LAC पर कम हो रहा तनाव! China ने कहा- विवादित क्षेत्र से सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया पूरी

HIGHLIGHTS

  • चीन ( China ) ने कहा कि सीमा के अधिकतर अग्रिम मोर्चे पर दोनों देशों के सैनिक पीछे हट चुके हैं और अब बाकी मुद्दों को सुलझाने के लिए अगले दौर के सैन्य वार्ता ( Military Talks ) की तैयारी चल रही है।
  • चीनी विदेश कार्यालय ( Chinese Foreign Office ) को हवाले से चीन के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि पीपी 14, 15 और 17 ए से डिसएंगेजमेंट ( Disengagement ) का काम पूरा हो चुका है।

By: Anil Kumar

Updated: 28 Jul 2020, 11:32 PM IST

नई दिल्ली। वास्तिवक नियंत्रण रेखा ( Line of Actual Control ) पर भारत और चीन के बीच कई महीनों से चला रहा तनाव ( India China Tension ) अब कम हो रहा है और विवादित इलाके से दोनों देशों की सेना वापस लौट रही हैं। ये दावा चीन ने किया है। चीन ने कहा है कि विवादित क्षेत्रों में से अधिकतर में उसकी सेना पीछे हट गई है और डिसएंगेजमेंट ( Disengagement ) की प्रक्रिया लगभग पूरी हो गई है।

चीन ने मंगलवार को कहा कि सीमा के अधिकतर अग्रिम मोर्चे पर दोनों देशों के सैनिक पीछे हट चुके हैं और अब बाकी मुद्दों को सुलझाने के लिए अगले दौर के सैन्य वार्ता की तैयारी चल रही है। चीनी विदेश कार्यालय ( Chinese Foreign Office ) को हवाले से चीन के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि पीपी 14, 15 और 17 ए से डिसएंगेजमेंट का काम पूरा हो चुका है।

India Ideas Summit: माइक पोम्पियो ने China पर किया वार, कहा- America की विदेश नीति में भारत अहम

रिपोर्ट के मुताबिक, पैंगौंग झील के फिंगर क्षेत्र में अभी डिसएंगेजमेंट नहीं हुआ है। इसको लेकर भारत-चीन सेना कोर कमांडरों के बीच जल्द ही बातचीत शुरू होगी। अभी तक तनाव खत्म नहीं होने को लेकर भारत पर आरोप लगाया है और कहा है कि भारत इस आधे रास्ते से काम पूरा करेगा और आम सहमति बनाएगा।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ( Chinese Foreign Ministry spokesman Wang Wenbin ) से जब पूछा गया कि क्या भारत-चीन के सैनिक गलवान घाटी, हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा इलाके में हटने की प्रक्रिया पूरी कर चुके हैं? इसपर उन्होंने जवाब देते हुए कहा- अधिकतर जगहों पर डिसएंगेजमेंट की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है।

बातचीत के बाद समझौता

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने आगे कहा कि स्थिति अब सुगम और शांत होने की दिशा की ओर है। कमांडर-स्तरीय वार्ता के पांचवें दौर में शेष मुद्दों को हल करने की तैयारी की जा रही है। हम उम्मीद करते हैं कि भारत चीन के साथ काम करके हमारी बीच बनी सहमति को लागू करेगा और सीमाई क्षेत्रों में शांति और स्थिरता को बरकरार रखेगा।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned