विधायक ने CM से कहा, साहब रेमडेसिविर इंजेक्शन नहीं मिल रही, कोरोना रिपोर्ट भी मिल रही देरी से, क्या करें ?

प्रदेश स्तरीय कांग्रेस पदाधिकारियों की वर्चुअल बैठक में बेमेतरा विधायक आशीष छाबड़ा शामिल हुए। बैठक को प्रदेश कांग्रेस प्रभारी सहित छत्तीगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी संबोधित किया।

By: Dakshi Sahu

Published: 13 Apr 2021, 01:01 PM IST

बेमेतरा. प्रदेश स्तरीय कांग्रेस पदाधिकारियों की वर्चुअल बैठक में बेमेतरा विधायक आशीष छाबड़ा शामिल हुए। बैठक को प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पीएल पूनिया सहित छत्तीगढ़ के CM Bhupesh Baghel ने भी संबोधित किया। बैठक के प्रारंभ में प्रदेश के स्वास्थ मंत्री टीएस सिंहदेव ने वर्चुअल बैठक के माध्यम से उपस्थित सभी मंत्री, विधायक व कांग्रेस पदाधिकारियों को जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में प्रदेश में कोरोना covid-19 संक्रमण तेजी से फैला है। जिसके कारण अव्यवस्था हुई है परंतु जल्द ही स्थिति पर नियंत्रण कर लिया जाएगा। जिसके लिए प्रयास किए जा रहे है।

Read more: कृषि मंत्री के गृह जिले में बेकाबू कोरोना, जान बचाने वाली रेमडेसिवर इंजेक्शन का सरकारी स्टॉक खत्म, बेबस हुए लोग ....

बेमेतरा विधायक ने रेमडेसिविर इंजेक्शन, सीटी स्कैनर समेत अन्य मुद्दे उठाए
बैठक में कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित जिले के प्रतिनिधियों को बोलने का अवसर दिया गया जिसमें बेमेतरा जिले से विधायक आशीष छाबड़ा को अवसर मिला। विधायक ने बेमेतरा की स्थिति से सभी को अवगत कराते हुए कहा कि बेमेतरा जिले में कोरेाना बेकाबू हो रहा है। ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी है। लोगों को रेमडेसिविर इंजेक्शन नहीं मिल रहा है। जिला अस्पताल में सीटी स्कैन मशीन नहीं होने से लोगों को बेहतर उपचार की सुविधा नहीं मिल पा रही है। साथ ही आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट मिलने में देरी से मरीजों का समय पर उपचार नहीं हो पा रहा है। जिस पर सीएम और स्वास्थ्य मंत्री ने जल्द ही बेहतर सुविधाएं मुहैय्या कराने का आश्वासन दिया।

अप्रेल माह का वेतन दिया सीएम राहत कोष में
मुख्यमंत्री के आह्वान पर विधायक छाबड़ा ने अपने अप्रेल माह का वेतन प्रदेश मुख्यमंत्री राहत कोष में देने की घोषणा की। बैठक से पूर्व ही विधायक जनहित को देखकर विधायक निधि से 10 लाख रुपए जिला प्रशासन को पहले ही दे चुके है। बैठक को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोरोना के बढ़े संक्रमण का कारण महाराष्ट्र का विदर्भ क्षेत्र है। नागपुर में लॉकडाउन लगा दिया गया। जिससे छत्तीसगढ़ में कोरोना मरीजों की आवाजाही बढ़ गई है, परिणामस्वरूप यह स्थिति देखने को मिल रही है।

छत्तीसगढ़ को किया जा रहा है बदनाम
बैठक को प्रदेश के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने भी सम्बोधित किया। उन्होंने कोरोनाकल में पुलिस विभाग द्वारा चिकित्सा विभाग के साथ कदम से कदम मिलाकर सहयोग देने पर पुलिस विभाग की तारीफ की। सभी से आग्रह किया कि लॉकडाउन का पालन करने में लगे पुलिस को किसी प्रकार से परेशान ना किया जाए। बैठक को प्रदेश प्रभारी पीएल पूनिया ने भी संबोधित किया जिसमें उन्होंने भाजपा और केंद्र सरकार पर छत्तीसगढ़ को बदनाम करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उत्तरप्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति छत्तीगढ़ से भी ज्यादा खराब है। छत्तीसगढ़ का नाम खराब करने के लिए बार-बार छत्तीगढ़ में कोरोना की भयावह स्थिति कहकर बदनाम किया जा रहा है।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned