ऑनलाइन एग्जाम के पहले दिन दुर्ग विवि. की वेबसाइट चंद घंटे में क्रैश, प्रश्नपत्र डाउनलोड करने भटकते रहे छात्र

दुर्ग विवि में ऑनलाइन परीक्षा का पहला दिन काफी मुश्किलों से भरा रहा। सुबह साढ़े 10 बजे से हजारों छात्र एक साथ प्रश्नपत्र डाउनलोड करने लगे तो चंद मिनट में ही साइट क्रेश हो गया। (durg university online exam 2020 )

By: Dakshi Sahu

Published: 15 Sep 2020, 01:41 PM IST

भिलाई. दुर्ग विवि में ऑनलाइन परीक्षा का पहला दिन काफी मुश्किलों से भरा रहा। सुबह साढ़े 10 बजे से हजारों छात्र एक साथ प्रश्नपत्र डाउनलोड करने लगे तो चंद मिनट में ही साइट क्रेश हो गया। जब छात्रों को वेबसाइट के क्रेश होने की जानकारी मिली तो वे नजदीकी कॉलेज पहुंचे। जिले के अधिकांश कॉलेजों में प्रश्नपत्र लेने छात्रों की भीड़ लग गई। वहीं कई कॉलेजों की वेबसाइट पर भी प्रश्नपत्र नहीं खुले। पहले दिन विवि ने 40 विषयों के प्रश्नपत्र अपलोड किए थे। दरअसल विवि की वेबसाइट की केपेसिटी मात्र 1 हजार की थी और कुछ मिनट में ही एक साथ 60 हजार छात्रों ने प्रश्नपत्र डाउनलोड करने ट्राई किया था। वेबसाइट क्रेश होने के बाद विवि में हड़कंप मच गया। दोपहर को सॉफ्वेयर इंजीनियर ने आकर वेबसाइट को सुधारा और उसकी क्षमता बढ़ाई। अब भी दिनभर में मात्र 15 हजार छात्र ही प्रश्नपत्र डाउनलोड कर पाएंगे। वहीं कॉलेजों में भी प्रश्नपत्र की हार्डकॉपी भी उपलब्ध कराई जाएगी।

कुलपति ने ली इमरजेंसी मीटिंग
परीक्षा के पहले दिन कॉलेजों और छात्रों को प्रश्नपत्र डाउनलोडिंग को हुई दिक्कत को देख कुलपति डॉ. अरूणा पल्टा ने सोमवार दोपहर को कॉलेज के प्राचार्यों की इमरजेंसी मीटिंग बुलाई। उन्होंने कहा कि ग्रामीण अंचलों में यदि इंटरनेट में दिक्कत है और छात्र कॉलेज पहुंचते हैं तो उन्हें प्रश्नपत्र की हार्डकॉपी उपलब्ध कराई जाए। इसके लिए कॉलेज में 11 बजे से कार्य अवधि तक महाविद्यालय में किसी व्यक्ति को इसकी जिम्मेदारी दी जाए ताकि छात्रों को दिक्कत न हो।

पोस्ट से ही भेजनी होगी आंसरशीट
विवि के अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव ने बताया कि छात्रों को अब पूरी परीक्षा समाप्त होने के बाद आंसरशीट स्पीड पोस्ट से या फिर कॉलेज नजदीक है तो स्वयं जाकर जमा करनी होगी। उन्होंने बताया कि मंगलवार को 51 विषयों के प्रश्नपत्र विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड किए जाएंगे । सभी प्रश्नपत्र सम्पूर्ण अवधि के दौरान वेबसाइट पर उपलब्ध रहेंगे इसलिए परीक्षार्थी किसी भी अफवाहों पर ध्यान न देते हुए प्रश्नपत्रों को अपने घरों में सुरक्षित रहते हुए गंभीरता से हल करें।

आधी-अधूरी तैयारी
छात्रों का कहना था कि विवि ने आधी-अधूरी तैयारी के साथ परीक्षाएं शुरू की। जब विवि में सवा लाख करीब छात्र परीक्षा दे रहे हैं। ऐसे में वेबसाइट को अपडेट नहीं किया जाना समझ से परे हैं। पहले दिन ही छात्रों को इतनी परेशानी उठानी पड़ी। इससे तो अच्छा होता कि कॉलेजों से ही प्रश्नपत्र दे दिए जाते।

डॉ. सीएल देवांगन कुलसचिव दुर्ग विवि ने बताया कि परीक्षा के पहले दिन विवि की वेबसाइट में निर्धारित क्षमता से लगभग 60 हजार विद्यार्थियों ने एक साथ वेबसाइट खोलने के कारण दो घंटे में सर्वर डाउन हो गया। छात्रों की समस्या को तत्काल संज्ञान में लेते हुए कुलपति डॉ. अरूणा पल्टा ने वेबसाइट की क्षमता अपग्रेड कराया है। जिसके बाद अब एक साथ 15 हजार विद्यार्थी प्रश्नपत्र डाउनलोड कर सकते हैं।

coronavirus
Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned