तालिबान पर छाया आर्थिक संकट, इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड ने लगाई पाबंदी

आईएमएफ के अनुसार अफगानिस्तान अब आईएमएफ संसाधनों का उपयोग नहीं कर सकेगा।

By: Mohit Saxena

Published: 19 Aug 2021, 11:46 PM IST

वाशिंगटन। अफगानिस्तान (Afghanistan) पर तालिबान (Taliban) का कब्जा होने के बाद से पूरा विश्व चिंता में डूब गया है। इस बीच इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड यानी आईएमएफ (International Monetary Fund) ने अफगानिस्तान पर उसके संसाधन के जरिए मिलने वाली मदद पर पाबंदी लगा दी है।

आईएमएफ के अनुसार अफगानिस्तान अब आईएमएफ संसाधनों का उपयोग नहीं कर सकेगा। उसे किसी तरह की नई मदद नहीं मिल पाएगी। आईएमएफ के अनुसार अफगानिस्तान में नई तालिबान सरकार को फिलहाल उसके द्वारा कर्ज या दूसरे संसाधन नहीं दिए जाएंगे।

ये भी पढ़ें: अफगानिस्तान के इस इलाके पर कब्जा नहीं जमा सका है तालिबान, क्यों अभी तक अजेय बना हुआ है पंजशीर?

190 देश हैं आईएमएफ के सदस्य

आईएमएफ एक अंतरराष्ट्रीय ऋण संगठन है। इसके 190 देश सदस्य हैं। आईएमएफ ने बुधवार को एक बयान में कहा कि अफगानिस्तान के मामले को लेकर वह अंतरराष्ट्रीय समुदाय के विचारों को ध्यान में रखकर आगे बढ़ेगा। बयान के अनुसार इस समय अफगानिस्तान में सरकार की मान्यता से जुड़े अंतरराष्ट्रीय समुदाय के अंदर स्पष्टता की भारी कमी है। इस देश को एसडीआर या अन्य आईएमएफ संसाधनों तक पहुंच उपलब्ध नहीं होगी।

गौरतलब है कि एसडीआर विशेष आहरण अधिकार (Special Drawing Rights) हैं, जो एक रिजर्व के रूप में काम कर रहा है। इसका उपयोग आईएमएफ सदस्य देश भुगतान दायित्वों को पूरा करने के लिए कर सकते हैं।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned