scriptState's topper told the tricks of success | राजस्थान के टॉपर ने बताए सफलता के गुर, जानिए कैसे बना अव्वल | Patrika News

राजस्थान के टॉपर ने बताए सफलता के गुर, जानिए कैसे बना अव्वल

किसी भी सफलता के कोचिंग के बजाय स्वाध्याय महत्वपूर्ण है, यह साबित कर दिखाया बाड़मेर जिले के ग्रामीण परिवेश में पढ़े लिखे शंकरसिंह पोटलिया ने।

बाड़मेर

Published: June 27, 2022 09:29:19 pm


बाड़मेर.किसी भी सफलता के कोचिंग के बजाय स्वाध्याय महत्वपूर्ण है, यह साबित कर दिखाया बाड़मेर जिले के ग्रामीण परिवेश में पढ़े लिखे शंकरसिंह पोटलिया ने। उन्होंने आरपीएससी की ओर से आयोजित कॉलेज व्याख्याता एसोसिएट प्रोफेसर इतिहास में पूरे प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त किया।
प्रदेश के  टॉपर  ने बताए सफलता के गुर, जानिएं कैसे बना अव्वल
बाडमेर में अव्वल प्रतिभा को सम्मानित करते हुए।
यह भी पढ़े: अब पैदल नहीं पेंडल चला कर स्कूल पहुंचेगी 5800 छात्राएं |

स्वाध्याय ही सफलता का स्वर्णिम रास्ता है। प्रमाणिक पुस्तकों को पढ़ें और बार-बार उसी विषय वस्तु का अध्ययन करें। व्यक्ति कोई भी लक्ष्य लेकर उसके प्रति पूर्ण निष्ठा, लगन और समर्पण से जुड़ जाता है तो अवश्य ही सफल होता है। यह विचार राजकीय पीजी महाविद्यालय के एनसीसी कॉम्प्लेक्स के रूबरू सेशन में राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित असिस्टेंट प्रोफेसर की भर्ती में इतिहास विषय में प्रथम स्थान पर चयनित शंकर सिंह पोटलिया ने व्यक्त किए ।
यह भी पढ़े: अब तक कपड़ा आया ना मिली राशि, कब होगी यूनिफॉर्म की सिलाई |

उन्होंने कहा कि उनका शुरू से ही यह ध्येय था कि उन्हें असिस्टेंट प्रोफेसर ही बनना है, इसके लिए लगातार उनकी कोशिशें जारी रही। कुछ परीक्षाओं में सफल रहे और कुछ परीक्षाओं में असफलता हाथ लगी, लेकिन मूल लक्ष्य को उन्होंने छोड़ा नहीं। इस सफलता के लिए वह पहले से ही आशान्वित थे । उन्होंने विद्यार्थियों के प्रश्नों का उत्तर देते हुए कहा कि उन्होंने कभी भी कोचिंग नहीं की और वो कोचिंग के बिल्कुल भी पक्षधर नहीं है। नेट, जेआरएफ और अन्य परीक्षाओं की जानकारी दी।
इस अवसर पर आदर्श किशोर ने साफा बंधवाकर स्वागत किया।सोहन राज परमार, प्रो केसाराम और पुखराज सारण ने शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया। कार्यक्रम का संचालन कैडेट पुष्पा ने किया और आभार लक्ष्मी ने ज्ञापित किया। हितेश सऊ , केसाराम ओमप्रकाश, जैताराम, दिनेश कुमार गोदारा सहित बड़ी संख्या में एनसीसी कैडेट्स , एयर रोवर उजास के विद्यार्थी मौजूद रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

14 अगस्त स्मृति दिवस: वो तारीख जब छलनी हुआ भारत मां का सीना, देश के हुए थे दो टुकड़ेआरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का बड़ा बयान, बापू की छोटी सी भूल ने भारत के टुकड़े करा दिएHimachal Pradesh: जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने पर होगी 10 साल की जेल, लगेगा भारी जुर्मानाDGCA ने एयरपोर्ट पर पक्षियों के हमले को रोकने के लिए जारी किया दिशा-निर्देश'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.