scriptनिवेश आकर्षित करने के लिए नई पर्यटन नीति जल्द | New tourism policy soon to attract investments | Patrika News
बैंगलोर

निवेश आकर्षित करने के लिए नई पर्यटन नीति जल्द

उपमुख्यमंत्री डी.के.शिवकुमार ने शनिवार को कहा कि कर्नाटक सरकार उद्योग में निवेश आकर्षित करने के लिए नई पर्यटन नीति लाने की योजना बना रहा है।

बैंगलोरJun 15, 2024 / 07:14 pm

Yogesh Sharma

दो दिवसीय दक्षिण भारत उत्सव का उद्घाटन
उत्सव में सौ से अधिक स्टॉल लगी

बेंगलूरु. उपमुख्यमंत्री डी.के.शिवकुमार ने शनिवार को कहा कि कर्नाटक सरकार उद्योग में निवेश आकर्षित करने के लिए नई पर्यटन नीति लाने की योजना बना रहा है। फैडरेशन ऑफ कर्नाटका चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (एफकेसीसीआई) और कर्नाटक पर्यटन विभाग की ओर से पैलेस मैदान के प्रिंसेस श्राइन में आयोजित ‘दक्षिण भारत उत्सव’ कार्यक्रम में शिवकुमार ने कहा एक अच्छी पर्यटन नीति उद्योगपतियों और निवेश को आकर्षित करने में सक्षम होगी। जब उद्योगपति अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो सरकार को अधिक राजस्व मिलता है लोगों के लिए अधिक नौकरियां पैदा होती हैं और उद्योग फलता फूलता है। उपमुख्यमंत्री ने कहा आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी और तेलंगाना के कई प्रतिनिधि यहां हैं, मैं उनसे अपने अनुभव साझा करने का अनुरोध करता हूं। कर्नाटक अपनी 300 किलोमीटर लंबी तटरेखा को विकसित करना चाहता है। बेंगलूरु आईटी राजधानी होने के अलावा एक पर्यटन केंद्र भी बन सकता है।
स्काईडेक के लिए जल्द ही नई निविदा “कब्बन पार्क और लाल बाग बेंगलूरु के पारंपरिक पर्यटन स्थल थे। नई पीढ़ी के लोगों के लिए नए पर्यटन स्थल बनाने के लिए, हमने बेंगलूरु में स्काई डेक की योजना बनाई है। हम अगले 8-10 दिनों में स्काई डेक के लिए नई निविदाएं आमंत्रित करेंगे। उन्होंने कहा कि “हम डिज्नी लैंड की तर्ज पर वृंदावन को विकसित करने की भी योजना बना रहे हैं। इसके लिए पिछले बजट में बजटीय आवंटन किया गया है।
जीएसटी खत्म कर रहा पर्यटन उद्योग”18 प्रतिशत का जीएसटी पर्यटन उद्योग को खत्म कर रहा है। अगर व्यवसाय करों में आधे से अधिक पैसा खो देते हैं तो वे अधिक निवेश करने के लिए पर्याप्त रूप से प्रेरित नहीं होंगे। यह महत्वपूर्ण है कि लोग और उद्योग इन मुद्दों को उठाएं। उन्होंने पर्यटन उद्योग में निवेशकों और उद्योगपतियों से सरकार को लिखित रूप में अपनी मांगें प्रस्तुत करने का आग्रह किया।
पर्यटन उद्योग से बढ़ेेगा रोजगारइस अवसर पर पर्यटन मंत्री एच.के.पाटिल ने कहा कि सरकार कर्नाटक में पर्यटन उद्योग को और विकसित करने के लिए प्रयासरत है। पर्यटन उद्योग विकसित होगा तो रोजगार के नव अवसर सृजित होंगे। उन्होंने कहा कि दक्षिण भारत उत्सव इसमें अपनी अहम भूमिका निभाएगा। उन्होंने कहा कि पर्यटन उद्योग को विकसित करने के लिए 3750 करोड़ रुपए का करार हुआ है। इस अवसर पर अतिथियों ने एफकेसीसीआई की सोविनियर का लोकार्पण किया।
इस अवसर पर अपने स्वागत भाषण में फेडरेशन ऑफ कर्नाटका चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री(एफकेसीसीआई) के अध्यक्ष रमेशचंद लाहोटी ने कहा कि पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए आयोजित पैलेस ग्राउंड के प्रिंसेस श्राइन में दो दिवसीय ‘दक्षिण भारत उत्सव’ में पांच प्रमुख राज्य तेलंगाना, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, केरल के साथ लक्षद्वीप और पुड्डुचेरी के उद्यमी भी शिरकत कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि पांचों राज्योंं के अलग-अलग पैवेलियन बनाए गए हैं। इनमें सौ से अधिक स्टॉल लगी हैं। इससे पूर्व उपमुख्यमंत्री डी.के.शिवकुमार, पर्यटन मंत्री व अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। समारोह के बाद अतिथियों ने प्रिंसेस श्राइन में लगाए गए मेले का फीता काटकर उद्घाटन किया। समारोह के दौरान पर्यटन विभाग के निदेशक वी.रामप्रसाद मनोहर, एफकेसीसीआई के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एम.जी.बालकृष्णा, उपाध्यक्ष उमा रेड्डी, पूर्व अध्यक्ष, नॉर्थ कर्नाटक के विधायक प्रकाश कोलिवाड़ सहित एफकेसीसीआई के एमसी सदस्य, विभिन्न प्रांतों से आए व्यापारी भी मौजूद थे।

Hindi News/ Bangalore / निवेश आकर्षित करने के लिए नई पर्यटन नीति जल्द

ट्रेंडिंग वीडियो