scriptalwar muesuem has two swords in one sheath | एक म्यान में दो तलवार अलवर में ही संभव | Patrika News

एक म्यान में दो तलवार अलवर में ही संभव

आपने म्यान में तलवार तो सुना होगा, लेकिन अलवर संग्रहालय में एक म्यान में दो तलवारें रखी है, जो संग्रहालय की शोभा बढ़ा रही है।

अलवर

Published: November 25, 2017 01:02:16 pm

अलवर राज्य के अंतिम शासक तेजसिंह के शासनकाल में अलवर संग्रहालय की स्थापना हुई। सिटी पैलेस की पंाचवी मंजिल में स्थित संग्रहालय देशी विदेशी पर्यटकों के लिए सदा से ही आकर्षण का केंद्र रहा है। यहां पर दुर्लभ अस्त्र शस्त्र, अमूल्य हस्तलिखित ग्रंथ, राजशाही उपयोगी सामान, वस्त्र, चित्र, सिक्के आदि बेशकीमती सामान प्रदर्शित किया गया है।
alwar muesuem has two swords in one sheath

जिसकी संख्या लगभग 16 हजार है। यहां प्रदर्शित वस्तुएं इतनी महत्वपूर्ण व दुर्लभ है कि उनका अन्यत्र मिलना ही मुश्किल है। यहां प्रदर्शित सामग्री को तीन विशाल कक्षों प्रदर्शित किया गया है। इस संग्रह को देखकर पर्यटक आश्चर्यचकित रह जाते हैं।

1940 से पहले कहलाता था नुमाइशखाना


महाराजा विनयसिंह ने सन 1847 में पुस्तकालय की स्थापना की। 20 जनवरी 1909 को पुस्तकशाला, सिलहखाना व तोशाखाना की एेतिहासिक सामग्री एवं महत्वपूर्ण कला सामग्री को एकीकृत कर नुमायशखाना विभाग की स्थापना की गई। मुंशी जगमोहन लाल व रामकंवर की देखरेख में सामग्री को प्रदर्शित किया गया। 12 जून 1940 को विधिवत रूप से संग्रहालय की स्थापना हुई।

एक म्यान में दो तलवार


कहावत है कि एक म्यान में दो तलवार नहीं रह सकती, लेकिन अलवर के संग्रहालय में एक एेसी तलवार प्रदर्शित की गई है। जिसमें एक म्यान में दो तलवार रखी हुई है। इसे देखने के लिए दूर दूर से पर्यटक आते हैं। इसके अलावा अस्त्र शस्त्र कक्ष में हजरत अली की तलवार, जिस पर फारसी लेख लिखा हुआ है। तलवार लक्खी, पत्थर काटने वाली तलवार के अलावा अनेक बंदूक, नागफांस, पेशकब्ज, छुरियां, कटारों का बहुत अच्छा संग्रह है।

यशवंत राव होल्कर वेशभूषा


इंदौर के महाराज यशवंत राव होल्कर के द्वारा युद्ध के दौरान पहने जाने वाली वेशभूषा भी यहां प्रदर्शित है। उनसे संबंधित हथियार भी यहां पर प्रदर्शित किया गया। 1803 में लासवाडी के युद्ध में इनकी मौत हो गई।
अलग अलग ढाल


यहां पर एक की जगह पर बहुत सी ढालें प्रदर्शित की गई है। एक ही जगह पर गेंडें की खाल , कछूए की खाल, मगरमच्छ की खाल और मैटल से बनी ढाल प्रदर्शित की गई है। जबकि अन्य संग्रहालय में पर्यटकों को एक या दो तरह की ढाल ही देखने को मिलती है।
चांदी की मेज

हस्तशिल्प कलाकक्ष में प्रदर्शित जर्मन सिल्वर से निर्मित मेज आकर्षण का केंद्र है। स्थानीय कलाकार नंद किशोर ने चांदी की मेज का निर्माण किया था। इसके नीचे एक यंत्र लगा हुआ है। जिसके संचालन से मेज के ऊपरी भाग पर बनी नहरोंं में मछलियों के जल में तैरने का अहसास होता है। तकनीकी खराबी के चलते अब यह खराब है।
1892 का उल्का पिंड

सन 1892 में अलवर जिले के बानसूर में गिरा आकाशीय उल्का पिंड का खंड भी यहां प्रदर्शित किया गया है। आकाशीय उल्का पिंड जो बाहरी अंतरिक्ष से पृथ्वी के वातावरण में आने से जल जाता
 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पंजाबः अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिशUttarakhand Election 2022: हरक सिंह रावत को लेकर कांग्रेस में विवाद, हरीश रावत ने आलाकमान के सामने जताया विरोधUP Election 2022 : अखिलेश के अन्न संकल्प के बाद भाकियू अध्‍यक्ष का यू टर्न, फिर किया सपा-रालोद गठबंधन के समर्थन का ऐलानभारत के कोरोना मामलों में आई गिरावट, पर डरा रहा पॉजिटिविटी रेटभगवंत मान हो सकते हैं पंजाब में AAP के सीएम उम्मीदवार! केजरीवाल आज करेंगे घोषणाpm svanidhi scheme: रोजगार करना चाहते हैं तो बिना गारंटी ले लोन, ब्याज पर 7% मिलेगी सब्सिडीसचिन तेंदुलकर के नाक से बह रहा था खून, फिर भी बोला- 'मैं खेलेगा'नोएडा-गाजियाबाद समेत पूरे एनसीआर में 21-23 जनवरी तक बारिश की संभावना: मौसम विभाग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.