अफगान शांति वार्ता: अमरीका के साथ बातचीत के बीच 10 दिनों के सीजफायर पर तालिबान सहमत

  • अमरीका और तालिबान के बीच अफगान शांति वार्ता ( Afghan Peace Talk ) को लेकर लगातार बातचीत चल रही है
  • बीते महीने कतर में अमरीका और तालिबानी अधिकारियों ने मुलाकात की थी

Anil Kumar

16 Jan 2020, 02:23 PM IST

काबुल। अफगानिस्तान ( Afghanistan ) में शांति बहाली को लेकर अमरीका ( Ameirca ) और तालिबान ( Taliban ) के बीच लगातार बातचीत का दौर चल रहा है। अब इस बीच एक बड़ी खबर सामने आई है। तालिबान और अमरीका के बीच शांति वार्ता ( Peace Talk ) बढ़ने के साथ ही सीजफायर पर सहमति बनी है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबान ने 10 दिनों के लिए सीजफायर ( Ceasefire ) पर सहमति दे दी है। रिपोर्ट में बताया गया है कि तालिबान के नेता हबीबतुल्लाह अखुंदजादा ( Hibatullah Akhundzada ) ने सात से 10 दिनों के लिए सीजफायर पर सहमति दी है।

अफगानिस्तान में अस्थायी संघर्षविराम के लिए तालिबान राजी, अमरीकी सेना की वापसी संभव

इस संबंध में तालिबान के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को बताया कि अफगानिस्तान में युद्ध के अंत और शांति समझौते की प्रतीक्षा लंबे समय से की जा रही है। इसे ध्यान में रखते हुए संक्षिप्त समय के लिए सीजफायर पर सहमति बनी है।

बता दें कि अमरीका के विशेष दूत जलमय खलीलजाद ( Zalmay Khalilzad ) लगातार बातचीत करते हुए सीजफायर लागू करवाने की कोशिश में जुटे थे। बताया जा रहा है कि बीते महीने कतर में अमरीका और तालिबानी अधिकारियों ने मुलाकात की थी, जिसके बाद दोनों के बीच कुछ समझौता हुआ था।

औपचारिक ऐलान बाकी

सीजफायर को लेकर दो दिन पहले तालिबान की लीडर काउंसिल ने उच्चस्तरीय बैठक की और चर्चा की गई, जिसमें 10 दिनों के सीजफायर को लेकर सहमति बनी। अब इस प्रस्ताव पर कतर प्रशासन अमरीकी दूत खलीलजाद को देगा। खलीलजाद की ओर से पुष्टि होने के बाद औपचारिक एलान किया जाएगा।

अमरीका-तालिबान शांति समझौते की तिथि की घोषणा जल्द

बता दें कि तालिबान ने पिछले महीने काबुल के उत्तरी हिस्से में बगराम के एयरफील्ड पर हमला किया था जिसमें 70 लोगों की मौत हो गई। इस हिंसक हमले के बाद कतर में तालिबान के नेताओं से अमेरिकी दूत की मुलाकात हुई थी।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned