शहबाज शरीफ की अमरीका-उत्तर कोरिया से सीख लेने की वकालत, कहा कश्मीर मुद्दे से शुरू हो भारत-पाक वार्ता

शहबाज शरीफ की अमरीका-उत्तर कोरिया से सीख लेने की वकालत, कहा कश्मीर मुद्दे से शुरू हो भारत-पाक वार्ता

Saif Ur Rehman | Publish: Jun, 14 2018 11:14:53 AM (IST) एशिया

भारत-पाक के रिश्ते में सुधार की बात करते हुए शहबाज शरीफ ने कहा कि अमरीका और उत्तर कोरिया से सीख लेनी चाहिए।

लाहौर। सिंगापुर में डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच हुई सफल ऐतिहासिक वार्ता ने मिसाल कायम की है। कामयाब वार्ता से पाक के नेता सबक लेने की बात करने लगे हैं। अब पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के भाई और पाकिस्तान मुस्लिम लीग (N) के मुखिया शहबाज शरीफ ने कहा है, " जब उत्तर कोरिया और अमरीका कर सकते हैं तो हम ( भारत-पाकिस्तान ) क्यों नहीं। इस बाबत उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि, " ऐतिहासिक सिंगापुर वार्ता से सीख लेते हुए भारत-पाकिस्तान के बीच शांति वार्ता शुरू होनी चाहिए। ट्रम्प और किम जोंग-उन के बीच हुई वार्ता ने दो आपस में लड़ने वाले पड़ोसी देशों के लिए एक मिसाल कायम की है। भारत और पाकिस्तान दोनों को ही इसके नक्शे कदम पर चला चाहिए। बता दें कि शहबाज पाकिस्तान के आम चुनाव में पीएमएल-एन की तरफ से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बनाए गए हैं।

बड़ी खबर: बांदीपुरा के जंगलों में सेना ने ढेर किए दो आतंकी, 1 जवान भी शहीद

कश्मीर पर बातचीत से हो शुरूआत: शहबाज नदीम
भारत पर कभी-कभार ही बयान देने वाले शरीफ ने अपने ट्वीट्स में कहा, “कोरियाई युद्ध के शुरू होने के बाद से ही दोनों अमरीका और उत्तर कोरिया एक दूसरे के आमने-सामने थे। दोनों ही एक दूसरे को सैन्य बल और परमाणु शक्ति के इस्तेमाल की धमकी देते रहे।” अपने दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, “ऐसे में अगर अमरीका और उत्तर कोरिया परमाणु जंग के मुहाने से लौट सकते हैं, तो भारत और पाकिस्तान भी ऐसा कर सकते हैं। इसकी शुरूआत कश्मीर पर बातचीत से हो सकती है।” अपने तीसरे ट्वीट में उन्होंने अपनी राय लिखते हुए कहा, “अब वक्त आ गया है कि हमारे क्षेत्र में व्यापक रूप से शांति वार्ता होनी चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया पर ध्यान देना चाहिए। साथ ही भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर मुद्दे पर भी बातचीत शुरू होनी चाहिए, ताकि लंबे समय से चले आ रहे इस विवाद को संयुक्त राष्ट्र समझौते के तहत निपटाया जा सके।”

अमरीका ने जताई उम्मीद, उत्तर कोरिया परमाणु निरस्त्रीकरण 2020 तक पूरा कर लेगा

शहबाज ने भारत-अफगानिस्तान के साथ शांति का वादा किया
शहबाज ने कहा कि अगर 25 जुलाई को होने वाले चुनाव में उनकी पार्टी सत्ता में लौटती है तो पाकिस्तान सरकार सबसे पहले अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने पर जोर देगी। उन्होंने दावा किया कि युद्ध से बर्बाद हुए देश के पाकिस्तान के साथ संबंध बेहद उलझे हुए हैं। इसके साथ ही शहबाज ने भारत से पुरानी बातें भूलकर नई शुरूआत करने के लिए कहा। बता दें कि पाकिस्तान में आगामी 25 जुलाई को आम चुनाव होने हैं। इसमें शहबाज अपने भाई नवाज शरीफ की जगह प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बनाए गए हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned