चीन ने की दुनिया की पहली स्मार्ट और हाईस्पीड ट्रेन की शुरुआत! रखरखाव और मरम्मत का काम करेंगे रोबोट

  • चीन में 2022 में शीतकालीन ओलंपिक ( winter Olympics ) होने वाले हैं
  • बीजिंग से झांगजियाकौ के बीच चलेगी यह हाईस्पीड ट्रेन
  • 174 किमी की दूरी तय करने में ट्रेन को 47 मिनट का समय लगा

By: Anil Kumar

Published: 03 Jan 2020, 08:28 AM IST

बीजिंग। चीन ( China ) अपने अत्याधुनिक तकनीकों के विकास को लेकर पूरी दुनिया में जाना जाता है। अब तक कई ऐसे अदभूत कार्य किए हैं जिसकी मिशाल दुनियाभर में दी जाती है। अब एक बार फिर से चीन ने कुछ ऐसा ही करने का दावा किया है।

दरअसल, चीन में 2022 में शीतकालीन ओलंपिक ( Winter Olympic 2022 ) होने वाले हैं। उससे पहले ओलंपिक के लिए मेजबानी करने वाले दो शहरों ( बीजिंग और झांगजियाकौ ) को एक साथ जोड़ने के लिए स्मार्ट और हाईस्पीड ट्रेन ( High Speed Train ) की शुरुआत की है।

Hong Kong Protest: लोकतंत्र समर्थकों ने चीन के खिलाफ निकाला विरोध-मार्च, अमरीका से मांगी मदद

चीन का दावा है कि बीजिंग से झांगजियाकौ के बीच चलने वाली ट्रेन 350 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पटरी पर दौड़ेगी, जो कि दुनिया की पहली स्मार्ट और हाईस्पीड ट्रेन है।

ड्राइवरलेस है यह स्मार्ट ट्रेन

चीन ने बताया है कि इस हाईस्पीड ट्रेन में हर तरह की अत्याधुनिक सुविधा उपलब्ध है। इसमें 5जी सिग्नल वायरलेस चार्जिंग और स्मार्ट लाइटिंग के साथ सभी सुविधाएं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से कनेक्ट है।

जबकि यह ट्रेन चालक रहित यानी ड्राइवरलेस है। बताया गया है कि इस ट्रेन को बनाने में चीन ने 56,496 करोड़ रुपये खर्च किया है। इस ट्रेन में इस्तेमाल सभी तरह की तकनीक के साथ जीपीएस सिस्टम यानी Beidou को भी खुद चीन ने ही तैयार किया है। बता दें कि चीन ने 2022 में होने वाले शीतकालीन ओलंपिक को देखते हुए विशेष रूप से इस ट्रेन की शुरुआत की है।

रोबोट करेंगे ट्रेन का रखरखाव और मरम्मत

चीन दावा किया है कि यह ट्रेन पूरी तरह से ड्राइवरलेस है। हालांकि इसमें एक व्यक्ति ड्राइवर बोर्ड पर होगा, जो आपात स्थिति पर नजर रखेगा।

चीन में मेडिकल कर्मचारियों पर हो रही हिंसा रोकने के लिए बना कानून, कैद और जुर्माने की सजा

सबसे बड़ी बात कि अत्याधुनिक तकनीकों से लेस इस ट्रेन का रखरखाव और मरम्मत का काम रोबोट करेंगे। इस ट्रेन ने सोमवार को बीजिंग से झांगजियाकौ के बीच 174 किमी का सफर किया। बीजिंग से झांगजियाकौ के बीच 10 स्टॉप बनाए गए हैं। ट्रेन को यह दूरी पूरी करने में 47 मिनट का समय लगा।

चाइना स्टेट रेलवे ग्रुप ने बताया है कि स्वयं स्वचालित फक्सिंग बुलेट ट्रेन जिसका नाम 'रिजुवेनेशन' है। फिलहाल यह ट्रेन रेल लाइन पर चलती है, जो चीन के विस्तार वाले हाईस्पीड ट्रांसपोर्ट नेटवर्क का एक अहम हिस्सा है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned