जीरे से भरे ट्रक को लूटेरों ने घेरा, हमले के बाद 30 हजार लूटे

- गुजरात के थराद के पास हुई वारदात
- ट्रक चालक सहित किसानों को जमकर पीटा
- ट्रक में भरी थी 250 जीरे की बोरी

By: Ratan Singh Dave

Published: 22 Jun 2020, 10:19 PM IST

बाड़मेर.
बाड़मेर से गुजरात की ऊंझा मण्डी जा रहे जीरे से भरे ट्रक को घेरने के बाद पत्थर बरसाते हुए किसानों पर जानलेवा हमला कर दिया। हमले के बाद लुटेरे 30 हजार रुपए लेकर फरार हो गए। बाड़मेर के किसानों ने गुजरात के थराद पुलिस स्टेशन में अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया।

250 बोरी जीरा ट्रक में

जानकारी अनुसार बायतु भीमण्डा निवासी ट्रक चालक खरथाराम पुत्र मानाराम ने थराद थाने में रिपोटज़् पेश कर बताया कि बाड़मेर से 4-5 किसानों की 250 बोरी जीरा ट्रक में भरकर गुजरात की ऊंझा मण्डी की तरफ जा रहे थे। थराद-डीसा हाईवे पर जेतड़ा-लाखणी गांव के बीच शनिवार देररात एक अज्ञात कार में सवार लुटेरों ने पीछा करना शुरू किया, कुछ ही दूरी ट्रक के आगे बे्रक लगाते हुए ट्रक को घेर लिया और पत्थर बरसाने शुरू कर दिए। लूट होने का अंदेशा होने पर ट्रक को भगाते हुए सड़क किनारे एक होटल पर पहुंचे। जहां कोई नहीं होने पर लूटेरों ने पत्थरों से हमला कर दुबारा घेर लिया। उसके बाद जमकर पट्टों से मारपीट करते हुए 30 हजार रुपए लेकर भाग गए। पीडि़त ने बताया कि मामला दजज़् करवाया है, पुलिस ने कहा है कि आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।

सीसीटीवी में कैद हुई वारदात


गुजरात में जीरे भरे ट्रक लूट की वारदात का सीसीटीवी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। सीसीटीवी में तस्वीरों के अनुसार जीरे से भरे ट्रक को कुछ लोग घेर लेते है। उसके बाद पत्थर ट्रक पर बरसाते हुए ट्रक चालक को नीचे उतार कर जमकर मारपीट की वारदात को अंजाम देते है। पत्थर से ट्रक के कांच तोड़ दिए।


पहले भी हुई लूट का घटनाएं


एक साल पहले गुजरात से ऊंझा जा रहे जीरे से भरे ट्रक को लूट लिया था। मामले में पुलिस ने गुजरात के डफर गैंग का हाथ होने का खुलासा किया था। इसके अलावा कई बार गुजरात के डीसा के पास बाड़मेर से ऊंझा मण्डी जा रहे जीरे से भरे ट्रक लूटे है। वषज़् 2018 में लुटेरों ने जीरे से भरा ट्रक घेर लिया था। उसके बाद व्यापारी को बंधक बना ट्रक लूटने का प्रयास किया था, लेकिन ट्रक स्टार्ट नहीं होने से लूटेरे सफल नहीं हो पाए थे।


इसलिए जाते है किसान ऊंझा


बाड़मेर जिले जीरा मण्डी नहीं होने की वजह से किसान गुजरात ले जाकर जीरा बेचते है। उल्लेखनीय है कि प्रतिवर्ष बाड़मेर जिले में जीरे की पैदावार बढ़ रहा है। यहां अब करीब 16 अरब के जीरे की पैदावर हो रही है। बाड़मेर में जीरा मण्डी खोलने की घोषणा के साथ यहां निमाज़्ण कायज़् शुरू हुआ, लेकिन फजीवज़ड़ा होने से यह मण्डी अटक गई है।

Ratan Singh Dave
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned