चीन ने जनसंख्या वृद्धि रोकने में हासिल की कामयाबी, लेकिन अब सामने आया ये संकट

जनसंख्या रोकने में कामयाब हुआ चीन, जानिए अब तक कहां तक पहुंचा आंकड़ा

By: धीरज शर्मा

Published: 11 May 2021, 11:59 AM IST

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच विश्व की सबसे ज्यादा आबादी वाला देश चीन ( China ) ने बड़ी सफलता हासिल की है। चीन में जनसंख्या ( Population growth ) बढ़त दर शून्य के करीब पहुंच गई है। इस बात की जानकारी मंगलवार को जारी हुए सरकारी डेटा से मिली है।

सरकार ने बताया कि देश की आबादी में बढ़ोतरी की दर शून्य के करीब पहुंच गई है, क्योंकि यहां बच्चों को जन्म देने वाले दंपती की संख्या कम है। हालांकि इसका एक नुकसान भी चीन को हो रहा है, यहां कार्यबल कम हो रहा है। आईए जानते हैं क्या है इसकी वजह और अब चीन की कुल आबादी कहां तक पहुंच गई।

यह भी पढ़ेंः कोरोना के बाद 'ब्लैक फंगस' को लेकर सरकार की बढ़ी चिंता, ICMR ने जारी की अहम एडवाइजरी

इतनी हुई चीन की आबादी
चीन की आबादी अब बढ़कर एक अरब 41 करोड़ हो गई है। पिछले 10 सालों में चीन की आबादी में 5.38 फीसदी का इजाफा हो गया है । चीन की नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टेटिटिक्स ने आधिकारिक तौर पर चीन की नई आबादी के आंकड़े जारी किए हैं।

नेताओं ने किया आबादी रोकने पर फोकस
चीन ने अपनी आबादी पर नियंत्रण करने के लिए जनसंख्या रोकने पर फोकस किया। राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के मुताबिक 2020 में समाप्त हुए दशक में देश की जनसंख्या सात करोड़ 20 लाख बढ़कर 1.41 अरब हो गई।

वहीं आबादी में वार्षिक दर की औसत दर 0.53 फीसदी रही, जो पिछले दशक से काफी कम थी। आपको बता दें कि चीनी नेताओं ने जनसंख्या विस्फोट को रोकने के लिए 1980 से जन्म संबंधी सीमाएं लागू की थीं।

यह भी पढ़ेँः Good News: देश में अब सस्ती मिलेगी कोरोना की दवा, सरकार ने उठाया ये कदम

सामने आई ये मुश्किल
देश की अर्थव्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए एक तरफ चीन ने अपनी आबादी को रोकने में तो सफलता हासिल कर ली, लेकिन इस रोक के चलते चीन के सामने एक बड़ा संकट खड़ा हो गया है। ये संकट है कामकाजी आयु वर्ग का।

दरअसल देश की आबादी में बुजुर्ग लोगों की संख्या काफी बढ़ गई है। ऐसे में कामकाजी आयु वर्ग कम होने से चीन का कार्यबल कम हो रहा है।
2017 से लगातार चीन के राष्ट्रीय जन्मदर में कमी दर्ज की गई है। साउथ चायना पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक चीन में काफी बड़ी आबादी तेजी से बुढ़ापे की तरफ जा रही है

शादी में घट रहा विश्वास, बच्चे पैदा करने में नहीं दिलचस्पी
चीन की सरकार ने जन्मदर बढ़ाने के लिए कई तरह के कार्यक्रम चलाए हैं, लेकिन सफलता नहीं मिल रही है। वहीं, पिछले साल आई एक रिपोर्ट में ये बात भी सामने आई कि, चीन की नई आबादी शादी से विश्वास खोती जा रही है। यही नहीं उनकी बच्चे पैदा करने में भी दिलचस्पी भी काफी कम हो रही है। लिहाजा अब चीन के सामने जनसंख्या बढ़ाने का संकट भी खड़ा हो सकता है।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned