scriptNot only books, children of Barmer-Dungarpur will read comics inschool | किताबें ही नहीं स्कूल में कॉमिक्स पढ़ेंगे बाड़मेर-डूंगरपुर के बच्चे | Patrika News

किताबें ही नहीं स्कूल में कॉमिक्स पढ़ेंगे बाड़मेर-डूंगरपुर के बच्चे

- पायलट प्रोजेक्ट के तहत दोनों जिलों का चयन

बाड़मेर

Published: June 29, 2022 11:53:38 pm

दिलीप दवे बाड़मेर. खुद मेँ छुपी प्रतिभा को विद्यार्थी पहचाने और अपने को और से कमतर मानने की सोच बदले इसको लेकर अब बाड़मेर व डूंगरपुर जिले के सरकार विद्यालयों में कक्षा छठीं से आठवीं के बच्चे कॉमिक्स पढ़कर आत्मविश्वास प्राप्त करेंगे। आत्मसम्मान कौशल शिक्षा के रूप में पायलट प्रोजेक्ट शुरू है जिसमें बाड़मेर व डूंगरपुर को शामिल किया गया है, यहां अध्ययनरत बच्चों को छह कॉमिक्स किताबों के साथ दी जाएगी जिसको पढ़कर उनमें आत्मविश्वास जगेगा।

किताबें ही नहीं स्कूल में कॉमिक्स पढ़ेंगे बाड़मेर-डूंगरपुर के बच्चे
किताबें ही नहीं स्कूल में कॉमिक्स पढ़ेंगे बाड़मेर-डूंगरपुर के बच्चे

यह भी पढ़े़ं: प्रदेश के टॉपर ने बताए सफलता के गुर, जानिएं कैसे बना अव्वल |

राजस्थान राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद आरएससीईआरटी की ओर से आत्मसम्मान कौशल शिक्षा प्रोजेक्ट लागू किया गया है। इसके लिए बाड़मेर का चयन हुआ है। योजना के तहत कक्षा छठीं से आठवीं में अध्ययनरत ऐसे बच्चे जो शारीरिक बदलाव व खुद को दूसरों से कमतर की सोच के चलते हीन भावना से ग्रसित हो जाते हैं, उनके आत्मविश्वास जगाने की पहल है। योजना के तहत छह कॉमिक्स बुक बनाई गई है जो इन बच्चों को बांटी जाएगी जिसे पढ़कर वे अपनी प्रतिभा को जानकर दूसरों से कमतर होने की हीन भावना को त्याग कर अपनी क्षमता का विकास कर सके। प्रोजेक्टर यूनिसेफ इंडिया और सेंटर फॉर अपीयरेंस रिसर्च डब सेल्फ एस्टिम प्रोजेक्टर के सहयोग से बनाया गया है।

यह भी पढ़े़ं: अब तक कपड़ा आया ना मिली राशि, कब होगी यूनिफॉर्म की सिलाई |

सह शैक्षणिक गतिविविधों को बढ़ावा देने की कवायद- दरअसल विद्यालयों में अध्यनरत बच्चों में होने वाले शारीरिक बदलाव के साथ आत्मविश्वास की कमी पर वे सह शैक्ष्णिक गतिविधियों में भाग नहीं ले पाते। उनमें दूसरों से कम होने की भावना धीरे-धीरे घर कर जाती है, इस हीन भावना को दूर कर दूसरों के साथ कंधा से कंधा मिला सह शैक्षणिक गतिविधियों में शामिल हो इसको लेकर यह कार्यक्रम चलाया जाएगा। गौरतलब है कि उक्त कक्षाओं में पढ़ने वाले बच्चे किशोर होते हैं जिनकी शारीरिक बदलाव पर सोच व व्यवहार परिवर्तित हो जाता है। इस पर अधिकांश बच्चे ग्रुप गतिविधियों, राय देने व कई गतिविधियों में भाग लेने से खुद का पीछे हटा देते हैं।

शिक्षकों को मिलेगा प्रशिक्षण प्रोजेक्ट के तहत शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसको लेकर कलस्टर का गठन होगा जिसके अध्यापकों को तीन दिवसीय, जिला स्तर पर तीन दिवसीय व राज्य स्तर पर चार दिवसीय प्रशिक्षण मिलेगा।

नवीन पायलट प्रोजेक्ट लागू यह एक तरह का नया पायलट प्रोजेक्ट है जो जिले में लागू हो रहा है। इसको लेकर शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। शिक्षक बच्चों में कॉमिक्स के माध्यम से आत्मविश्वास पैदा करेंगे जिससे कि वे हीन भावना को छोड़ आगे बढ़ सके। - सरोज चौधरी, डीआरयू जिला संदर्भ इकाई सभागाध्यक्ष डाइट बाड़मेर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

हरियाणा में निकली 6600 फीट लंबी तिरंगा यात्रा, मनाया जा रहा आजादी के अमृत महोत्सव का जश्नIndependence Day 2022: लालकिला छावनी में तब्दील, जमीन से आसमान तक काउंटर-ड्रोन सिस्टम से निगरानी14 अगस्त को 'विभाजन विभिषिका स्मृति दिवस' मनाने पर कांग्रेस का BJP पर हमला, कहा- नफरत फैलाने के लिए त्रासदी का दुरुपयोगOne MLA-One Pension: कैप्टन समेत पंजाब के इन बड़े नेताओं को लगेगा वित्तीय झटकाइसलिए नाम के पीछे झुनझुनवाला लगाते थे Rakesh Jhunjhunwala, अकूत दौलत के बावजूद अधूरी रह गई एक ख्वाहिशRakesh Jhunjhunwala Net Worth: परिवार के लिए इतने पैसे छोड़ गए राकेश झुनझुनवाला, एक दिन में कमाए थे 1061 करोड़हर घर तिरंगा अभियान CM योगी ने झंडा लगाकर की शुरुआतपिता ने नहीं दिए पैसे, फिर भी मात्र 5000 के निवेश से कैसे शेयर बाजार के किंग बने राकेश झुनझुनवाला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.