मंडरा रहा खतरा, मिटने की लगी उम्मीद

- मुख्यमंत्री की घोषणा से राहत की आस

- हर बार उठती मांग बजट बन जाता रोड़ा

By: Dilip dave

Published: 23 Aug 2020, 06:43 PM IST

दिलीप दवे

बाड़मेर. खतरे में बीच में पढ़ रहे विद्यार्थियों को अब राहत मिलेगी। मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद उम्मीद जगी है। एेसे में सालों से हाईटेंशन विद्युत लाइन व ट्रांसफार्मर के पास बैठकर पढऩे वाले विद्यार्थियों की जिंदगी खतरे में नहीं पड़ेगी। मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद जिले में १०२ विद्यालयों से विद्युत खतरा हटने की आस जगी है। खास बात यह है कि सालों से यह मुद्दा प्रशासन, जनप्रतिनिधियों के सामने आता रहा है, लेकिन बजट का अभाव इसमें रोड़ा बन रहा था।

अब सरकार के मुखिया ने ही घोषणा कर दी है तो फिर खतरे हटने की पूरी आस है। जिले के हजारों विद्यार्थी हाईटेंशन विद्युत लाइन के साये में शिक्षा ग्रहण करने का टेंशन लेकर पढ़ रहे हैं। इन सरकारी विद्यालयों की छत, चारदीवारी या मैदान के बीच से होकर विद्युत लाइनें जा रही हैं तो कहीं पर ट्रांसफार्मर लगे हुए हैं। एेसे में बच्चों के छूने पर अनहोनी का डर हमेशा रहता है।

यह समस्या करीब दो दशक से चल रही है, लेकिन समाधान नहीं हो पा रहा था। जब भी कोई हादसा होता तो मांग उठती, जनप्रतिनिधि व प्रशासन हटाने की बात कहता और मामला कुछ दिन बाद ठंडे बस्ते में चला जाता। लम्बे समय से यह स्थिति रही है। हो चुका है हादसा- हाईटेंशन विद्युत लाइन की चपेट में आने से जिले के मूंगड़ा गांव में मई २००८ में दो बच्चे पेड़ पर चढ़े हुए थे, जिसमें से गुजर रही विद्युत लाइन की चपेट में आए। इसमें से एक की मौत हो गई थी। इस हादसे के बाद कई बार विद्युत लाइनें व ट्रांसफार्मर हटाने की मांग उठती रही, लेकिन समाधान नहीं हो पाया। विद्युत लाइन हटाने का कौन दे खर्चा- सरकारी विद्यालयों से विद्युत लाइन हटाने को लेकर बड़ी समस्या बजट की आ रही थी। विद्यालयों के पास बजट नहीं होने पर वे चाहकर भी लाइनें हटा नहीं पा रहे हैं। जबकि नियमानुसार लाइनें हटाने के लिए बजट की जरूरत रहती है। एेसे में मामला अभी तक अधरझूल में ही है। अब लगी आस- मुख्यमंत्री ने पिछले दिनों यह घोषणा की थी कि पूरे प्रदेश में सरकारी विद्यालयों से विद्युत तंत्र को हटा विद्यार्थियों के सिर से खतरा कम किया जाएगा। इस घोषणा से बजट की समस्या का हल हो चुका है। एेसे में आस है कि जल्द ही जिले के विद्यालय हाईटेंशन से मुक्त होंगे।

मुख्यमंत्री ने की घोषणा- मुख्यमंत्री ने हाल ही में घोषणा की है जिससे उम्मीद है कि पूरे प्रदेश में विद्युत तंत्र का स्कू  ल पर लहरा रहा खतरा खत्म होगा। सरकार की यह पहल सराहनीय है।- मेवाराम जैन, विधायक बाड़मेर

फैक्ट फाइल ( पुराने ब्लॉक पर आधारित )ब्लॉक विद्युत लाइन के नीचे विद्यालयों की तादादधोरीमन्ना ४५चौहटन,सेड़वा,धनाऊ- १९बाड़मेर/रामसर- ०९सिणधरी ०८बायतु/ गिड़ा / पाटोदी ०८बालोतरा/कल्याणपुर ०४सिवाना, समदड़ी ०५शिव, गडरारोड ०४कुल १०२

Dilip dave Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned