यूजीसी की रोक ने बढ़ाई जबरदस्त टैंशन, बिना टीचर्स के कैसे चलेगी ये यूनिवर्सिटी

www.patrika.com/rajasthan-news

By: raktim tiwari

Published: 24 Jul 2018, 06:32 AM IST

रक्तिम तिवारी/अजमेर।

महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय में नए शिक्षकों की भर्ती पर फिर संकट मंडरा गया है। यूजीसी और मानव संसाधन विकास मंत्रालय की भर्तियों पर देशव्यापी रोक के चलते ऐसा हुआ है। अब सरकार की मंजूरी मिलने तक प्रक्रिया अटकी रहेगी।

विश्वविद्यालयय में विभागवार नए शिक्षकों की भर्ती होनी है। इनमें विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, कला और अन्य संकाय के विषय शामिल हैं। तत्कालीन कुलपति प्रो. विजय श्रीमाली ने पदभार सम्भालने के बाद नियुक्तियों को प्राथमिकता दी। बीती 6 जुलाई को विश्वविद्यालय ने विभिन्न शैक्षिक पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे।

इन विषयों में भर्तियां
बॉटनी-2, प्योर एन्ड एप्लाइड केमिस्ट्री-1, गणित-1, जूलॉजी-2, इकोनॉमिक्स-1, भूगोल-1, इतिहास-2, राजनीति विज्ञान-2, समाजशास्त्र-1

यूजीसी-मंत्रालय ने लगाई रोक

आरक्षण नीति को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के चलते यूजीसी और मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सभी विश्वविद्यालयों में भर्ती रोकने को कहा है। आरक्षण नीति से जुड़े मामले में 13 अगस्त को सुनवाई की संभावना है। तब तक सभी विश्वविद्यालयों में नई भर्तियां, साक्षात्कार प्रक्रिया अटकी रहेगी। इसमें महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय भी शामिल है।

भर्तियां यानि हर बार मुसीबत

मदस विश्वविद्यालय में शैक्षिक भर्तियां हर बार मुसीबत रही हैं। साल 2007 में विश्वविद्यालय ने शिक्षकों के सात पदों के लिए साक्षात्कार कराए गए थे। भर्ती में आरक्षण का ध्यान नहीं रखने, देर रात तक साक्षात्कार कराने जैसी शिकायतों पर तत्कालीन राज्यपाल ए. आर. किदवई ने विश्वविद्यालय प्रबंध मंडल की बैठक और लिफाफे खोलने पर रोक लगा दी। वर्ष 2009 में तत्कालीन राज्यपाल एस. के. सिंह ने भर्ती प्रक्रिया के तहत लिफाफे और पैनल निरस्त कर दिए थे। साल 2016 में भी 22 पदों के लिए आवेदन मांगे गए। हाईकोर्ट में रोक, स्थाई कुलपति नहीं होने और तकनीकी कारणों से भर्तियां अटक गई।

प्रोजेक्ट का परियोजना प्रदर्शन

सिमरन सिलिकॉन वैली में बैंक व कम्प्यूटर हिस्ट्री म्यूजियम में भ्रमण करेंगी। फ्रांसिसको क्रूज में एक्स्पर्ट के साथ विशेष चर्चा में भाग लेगी। चर्चा के बाद एप्पल, गूगल, इंटेल, फेस बुक कंपनियों की सैर करेंगी। इस अवसर पर नॉर्थ इस्टर्न यूनिवर्सिटी,यूसी बैकली का भी भ्रमण करेंगी। विशेषज्ञों की टीम 42 बोर्डिंग स्कूल में बच्चों के साथ तकनीक की जानकारी साझा करेंगी।

सिमरन राजस्थान सरकार की डीजी फैस्ट में भी अपने प्रोजेक्ट का परियोजना प्रदर्शन करेंगी। सिमरन भारत सरकार के स्मार्ट इंडिया प्रोजेक्ट हैक्थोन के तहत बंगलवरू में वर्ष-2017 में भाग ले चुकी हैं। इसमें सेना व रक्षा आधारित इमेज बेस ऑब्जेक्ट रिकॉगनाइजेशन पर भी अपना प्रोजेक्ट प्रस्तुत कर चुकी है।

इस एप ने कराया चयन

सिमरन ने एंड्रॉयड एप यूनिफाइड नोटिफिकेशन मैनेजर (बीप बॉक्स) के नाम से नया एप बनाया है। इसमें किसी भी दफ्तर में कार्य करने के लिए समय समय पर नोटिफिकेशन जारी होते रहते हैं। जो सबसे नवीन नोटिफिकेशन होता है वह स्क्रीन पर दर्शित होता रहता है। इस एप को राज्य स्तर पर प्रदर्शित किया गया है।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned