tripple talaq bill : ट्रिपल तलाक अधिनियम में पहला मामला दर्ज

tripple talaq bill : ट्रिपल तलाक अधिनियम में पहला मामला दर्ज

raktim tiwari | Updated: 09 Aug 2019, 07:14:00 AM (IST) Ajmer, Ajmer, Rajasthan, India

इस मामलें में दरगाह थाना पुलिस ने पीडि़ता के पति के खिलाफ घरेलू हिंसा का मामला दर्ज किया था।

अजमेर. संसद में पास हुए ट्रिपल तलाक विधेयक का मुस्लिम महिलाओं को अब लाभ मिलेगा। ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह के खादिम द्वारा पत्नी को तलाक (tripple talaq) देने के प्रकरम में दरगाह थाना पुलिस ने ट्रिपल तलाक अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया है। इसके अलावा पुलिस ने महिला का मेडिकल भी कराया।

दरगाह क्षेत्र स्थित मोती कटला धोबी मोहल्ला निवासी सना (26) पत्नी सलीमुद्दीन उर्फ बाबू (62) ने दरगाह थाने में शिकायत दी। इसमें बताया कि शौहर सलीम उसके साथ मारपीट करता है। 7 अगस्त को उसने तीन बार तलाक-तलाक-तलाक बोलकर प्रताडि़त किया। इस मामलें में दरगाह थाना पुलिस ने पीडि़ता के पति के खिलाफ घरेलू हिंसा (domestic violence)का मामला दर्ज किया था।

read more: Triple divorce bill : महिलाओं को नहीं मिल रहा लाभ

कर चुका है पांच निकाह
जयपुर निवासी सना ने पत्रकारों को बताया कि सलीमुद्दीन पांच निकाह (marriages) पहले ही कर चुका है। सलीम ने 2017 में उससे निकाह किया था। वह तीन साल लगातार मारपीट (beat) और प्रताडि़त कर रहा है। इसके अलावा उसकी एक पत्नी ने भी मारपीट की है। उसने कई बार दरगाह थाने (dargah thana)में शिकायत दी पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। पुलिस अधीक्षक (S.P.Ajmer) से मुलाकात के बाद दरगाह थाना ने उसके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की। उसने फिलहाल अपने रिश्तेदार घर पर शरण ली है। उधर पुलिस का कहना है, कि पति-पत्नी के विवाद मामले में सलीमुद्दीन को शांतिभंग में पाबंद किया गया।

read more: Save water: बेशकीमती है बारिश का पानी, समझें इसका मोल

नए अधिनियम के तहत मामला दर्ज
केंद्र सरकार ने ट्रिपल तलाक (tripple talaq) के खिलाफ विधेयक पारित किया है। गुरुवार को विधेयक में जोड़ी गई धाराएं और गजट नोटिफिकेशन (notification) को लेकर पुलिस अधिकारियों ने कानून विशेषज्ञों से चर्चा की। पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीप (kunwar rashtradeep)ने बताया कि विशेषज्ञों से चर्चा के बाद पुलिस ने द मुस्लिम वुमन प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मेरिज एक्ट-2019 की धारा 3/4 के तहत मामला दर्ज किया है। विधेयक (bill) पास होने के बाद अजमेर में ट्रिपल तलाक का पहला मामला सामने आया है।

क्या कहते हैं अधिवक्ता...
ट्रिपल तलाक पर विधेयक पारित हो चुका है। इसमें जिन कानूनी धाराओं का प्रावधान किया गया है, इसका नोटिफिकेशन जारी होना है। ट्रिपल तलाक मामले में अब नए विधेयक और धाराओं के तहत मामले दर्ज किए जाने चाहिए।
देवेंद्र सिंह शेखावत, अधिवक्ता

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned