scriptसमर्पण व शुद्ध भावना से होती है भवन की प्राण-प्रतिष्ठा: टाटिया | Patrika News
बैंगलोर

समर्पण व शुद्ध भावना से होती है भवन की प्राण-प्रतिष्ठा: टाटिया

चंद्रा ले-आउट में जैन भवन का लोकार्पण

बैंगलोरJul 08, 2024 / 08:11 pm

Santosh kumar Pandey

jain

बेंगलूरु. जैन रत्न हितैषी श्रावक संघ, बेंगलूरु व सम्यक ज्ञान प्रचारक मंडल के तत्वावधान में चंद्रा ले-आउट में नवनिर्मित सेठ चम्पालाल झणकार बाई डूंगरवाल जैन भवन का लोकार्पण किया गया। समारोह की अध्यक्षता अखिल भारतीय जैन रत्न हितैषी श्रावक संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष व न्यायाधीश प्रकाशचंद टाटिया ने की। विशिष्ट अतिथि के रूप में सम्यक ज्ञान प्रचारक मंडल, जयपुर के कार्याध्यक्ष विनय डागा उपस्थित रहे।टाटिया ने कहा कि भवन केवल, ईंट और गारे से नहीं बनता। बिना समर्पण व शुध्द भावना के बनाया गया भवन मनोरंजन स्थल तो हो सकता है, धार्मिक स्थल नहीं। यह भवन एक धार्मिक स्थल है। जहां धर्म जुड़ जाता है, उससे ऊपर कुछ भी नहीं है। जब हम अति समृद्ध जिनवाणी के आध्यात्मिक जीवन मूल्यों से प्रेरित होकर किसी की प्राण प्रतिष्ठा में जुट जाते हैं तो सचमुच प्राण प्रतिष्ठा होती है। इससे जुड़े लोगों के समर्पण से ही इसमें प्राणों की प्रतिष्ठा होती है। इसमें धन के साथ ही, श्रम किसका लगा, मन किसका लगा, वह भी महत्वपूर्ण है। उन्हें भी याद रखना चाहिए। हमारा शुद्ध पैसा, शुद्ध कार्य के लिए, शुद्ध भावना से जुड़ जाता है तो उसमें प्राण प्रतिष्ठ होती है। ट्रस्ट शब्द की मार्मिक व्याख्या करते हुए कहा कि हमें किसी की भावना को ठेस नहीं पहुंचाना चाहिए। ट्रस्ट का मतलब ही विश्वास है। हमें विश्वास पर खरा उतरना है। एक केयर टेकर की भावना से काम करना है। हमें अपने धर्म, अपने संस्कार के अनुसार चलना है। ट्रस्ट को बनाकर रखना हमारी जिम्मेदारी है। जयपुर से आए संघ के पूर्व अध्यक्ष सुमेर सिंह बोथरा ने विचार व्यक्त किए। अंत में भरत सांखला ने धन्यवाद दिया।
जैन भवन का उद्घाटन सम्यक ज्ञान प्रचारक मंडल, बेंगलूरु के अध्यक्ष चेतनप्रकाश शांतिलाल डूंगरवाल परिवार ने किया। प्रवचन हाल का उद्घाटन प्रकाशबाई दलीचंद नाहटा, विजयाबाई किशनलाल नाहटा परिवार ने किया। प्रथम तल व लिफ्ट का उद्घाटन लाभार्थी एच उत्तमचंद प्रमिला भंडारी परिवार ने किया। दूसरे तल का उद्घाटन डूंगरवाल परिवार व रिश्तेदारों ने किया। पगारिया मुथा डाइनिंग हाल का उद्घाटन लाभार्थी भोपालचंद पगारिया परिवार व हुकुमीचंद डोशी परिवार ने किया। संघ की ओर से भवन निर्माण में सहयोगियों, लाभार्थी परिवारों, ट्रस्टियों का सम्मान किया गया।
भवन निर्माण समिति के संयोजक छगनमल लुणावत व उनकी टीम, सह संयोजक सुरेशचंद भंडारी, आदर्श विद्या संघ के अध्यक्ष पदमराज मेहता, सुशील कुमार डूंगरवाल उपस्थित थे। इस मौके पर राष्ट्रीय संघ कार्याध्यक्ष मनीष मेहता, शासन सेवा समिति के सह संयोजक कैलाशचंद हीरावत, सम्यक ज्ञान प्रचारक मंडल, बेंगलूरु के सचिव यशवंतराज सांखला, नरेंद्र भंडारी, भरत सांखला, विवेक लोढ़ा आदि उपस्थित थे।प्रारम्भ में अध्यक्ष डूंगरवाल ने स्वागत किया। संचालन गौतमचंद ओस्तवाल ने किया।
इनकी भी रही उपस्थिति

शांतिलाल सांड, किशनलाल कोठारी, पुखराज मेहता, रणजीतमल कानूंगा, ज्ञानराज मेहता, गणेशमल गुगलिया,अशोक कुमार गुगलिया, बी शांतिलाल पोखरणा, शांतिलाल गोटावत, सज्जनराज मेहता के साथ ही बल्लारी से पारसमल बोथरा, विजयपुर से शांतिलाल बोथरा, हैदराबाद से राजेन्द्र कुमार कटारिया, अहमदाबाद से रत्न संघ स्वर्ण महोत्सव के राष्ट्रीय चेयरमैन राजेन्द्र कुमार लुंकड़, जयपुर से प्रमोद लोढ़ा, शिवमोग्गा से बस्तीमल श्रीश्रीमाल, मैसूरु से दलपतराज सिंघवी, प्रवीण कुमार रुणवाल, सम्पतराज भंडारी, रामनगर से पदमचंद धोका आदि उपस्थित थे।

Hindi News/ Bangalore / समर्पण व शुद्ध भावना से होती है भवन की प्राण-प्रतिष्ठा: टाटिया

ट्रेंडिंग वीडियो