पूर्व प्रधान के फर्जीबाड़े के खिलाफ ग्रामीणों ने डीएम कार्यालय पर किया प्रदर्शन

निजामाबाद तहसील के ओरा गांव में पूर्व प्रधान द्वारा भूमिधरी की जमीन को लेखपाल से मिलकर फर्जी तरीके से अपने पिता के नाम कराये जाने का मामला प्रकाश में आया है।

By: Devesh Singh

Published: 27 Nov 2019, 06:44 PM IST

रिपोर्ट:-रणविजय सिंह

आजमगढ़। निजामाबाद तहसील के ओरा गांव में पूर्व प्रधान द्वारा भूमिधरी की जमीन को लेखपाल से मिलकर फर्जी तरीके से अपने पिता के नाम कराये जाने का मामला प्रकाश में आया है। बुधवार को ग्रामीणों ने ग्राम प्रतिनिधि नितिन उपाध्याय के नेतृत्व में जिलाधिकारी से मिलकर शिकायती पत्र सौंपा और धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किये जाने की मांग किया।

ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को सौपे गये ज्ञापन में बताया कि जनपद के निजामाबाद तहसील के ग्राम ओरा गांव में पुनः चकबंदी हो रही थी लेकिन समय से प्रक्रिया पूरी न होने के कारण 2016 में निरस्त कर दी गयी और सभी अभिलेखों को पुनः तहसील भेज दिया गया। खातेदारों के नाम पुरानी खतौनी के आधार पर कम्प्यूटर पर फिडिंग शुरू हुई। इस दौरान गांव के ही पूर्व प्रधान योगेन्द्र चैरसिया तत्कालीन लेखपाल लालचन्द्र से मिलकर धोखाधड़ी व अभिलेखों में हेराफरी कर अपने पिता दुखंती पुत्र रामकुमार का नाम गाटा संख्या 320 में 283 एयर में असंक्रमणीय भूमिधर दर्ज करा लिये। जबकि इस गाटे में गांव के अनेकों परिवारां की भूमिधरी है। योगेन्द्र चैरसिया फर्जी तरीके से संक्रमणीय भूमिधरी दर्ज कराना चाहते है, ऐसे में कास्तकारां को भारी नुकसान होगा। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से मांग किया कि धोखाधड़ी व अभिलेखों में हेराफेरी करने वाले तत्कालीन लेखपाल लालचन्द्र व पूर्व प्रधान योगेन्द्र चैरसिया के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आवश्यक कार्यवाही करते हुए गाटे से नाम खारिज किया जाय। ज्ञापन सौंपने वालों में जयप्रकाश राय, बृजेश राय, बटेश्वर राय, महानन्द राय, त्रिभुवन राय, अशोक राय, सुरेश राय, मातवर राय, फूलबदन राय, श्याम नरायन राय आदि शामिल रहे।

Show More
Devesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned