scriptKnow how dangerous Omicron you can prevent it | जानिए कितना खतरनाक है ओमिक्रोन, कैसे कर सकते हैं इससे बचाव | Patrika News

जानिए कितना खतरनाक है ओमिक्रोन, कैसे कर सकते हैं इससे बचाव

जिले में कोविड का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। अब तक एक महिला की मौत हो चुकी है। वहीं ओमिक्रोन की दहशत भी लोगों के दिलोदिमाग में छाई हुई है। ऐसे में चिकित्सकीय सलाह पर अमल करना आवश्यक है। आइए जानते हैं क्या कहते हैं चिकित्सक।

आजमगढ़

Published: January 12, 2022 12:28:27 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. जिले में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच ओमिक्रोन की भी दहशत फैली हुई है। खासतौर पर एक महिला की संक्रमण से मौत के बाद लोगों में दहशत और बढ़ गयी है। चिकित्सकों का मानना है कि ओमिक्रोन को लेकर घबराहट पैदा करने की बजाए इससे बचाव के बारे में ज्यादा सोचना चाहिए। सावधानी बरतकर हम इससे बच सकते हैं। साथ ही अपनों को भी सुरक्षित रख सकते हैं। लक्षण दिखते ही तत्काल चिकित्सकीय परामर्श लें और जांच कराएं। घर से मास्क पहनकर ही निकलें और भीड़ भाड़ वाली जगहों पर जाने से परहेज करें। एहतियात बरतकर ही इस वायरस से मुकाबला किया जा सकता है।

प्रतीकात्मक फोटो
प्रतीकात्मक फोटो

जिला महिला अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक डा. विनय कुमार सिंह यादव का कहना है कि कोविड की पहली और दूसरी लहर के दौरान कोविड टीका का कवच सभी के पास नहीं था। फिर भी हम सावधानी बरतकर इससे होने वाली जनहानि को कम करने में सफल हुए थे। अब तीसरी वेब शुरू हो चुकी है। टीकाकरण भी चल रहा है। टीका लगवाने के बाद हमें यह नहीं मानना है कि हम पूरी तरह सुरक्षित हो गए। अथवा यह वायरस हमपर हमला नहीं करेंगे। बल्कि हमें और सावधान रहने की जरूरत है।

उन्होंने बताया कि कोविड का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। ओमिक्रोन संक्रमित हो रहे मरीज में संक्रमण गले में ही रुक जा रहा है। पूर्व की लहर की तरह ओमिक्रोन संक्रमितों में फेफड़ों के टिश्यू को नुकसान नहीं पहुंच रहा है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम लापरवाह हो जाएं। घर की कमजोर कड़ी यानी बुजुर्ग या पहले से गंभीर बीमारी से ग्रसित व्यक्ति के लिए यह घातक साबित हो सकता है। ऐसे में पूरी तरह से सावधानी बरतें।

ओमिक्रोन संक्रमण के लक्षण
ओमिक्रोन के संक्रमण का प्रारंभिक लक्षणों की बात करें तो सर्दी, जुकाम के साथ 100-101 फारेनहाइट बुखार रहता है। कमजोरी महसूस होती है। नाक बहती है। गले में खरास रहती है व सुगंध नहीं आती है। बलगम रहित खांसी या सूखी खांसी आती है। सामान्य संक्रमण होने पर तीन से चार दिन के बाद रोगी अच्छा महसूस करने लगता है लेकिन ओमिक्रोन के मामले में मरीज को स्थिति में सुधार नहीं महसूस होता।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ
चेस्ट रोग विशेषज्ञ डा. अख्तर बताते हैं कि कोरोना की दूसरी लहर भी यूरोप के बाद भारत आई थी और अब भारत में ओमिक्रोन के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। संक्रमण की नई लहर फरवरी 2022 में तेजी पकड़ सकती है। कोरोना वायरस नाक, गला और फेफड़ों को संक्रमित करता है। नाक और गले में रुक जाए तो मरीज आसानी से सप्ताह भर में ठीक हो जाता है, लेकिन अगर संक्रमण फेफड़ों में पहुंच गया तो यह गंभीर निमोनिया बनकर जानलेवा हो जाता है। इसका खतरा सर्दियों में कई गुना होता है। पारा 15 डिग्री से कम रहने पर वायरस तेजी से बढ़ता है। ऐसे ठंड में मौसम पूरी एहतियात बरतना आवश्यक है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

Punjab Election 2022: गठबंधन के तहत BJP 65 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, जानिए कैप्टन की PLC और ढींढसा को क्या मिलाराष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के विजेताओं से पीएम मोदी ने किया संवाद, 'वोकल फॉर लोकल' के लिए मांगी बच्चों की मददब्रेंडन टेलर का खुलासा, इंडियन बिजनेसमैन ने किया ब्लैकमेल; लेनी पड़ी ड्रग्ससंसद में फिर फूटा कोरोना बम, बजट सत्र से पहले सभापति नायडू समेत अब तक 875 कर्मचारी संक्रमितकर्नाटक में कोविड के 50 हजार नए मामले आने के बाद भी सरकार ने हटाया वीकेंड कर्फ्यू, जानिए क्या बोले सीएमकोरोना से ठीक होने के बाद ऐसे रखें अपने सेहत है ख्यालUP election 2022 - सपा ने जारी की विधानसभा प्रत्याशियों की सूचीएनएफएसयू का साइबर डिफेंस सेंटर अब आईएसओ-आईसी प्रमाणित, बनी देश की पहली लैब
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.