scriptCorona pandemic : 40 percent survived on less food | कोरोना महामारी : 40 फीसदी ने कम भोजन से किया गुजारा | Patrika News

कोरोना महामारी : 40 फीसदी ने कम भोजन से किया गुजारा

- तीन फीसदी परिवारों को ही मिला नकद हस्तांतरण योजनाओं का कुछ लाभ : अध्ययन

बैंगलोर

Updated: April 01, 2022 11:47:28 am

- उधार के लिए अनौपचारिक स्रोतों पर निर्भरता बढ़ी
- 12 फीसदी परिवार को नहीं मिला ऋण
- 41 प्रतिशत श्रमिक काम से वंचित

बेंगलूरु. कोरोना महामारी (Corona Pandemic) गरीब परिवारों और श्रमिकों पर विशेष रूप से भारी पड़ी है। केवल तीन फीसदी परिवारों को राज्य सरकार द्वारा घोषित नकद हस्तांतरण योजनाओं का लाभ मिल सका है। कोविड के दौरान उधार के लिए अनौपचारिक स्रोतों पर निर्भरता बढ़ी। महामारी के जोर के दौरान 40 फीसदी लोगों ने औसत से कम खुराक पर गुजारा किया। 11 प्रतिशत परिवारों को दैनिक खर्च या पुराने कर्ज चुकाने के लिए उधार लेने पर मजबूर होना पड़ा। लेकिन, 12 फीसदी परिवार कोशिश करने के बावजूद उधार नहीं ले सके। कुछ खास वर्ग के लोगों को दूसरे तबकों से ज्यादा परेशानी हुई। नौकरी और आय का नुकसान 2020 के लॉकडाउन के बाद भी बना रहा। 41 प्रतिशत श्रमिकों के पास कोई काम नहीं था। अन्य 21 प्रतिशत ने वर्ष 2021 के जनवरी-फरवरी में कम कमाई की। दैनिक वेतन भोगी, घरेलू कामगार और खुदरा क्षेत्र के कर्मचारी सबसे अधिक प्रभावित हुए।

कोरोना महामारी : 40 फीसदी ने कम भोजन से किया गुजारा

33 वार्ड, 92 बस्तियां, 3000 घर
ये तमाम तथ्य अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय द्वारा बेंगलूरु के 33 वार्ड की 92 कम आय वाली बस्तियों में नौ सिविल सोसायटी संगठनों (सीएसओ) के सहयोग से कराए गए 3,000 घरों के सर्वेक्षण में सामने आए हैं। सर्वेक्षण कोरोना महामारी के कारण लगाए गए लॉकडाउन (lockdown) के निरंतर प्रभाव और रोजगार और आजीविका के आर्थिक व्यवधानों का अनुमान लगाने के लिए किया गया था। सर्वेक्षण में सरकारी सहायता तंत्र तक पहुंच की जानकारी हासिल की गई। इसमें कैब, ऑटो ड्राइवर, दैनिक वेतन भोगी, निर्माण, घरेलू कामगार और कारखानों के श्रमिक आदि को शामिल किया गया। यह सर्वेक्षण नवंबर 2021 में एक्शन ऐड, एसोसिएशन फॉर प्रोमोटिंग सोशल एक्शन, सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च और संगमा आदि की मदद से किया गया।

संपत्ति बेचने या गिरवी रखने को मजबूर
अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय (Azim Premji University) में सेंटर फॉर सस्टेनेबल एम्प्लॉयमेंट के प्रमुख अमित बसोले ने बताया कि अतिरिक्त 15 फीसदी परिवारों ने कोविड के दौरान उधार नहीं लिया। लेकिन, संपत्ति बेचने या गिरवी रखने पर मजबूर हुए। जिन्हें संपत्ति बेचने या गिरवी रखने की जरूरत पड़ी, उनमें से 97 फीसदी ने आभूषण से काम चलाने की बात कही। छह वर्ष से कम उम्र के बच्चे या गर्भवती या फिर स्तनपान कराने वाली मां होने पर सशर्त, कोविड के दौरान आंगनवाडिय़ों और आइसीडीएस से पूरक पोषण या विकल्प प्राप्त करने वाले परिवारों का प्रतिशत 38 रहा। कोरोना महामारी से पहले यह 24 फीसदी था।

डेढ़ वर्ष बाद भी काम नहीं
अल्पसंख्यक समुदाय के 10 फीसदी पुरुष और 15 फीसदी महिलाएं महामारी के डेढ़ वर्ष बाद तक बिना काम के रहे। गरीबी पहले से ज्यादा थी और महामारी के बाद और बढ़ गई।

सार्वजनिक वितरण प्रणाली
बीपीएल कार्ड वाले 55 फीसदी परिवारों ने कहा कि दूसरे लॉकडाउन के बाद से उन्हें सभी महीनों में नियमित मात्रा से अधिक अनाज मिला। अन्य 32 फीसदी लोगों को कम से कम कुछ महीनों में अतिरिक्त अनाज मिला।

जन धन योजना का खाता नहीं
78 फीसदी परिवारों के पास महिला स्वामित्व वाला जन धन खाता नहीं है। जिनके पास खाता था, उनमें से 75 फीसदी ने कुछ हस्तांतरण प्राप्त करने की सूचना दी और 40 फीसदी ने पूर्ण 1500 रुपए प्राप्त करने की सूचना दी।

शासन प्रणालियों में हो तत्काल सुधार
महामारी ने दिखाया है कि शहरों में गरीब कितने अदृश्य हैं और सार्वजनिक व्यवस्था जरूरतमंद और सबसे कमजोर लोगों तक पहुंचने में कितनी कमजोर है। शहर की शासन प्रणालियों को सुधारने की तत्काल आवश्यकता है।
- हाइमा वदलमणि, मुख्य सदस्य, कोविड प्रतिक्रिया टीम, अजीम प्रेमजी फाउंडेशन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

ममता बनर्जी का बड़ा फैसला, अब राज्यपाल की जगह सीएम होंगी विश्वविद्यालयों की चांसलरयासीन मलिक के समर्थन में खालिस्तानी आतंकी ने अमरनाथ यात्रा को रोकने की दी धमकीलगातार दूसरी बार हैदराबाद पहुंचे PM मोदी से नहीं मिले तेलंगाना CM केसीआरUP Budget 2022 : देश में पांच इंटरनेशनल एयरपोर्ट और पांच एटीएस वाला यूपी पहला राज्य, होंगी ये बड़ी सुविधाएंराष्ट्रीय खेल घोटाला: CBI ने झारखंड के पूर्व खेल मंत्री के आवास पर मारा छापाIRCTC 21 जून से शुरू करेगी श्री रामायण यात्रा स्पेशल ट्रेन, जानिए इस यात्रा से जुड़ी सभी जानकारीIPL में MS Dhoni, Rohit Sharma, Virat Kohli हुए 150 करोड़ के पार, कमाई जानकर आप हो जाएंगे हैरानइधर भी महंगाई: परिवहन मंत्रालय ने की थर्ड पार्टी बीमा दरों में बढ़ोतरी, नई दरें जारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.