जमने लगा पानी, ठहर गई ओस की बूंदे, बाड़मेर @ 7.1 डिग्री

-हाड़ कंपा देने वाली सर्दी से राहत नहीं
-लगातार 24 घंटे चल रही बर्फीली हवा
-सर्दी के चलते सड़कें शाम होते ही सूनी

By: Mahendra Trivedi

Published: 29 Dec 2020, 08:46 PM IST

बाड़मेर. रात में गिरने वाली ओस की बूंदे अल सुबह वाहनों पर जमी मिलती है। बर्तनों में पानी पर भी बर्फ की सतह बन रही है। थार में डूब रहा रात का पारा हाड़ कंपा देने वाली सर्दी का भीतर तक अहसास करवा रहा है। सर्दी का असर ऐसा है कि लगातार 24 घंटे ठिठुरन बनी हुई है। बाड़मेर में मंगलवार को न्यूनतम तापमान मामूली चढ़कर 7.1 डिग्री दर्ज हुआ। लेकिन सर्दी का जोर बना रहा।
बर्फीली हवा अब तन को बींध रही है। गर्म कपड़ों से भी राहत नहीं मिल रही है। आमजन अब तेज सर्दी के कारण प्रभावित हो रहा है। शाम होते ही सड़कें सूनी हो जाती है। आवाजाही दिन में भी ज्यादा नहीं हो रही है। लोग सर्दी के कारण बहुत ही जरूरी होने पर ही बाहर निकल रहे हैं।
राहत की कोई नहीं उम्मीद
आगामी पूरे सात दिनों तक सर्दी से कोई राहत की उम्मीद नहीं है। मौसम विभाग ने लगातार 4 जनवरी तक रात का तापमान 6-7 डिग्री के बीच रहने की संभावना जताई है। वहीं तेज सर्द हवा का भी असर बना रहेगा। ऐसे में मैदानी इलाकों में सर्दी का प्रकोप ज्यादा होगा।
सर्दी से बचाव के लिए ये उपाय अपनाएं
पंछियों के परिंडे में जमी बर्फ
बाड़मेर के निकटवर्ती आटी गांव स्थित किसान खुमाणसिंह राठौड़ के कृर्षि फार्म पर सर्द हवा और धूजणी छूड़ाने वाली सर्दी के चलते पक्षियों के लिए लगाए गए पानी के परिंडो में बर्फ जमी मिली। ग्रामीण छोटूसिंह ने बताया कि वह प्रतिदिन पक्षियों के लिए पानी भरकर जाते हैं। जब खेत में लगे परिंडे में पानी बदलने गए तो उसमें बर्फ जमी मिली।

Mahendra Trivedi Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned