टेंशन मत लेना...पुलिस का हर महीने हिसाब करते हैं, सामने से होकर घर तक चंबल बजरी पहुंचेगी

-दो राज्य, दो जिले, पांच थाने, सात चौकियों के सामने से निकलकर भरतपुर पहुंच रही चंबल बजरी, फिर पुलिस के अधिकारी मौन
-चंबल बजरी के अवैध व्यापार पर पत्रिका की रिपोर्ट

By: Meghshyam Parashar

Published: 24 Jun 2021, 01:38 PM IST

विनोद कुमार शर्मा/धर्मेंद्र चौधरी
भरतपुर. सर्वोच्च व उच्च न्यायालय ने भले ही नदी-नालों से बजरी खनन पर रोक लगा रखी है लेकिन फिर भी जिले में चोरी-छिपे बजरी का परिवहन जारी है। जिले में यह बजरी धौलपुर, सवाईमाधोपुर व दौसा की ओर से परिवहन कर लाई जा रही है। इसका अंदाजा इससे सहज ही लगाया जा सकता है कि बजरी खनन पर रोक के बाद से ही धौलपुर से चंबल की बजरी आसानी से आ रही है। पत्रिका टीम ने बुधवार को जब पड़ताल की सच निकल कर सामने आया।
चिकसाना थाना इलाके में स्थित ऊंचा नगला पुलिस चौकी से महज करीब दो किलोमीटर की दूरी पर अघापुर के पास चंबल की बजरी से भरी 30 से अधिक ट्रेक्टर-ट्रॉलियां खड़ी हुई थी। एक ट्रेक्टर चालक के पास जाकर बजरी का भाव पूछा तो कहा कि आज जल्दी गांव जाना है इसलिए मात्र 9500 रुपए में खाली कर दूंगा। पत्रिका रिपोर्ट ने जब उससे पूछा कि रास्ते में पुलिस वगैराह तो नहीं पकड़ेगी और पकड़ेगी तो उसकी जिम्मेदारी आपकी होगी तो चालक बोला कि अकेला चिकसाना थाना ही नहीं धौलपुर से लेकर भरतपुर तक यूपी-राजस्थान के साथ करीब सात थाने और इतनी ही पुलिस चौकियां पड़ती है। जब वहां कोई नहीं रोकता तो यहां कोई क्या खाक रोकेगा। हर महीने हिसाब करना पड़ता है। आप बताइये ट्रॉली कहां खाली करनी है। इतने में पास ही खड़े चालक से भाव पूछा तो बोला कि भाव समान है। 500 रुपए कम देना पर ज्यादा दिमाग मत खाओ। बहुत आएंगे थोड़ी देर में...। इतना कहने के बाद दोनों चालक पेट्रोल पंप के सामने स्थित ढाबे पर चले गए।

जानिए तस्करी का ये नेटवक...र्यहां कोई नहीं रोकता

ट्रेक्टर चालक अमर सिंह गुर्जर (बदला हुआ नाम) ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि धौलपुर में चंबल की बजरी मध्यप्रदेश की ओर से राजघाट, तिघरा, घुरैया खेड़ा, कछियारा घाट, समोना घाट, गढ़ीजाफर, डगरा, बरफला, मुख्य घाट मौरोली का घाट से आती है। यहां भरतपुर के लिए धौलपुर का कोतवाली थाना, सदर थाना, निहालगंज थाना, सैंपऊ थाना, यूपी बॉर्डर क्रॉस करने के बाद भरतपुर की सीमा में प्रवेश हो जाएगा। इसके बाद घाटौली पुलिस चौकी, रूपवास थाना, गहनोली मोड पुलिस चौकी, ऊंचा नगला चौकी पड़ती है। यहां कोई नहीं रोकता।

आईजी साहब: यूपी पुलिस करती रही इंतजार...दोनों जिलों से कोई नहीं पहुंचा

धौलपुर के सैंपऊ से निकलते ही यूपी का बॉर्डर लगता है, 15 किमी का हिस्सा है। धौलपुर जिले से अवैध बजरी से भरी ट्रेक्टर-ट्रॉलियां निकलने के बाद यूपी इलाके से निकलना पड़ता है। यूपी पुलिस के खैरागढ़ सीओ ने 20-21 जून को वहां पुलिस बल लगा दिया। करीब 100 से अधिक ट्रेक्टर-ट्रॉलियां धौलपुर इलाके में खड़ी रही। काफी देर तक इंतजार करने के बाद भी भरतपुर व धौलपुर दोनों ही जिलों से पुलिस नहीं पहुंची। यहां पुलिस व बजरी माफिया के बीच दर्जनों बार फायरिंग व पथराव की घटना भी हो चुकी है।

बड़ा राज: एसएचओ का भतीजा और एक स्कार्पियो ?

बजरी माफिया इस खेल के बीच एक और बड़ी सामने आई है। जो कि जांच का भी विषय है। ग्रामीणों ने बताया कि एक एसएचओ का भतीजा भूरा ही अकेले 20 से 30 ट्रेक्टर चला रहा है। निर्धारित समय के हिसाब से एक स्कार्पियो आकर ट्रेक्टर चालकों से राशि लेकर जाती है। ज्यादातर महीने में एक बार ही हिसाब होता है। ट्रेक्टरों को निकालने के लिए लग्जरी गाड़ी भी एस्कॉर्ट के लिए रहती है। जरा सी सुरक्षा में चूक दिखने पर फायरिंग तक कर दी जाती है।

यह भी जानिए

-करीब 20 दिन पहले अघापुर-पंजाबी नगला के बीच बजरी माफियाओं के बीच फायरिंग हो चुकी है। पुलिस पहुंची, लेकिन मुकदमा दर्ज नहीं हुआ।

-कुछ महीने महीने मई गूजर गांव में ग्रामीणों व बजरी माफियाओं के बीच झगड़ा हुआ था।

-करीब एक साल पहले एएसआई पर बजरी माफियाओं ने पथराव किया था। इस मामले में आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। माफिया पिस्टल लहराते हुए निकल गए थे।

-सेवर थाना इलाके में एएसआई से मारपीट हुई थी। इसमें माफिया राजीनामा की कोशिश में जुटा है। एक कांस्टेबल की भूमिका मुख्य है।

बिंदुवार समझिए अवैध बजरी के काले कारोबार की कहानी

1. धौलपुर से रूपवास व रूपवास से भरतपुर तक दो गुट कारोबार चला रहे हैं।

2. अगर पुलिस व खनिज विभाग का दबाव नहीं है तो प्रति ट्रॉली आठ से नौ हजार रुपए और दबाव है तो प्रति ट्रॉली 12 हजार रुपए बिकती है। दबाव है तो दाम आधे हो जाते हैं।

3. गहनौली मोड चौकी से 50-55 ट्रेक्टरों का आवागमन उच्चैन साइड पर। सभी को अलग-अलग एरिया दे रखे हैं।

4. खानुआ मोड चौकी डाबर सिरौली होकर फतेहपुर सीकरी, खैरागढ़ तक ट्रॉली जाती है।

5. पंजाबी का नगला से अघापुर साइड, यहां से सेवर के उच्चैन चौराहे के लिए सुखावली होकर पहुंच जाते हैं।

6. गांव मलाह से होकर भरतपुर में प्रवेश कर जाते हैं।

7. पंजाबी नगला से चार किमी की दूरी पर मई गूजर गांव है, 200 मीटर पहले अभयराम का नगला होते हुए बहनेरा निकलते हैं। बहनेरा से होते हुए ऊंचा नगला नहीं जाना पड़ता है।

8. जो बजरी माफिया के गुट से नहीं जुड़े हैं वह मई गूजर से होकर चिकसाना व यूपी के लिए निकल जाते हैं।

9. खुद के दम पर सांठगांठ करने वाले ऊंचा नगला पुलिस चौकी से होकर निकलते हैं।


इनका कहना है

-अवैध बजरी की तस्करी दोनों जिलों की पुलिस के लिए चुनौती है। धौलपुर जिले में बहुत बड़ी कार्रवाई की गई हैं। दोनों जिलों के एसपी को निर्देशित किया गया है। भरतपुर में पुलिस व बजरी माफिया कई बार आमने-सामने हो चुके हैं। कुछ मामले मेरे प्रसंज्ञान में आए हैं। बड़े स्तर पर कार्रवाई कर अवैध बजरी की तस्करी पर अंकुश लगाया जाएगा।
प्रसन्न कुमार खमेसरा

आईजी भरतपुर रेंज


-वैसे चंबल की बजरी जहां से निकलती है वह एरिया वन विभाग में आता है, लेकिन भरतपुर में तस्करी के मामले में कार्रवाई के लिए हमने टीम को अलर्ट कर दिया है। पुलिस व प्रशासन के साथ मिलकर कार्रवाई की जाएगी।
प्रताप मीणा

एसएमई, खनि विभाग भरतपुर

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned