China के थिंक टैंक की पूर्व सदस्य का दावा, कम्युनिस्ट पार्टी से पूरी दुनिया को खतरा

Highlights

  • चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party) के शीर्ष प्रशिक्षण केंद्र और थिंक टैंक में वर्षों बिताने वाली कै ज़िया का दावा।
  • मीडिया में दिए साक्षात्कार में कहा कि अमरीका को बीजिंग (Beijing) के साथ और अधिक कठोर रवैया अपनना चाहिए।

By: Mohit Saxena

Updated: 23 Aug 2020, 12:13 PM IST

बीजिंग। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party)के शीर्ष प्रशिक्षण केंद्र और थिंक टैंक में वर्षों बिताने वाली साये काई एक मुखर प्रोफेसर रही हैं। वे अपने उदार विचारों और लोकतांत्रिक सुधार के समर्थन के लिए जानी जाती हैं।

हाल ही में, उन्होंने चीन के सत्तारूढ़ अभिजात वर्ग और देश के नेता शी जिनपिंग (Xi Jinping) की तीखी आलोचना की है। इसके कारण उन्हें इस सप्ताह की शुरुआत में पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था। अमरीकी मीडिया को दिए एक साक्षात्कार में, उन्होंने कहा कि अमरीका (America) की सरकार को बीजिंग के साथ और अधिक कठोर रवैया अपनना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस तरह के कुटिल देश के सामने अमरीकी सरकार को अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है।

काई ने कहा कि दूरसंचार क्षेत्र की दिग्गज कंपनी हुआवेई पर ट्रंप प्रशासन ने जो प्रतिबंध लगाए हैं, उसका वे समर्थन करती हैं। अमरीकी सरकार का इस संबंध में कहना है कि इससे उनकी राष्ट्रीय सुरक्षा जोखिम है। हालांकि इस आरोप से Huawei ने बार-बार इनकार किया है। काई ने शीर्ष चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंधों का भी आह्वान किया और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से कम्युनिस्ट पार्टी को वैश्विक संस्थानों में "घुसपैठ" करने और शी के "अधिनायकवादी" आदर्शों को फैलाने से रोकने के लिए हाथ मिलाने की अपील की।

काई के अनुसार, "चीन और अमरीका के बीच संबंध दो लोगों के बीच का टकराव नहीं है, बल्कि दो प्रणालियों और दो विचारधाराओं के बीच एक टकराव है।" काई ने कहा कि वह बीते साल अमरीका में एक पर्यटक के रूप में पहुंचने के बाद कोरोना वायरस महामारी से फंसी थी। अपनी व्यक्तिगत सुरक्षा को लेकर आशंकाओं का हवाला देते हुए उसने वर्तमान स्थिति या भविष्य की योजनाओं के बारे में अधिक जानकारी देने से इनकार कर दिया।

2012 के अंत में सत्ता में आने के बाद से, शी ने पार्टी पर अपनी स्थिति और अधिकार को मजबूत कर लिया है, जो 90 मिलियन सदस्यों के साथ दुनिया के सबसे बड़े राजनीतिक संगठनों में शुमार है। उन्होंने झिंजियांग क्षेत्र में राजनीतिक असंतोष, नागरिक समाज और ज्यादातर मुस्लिम उइगर अल्पसंख्यक पर व्यापक रूप से प्रतिबंध लगा दिया है। एक पूर्व ब्रिटिश उपनिवेश हांगकांग को 1997 में चीन को सौंपा गया था। यहां पर कानून व्यवस्थाओं को एक अलग राष्ट्र के रूप मान्यता दे रखी थी। चीन ने उस पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून थोपा है। काई के अनुसार, कम्युनिस्ट पार्टी का उद्देश्य "संयुक्त राज्य अमरीका द्वारा प्रतिनिधित्व की गई आधुनिक मानव जाति की स्वतंत्र और लोकतांत्रिक व्यवस्था को बदलना है।

कौन हैं काई

काई के पिता माओत्ये तुंग की लाल क्रांति का हिस्सा रहे थे। काई कम्यूनिस्ट पार्टी द्वारा संचालित सेंट्रल पार्टी स्कूल की सेवानिर्वित शिक्षका हैं। इस स्कूल में वे छात्रों को राजनीति और लोकतंत्र के विषय पर पढ़ाती थीं। इसमें चीन के भावी नेता और नौकरशाह शिक्षा ग्रहण करते थे। इस स्कूल की स्थापना माओत्से तुंग ने की थी। अब इसका नेतृत्व शी जिनपिंग करते हैं। पार्टी के खिलाफ बयान को लेकर काई को पहले भी चेतावनी मिल चुकी है। उन्हें चीन वापस अपने देश आने का आग्रह कर रहा है।

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned