी। हालांकि गत वर्ष स्मार्ट सिटी की साक्षात्कार कमेटी में एसडीएम अजमेर,नगर निगम उपायुक्त,अतिरिक्त मुख्य अभियंता (पीडब्ल्यूडी),स्मार्ट सिटी के मुख्यअभियंता तथा प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंट कम्पनी (पीएमसी) के टीम लीडर की कमेटी साक्षात्कार लिए थे,लेकिन इस बार साक्षात्कार लेने वाली कमेटी में स्मार्ट सिटी के अभियंता ही शामिल हैं। इस बार की साक्षात्ककार कमेटी में जिला प्रशासन,नगर निगम,पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को कमेटी में शामिल नहीं किया गया है। एक तरह से स्मार्ट सिटी के अभियंता ही साक्षात्कार के जरिए खुद ही ‘अभियंता’ चुनने में लगे हुए हैं।

फिर न हो जाए बैक डोर एंट्री

अधिशाषी अभियंता (सिविल) के एक पद के लिए पांच दावेदार है। इनमें से तीन के खिलाफ जांचे चल रही हैं जबकि एक के पास तीन साल का अनुभव भी नहीं,अधिशाषी अभियंता बने हुए एक साल भी नहीं है। कुछ अभियंताओं को पूर्व में चार्जशीट देकर स्मार्ट सिटी से हटाया गया था लेकिन साक्षात्कार में वे भी शामिल है। उनकी प्रतिनियुक्ति के बीच एक साल का अंतर भी नहीं है। वहीं डिप्लोमाधारी अभियंता ने भी आवेदन किया है जबकि जिला कलक्टर ने डिगीधारी इंजीनियरों को ही लेने के स्पष्ट निर्देश दिए थे। गत वर्ष भी एक साल का अनुभव रखने वाले एक अधिशाषी अभियंता नियुक्ति बैक डोर से की गई थी जबकि प्रतिनियुक्ति में अनुभव तीन साल का मांगा गया था।
अधीक्षण अभियंता के पद पर चुप्पी

स्मार्ट सिटी अजमेर में अतिरिक्त मुख्य अभियंता का पद स्वीकृत नहीं है। इसके बावजूद अधीक्षण अभियंता अविनाश शर्मा से अतिरिक्त मुख्य अभियंता पद का काम करवाया जा रहा है। इनके पद के लिए वित्त विभाग मंजूरी नहीं दी है। वहीें खर्चों में कटौती को लेकर सरकार के नए निर्देशों के अनुसार १ जुलाई के बाद कोई नया पद स्वीकृत नहीं किया जा सकता है। स्मार्ट सिटी अजमेर व कोटा में केवल अधीक्षण का पद ही स्वीकृत है लेकिन खर्च घटाने के बजाय अजमेर में अतिरिक्त मुख्य अभियंता को अतिरिक्त वेतन व भत्ते नियम विरुद्ध दिए जा रहे हैं वह भी बिना वित्त विभाग की स्वीकृति के। स्मार्ट सिटी के वित्तीय सलाहकार भी इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं। स्मार्टसिटी में अधीक्षण अभियंता (एसई) का पद रिक्त है लेकिन इस पद के लिए आवेदन नहीं मांगा गया।
इनका कहना है

एसीईओ उपलब्ध नहीं हैं। साक्षात्कार लेने के बाद मामले को स्मार्ट सिटी सीईओ को भेजा जाएगा। वहीं से निर्णय होगा।
अनिल विजयीवर्गीय,मुख्य अभियंता,स्मार्ट सिटी,अजमेर

bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned