scripthttps:translate.google.co.in?slhitlentextE0A4ACE0A580E0 | बीएसएफ किस तरह कर रही है बर्निंग फैमिली की हैल्प | Patrika News

बीएसएफ किस तरह कर रही है बर्निंग फैमिली की हैल्प

प्रशासन अभी ऑनलाइन पोर्टल का इंतजार कर रहा, बीएसएफ ने टैंट-राशन और सहायता कर दी
जले हुओ पर बीएसएफ का मरमह, प्रशासन का नमक

बाड़मेर

Published: May 09, 2022 11:55:41 am


रतन दवे
बाड़मेर .
आगजनी की घटना में गरीब परिवारों का सबकुछ तबाह हो जाए और वे आसमान तले आकर जार-जार रोने लगे तब बहते आंसूओं को देखकर किसी का भी दिल पिघल जाए लेकिन प्रशासनिक व्यवस्थाएं यहां पर भी जले पर नमक का ही कार्य कर रही है। सात दिन पहले सीमांत मालाणा गांव में हुई घटना में सात परिवारों के बाद जो बीती है उसने आग पर मरहम और नमक दोनों सामने ला दी है। सरकारी कागजी कार्रवाई इन जले हुओं को तत्काल सांत्वना देने के अलावा कुछ नहीं कर पा रही है।
यह हुई घटना
मालाणा गांव में 28 अप्रेल को सात घरों को चपेट में लिया। पक्के मकान व दुकानों में आग की भेंट चढ़े।12 बकरियां मर गई। घरेलू सामान स्वाहा हो गया। सात परिवारों के पचास से अधिक महिला-पुरुष बच्चे आसमान तले आ गए।
बीएसएफ ने यों लगाया मरहम
- तत्काल पहुंचकर आग पर काबू पाया
- आग से प्रभावित हुए परिवारों को टैंट मुहैया करवाया
-करीब एक लाख रुपए की राशन सामग्री व जरूरत का सामान दिया
- मेडिकल और मदद का इंतजाम किया
प्रशासन का यह है नमक
- फायर ब्रिगेड तीन घंटे बाद पहुंची
-मौके पर तहसीलदार आए सांत्वना देकर रवाना
- बीएसएफ की मदद को गिना रहे, खुद का कुछ नहीं
- नियमानुसार मदद होगी, पीडि़त आवेदन तो करे
अब भी प्रक्रिया का जाल
पहले पोर्टल पर जाओ
आगजनी की घटनाओं को लेकर अब ऑन लाइन पोर्टल है। पीडि़त को आवदेन करना होगा। यह जानकारी तहसीलदार तक जाएगी और तहसीलदार की रिपोर्ट कलक्टर को होने के बाद नियमानुसार राशि जारी होगी। इसमें महीनेभर और ज्यादा भी समय लग जाता है।
पोर्टल पर जाएं
आग से जले अधिकांश परिवार झोंपों में रहने वाले गरीब है। इन परिवारों के लिए पोर्टल और ऑन लाइन किसी बला से कम नहीं है। अपनी बर्बादी पर आंसू बहाने वाले ये लोग ऑन लाइन जाए या उजड़ चुकी दुनियां पर आंसू बहाए। हफ्ते-दस दिन इनको लग जाते है और फिर सरकारी प्रक्रिया।
तत्काल मिलती है सांत्वना
जैसे ही आग की घटना होती है यहां पर बड़ी घटना हों तो प्रशासन अधिकारी, छोटी घटना हों तो पटवारी और कई बार कोई नहीं पहुंचता है। बाद में ही मौका रिपोर्ट दी जाती है। इनके पास तत्काल देने को कुछ नहीं होता है। पीडि़त परिवार के सांत्वना देकर लौट आते है।
बाद में भी मामूली मदद
आगजनी के बाद में कच्चा झोंपा चलने पर महज 4100 रुपए मिल रहे है। एक झोंपा बनाने में मेहनत के अलावा 40-50 हजार रुपए व्यय हो जाते है। सामग्री के लिए 2000 रुपए और कपड़ों के लिए 1800 यानि कुल 3800 रुपए दिए जा रहे है। पक्का मकान जलने पर 90000 मिलते है।
आवेदन करेंगे तो सहायता मिलेगी
मैं मौके पर गया था । तत्काल कुछ नहीं मिलता है। बीएसएफ ने मदद की है। ऑन लाइन आवेदन करेंगे तो इसके बाद नियमानुसार मदद दी जाएगी। मदद के लिए अलग-अलग राशि तय है।-मीठालाल मीणा, नायब तहसीलदार
दुआएं बीएसएफ के लिए
हम तो बीएसएफ के बहुत शुक्रगुजार है। रोजे रखे हुए थे, आग लगते ही फौजियों को कहा तो तुरंत आ गए। आग पर काबू पाया और इसके बाद हमारी पूरी मदद कर रहे है। इनके लिए जितनी दुआएं पढ़ी जाए उतनी कम है।- सकूरखां, पीडि़त
तुरंत दे तब बात है
आग से सबकुछ जल गया। हम लोग आसमान तले आ गए । भला हो बीएसएफ का मदद की। उम्मीद होती है कि अफसर तुरंत आकर व्यवस्था करे। सबकुछ जलने के बाद क्या रहता है। -पन्नूखां, पीडि़त
बीएसएफ किस तरह कर रही है बर्निंग फैमिली की हैल्प
बीएसएफ किस तरह कर रही है बर्निंग फैमिली की हैल्प

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

NSA अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक को लेकर केंद्र का बड़ा एक्शन, हटाए गए 3 कमांडोरोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियागुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानलालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाBJP के नए संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति का गठन, गडकरी व शिवराज की छुट्टी, देखिए कौन-कौन नेता शामिलMaharashtra Monsoon Session: व्हिप को लेकर आमने-सामने हुए शिंदे गुट और ठाकरे खेमा, महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष का जमकर हंगामा'अपने पहले मैच में 4 रन बनाकर आउट हो गए थे सचिन तेंदुलकर' 35 साल बाद उसी मैदान पर पहुंच भावुक हुए मास्टर ब्लास्टरIPL फ्रेंचाइजी टीम कोलकाता नाइट राइडर्स को चंद्रकांत पंडित के रूप में मिला नया हेड कोच, ब्रैंडन मैक्कुलम की लेंगे जगह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.