आरएसएस कार्यकर्ता की शवयात्रा पर पथराव

चार दिन पहले जानलेवा हमले में घायल और बीती रात एक निजी अस्पताल में दम तोडऩे वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) कार्यकता शरत मडिवाल (28) की शवयात्रा पर शनिवार को पथराव किया गया

By: शंकर शर्मा

Published: 09 Jul 2017, 04:41 AM IST

मेंगलूरु. चार दिन पहले जानलेवा हमले में घायल और बीती रात एक निजी अस्पताल में दम तोडऩे वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) कार्यकता शरत मडिवाल (28) की शवयात्रा पर शनिवार को पथराव किया गया। इस कारण शहर में तनाव फैल गया और पुलिस को हालात पर काबू में करने लाठी चार्ज करना पड़ा। पुलिस ने 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

संघ के सदस्यों ने शनिवार को शरत का शव उनके गांव केंदूर ले जाने का फैसला लिया। इसके लिए पुलिस की कड़ी सुरक्षा की गई थी। कई जगहों पर पुलिस को तैनात किया गया था। जब शवयात्रा बंटवाल तहसील के कैकंबा गांव पहुंची तो कुछ लोगों ने पथराव किया। पथराव से 1 निजी बस, 5 कार, 1 जीप समेत 12 वाहनों के शीशे टूट गए और काफी नुकसान हुआ। तनाव फैलने पर लोगों ने दुकानें, होटल और अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद कर दिए। पुलिस ने उपद्रवियों पर लाठी चार्ज कर खदेड़ा और 9 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। लाठी चार्ज में एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे सरकारी वेनलाक अस्पताल मे भर्ती कराया गया है। लाठी चार्ज में भी 7 लोग घायल हुए है।

कड़ी सुरक्षा के बीच केंदूर गांव में शाम को अंतिम संस्कार किया गया। यात्रा के दौरान भाजपा, आरएसएस, बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद और अन्य संगठनों के कार्यकर्ताओं ने बारिश की परवाह किए बगैर बड़ी संख्या में भाग लिया। बंटवाल, कल्लड़का, बीसी रोड और अन्य क्षेत्रों में केंद्रीय आरक्षी पुलिस बल (सीआरपीएफ), अति संवेदनशील क्षेत्रों में त्वरित कार्य बल (आरएएफ) की दो, कर्नाटक राज्य पुलिस आरक्षी बल (केएसआरपी) की चार टुकडिय़ों समेत दो हजार पुलिस कर्मचारियों को तैनात किया गया था।

धरना और गिरफ्तारी
इसी बीच बीसी रोड पर भाजपा, आरएसएस और अन्य संगठनों ने शरत की हत्या के विरोध में धरना दिया और आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की। पुलिस ने निषेेधाज्ञा का उल्लंघन करने पर सांसद शोभा करंदलाजे, नलीन कुमार कटील, विधायक सुनील कुनमार, गणेश कार्णिक और कई अन्य कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया। दक्षिण कन्नड़ जिले में इस घटना के बाद तनाव व्याप्त है। जिले में दुकान, होटल, सिनेमा घर और अन्य व्यापार प्रतिष्ठान बंद हैं। पश्चिम रेंज के पुलिस महानिरीक्षक पी. हरिशेखरन और पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार रेड्डी और अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी सुरक्षा का निरीक्षण कर रहे है।

पुलिस को सख्ती करने के निर्देश
गृह विभाग का जिम्मा संभाल रहे मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने सांप्रदायिक सौहार्द तोडऩे वालों के खिलाफ गंभीर कार्रवाई की चेतावनी दी है।  उन्होंने पुलिस को निर्देश दिया है कि कानून हाथ में लेने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें चाहे वह कोई भी और उसका ताल्लुक किसी भी संगठन से हो। यहां शनिवार को पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अपराधियों को पकड़ कर कार्रवाई के निर्देश पहले ही दे दिए हैं। राज्य में कानून-व्यवस्था के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा। कुछ असामाजिक तत्व इन घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।
शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned