scriptLt General Harinder Singh of CG is leading the Indian Army in Ladakh | गलवान घाटी में चीनी फौज को करारा जवाब देने वाले ये हैं छत्तीसगढ़ के ले. जनरल हरिंदर सिंह, सैन्य मोर्चे पर ऐसे घेरा धोखेबाज चीन को | Patrika News

गलवान घाटी में चीनी फौज को करारा जवाब देने वाले ये हैं छत्तीसगढ़ के ले. जनरल हरिंदर सिंह, सैन्य मोर्चे पर ऐसे घेरा धोखेबाज चीन को

छत्तीसगढ़ के स्टील सिटी भिलाई में जन्मे और पले-बढ़े लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह की सैन्य रणनीति आखिरकार रंग दिखाने लगी है। (India china standoff galwan valley)

 

भिलाई

Updated: June 28, 2020 04:51:30 pm

दाक्षी साहू @भिलाई. छत्तीसगढ़ के स्टील सिटी भिलाई में जन्मे और पले-बढ़े लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह (Lieutenant General Harinder singh) की सैन्य रणनीति आखिरकार रंग दिखाने लगी है। भारतीय सेना के इस जाबांज अफसर ने बीस जवानों की शहादत का बदला शर्तों के साथ चीनी फौज को गलवान घाटी से पीछे हटने पर मजबूर करके लिया है। वो बात अलग है कि धोखेबाज चीन अपनी आदतों से मजबूर है, जिसके चलते दोनों देशों के बीच अभी भी इस क्षेत्र में तनाव कायम है। लद्दाख में भारत-चीन सीमा विवाद पर कोर कमांडर स्तर के बैठक का नेतृत्व करने वाले लेफ्टिनेंट जनरल सिंह 6 जून से चीनी फौज के अधिकारियों के साथ द्विपक्षीय वार्ता कर रहे थे। 22 जून को लगातार 11 घंटे चली बैठक के बाद वे आखिरकार चीन को सैन्य मोर्चे पर घेरने में सफल हुए। सख्त रूख अख्तियार करते हुए उन्होंने न सिर्फ भारत की शर्त भी मनवाई बल्कि दुनिया के सामने भारतीय फौज का सिर भी ऊंचा कर दिया। गलवान घाटी में चीनी सेना के साथ हिंसक झड़प के बाद चीन ने स्वयं 22 जून को कोर कमांडर स्तर की बैठक की पहल की थी। देशहित को सर्वोपरि मानने वाले छत्तीसगढ़ के इस अफसर की कुशल नेतृत्व क्षमता को देखकर आज पूरा प्रदेश खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा है।
गलवान घाटी में चीनी फौज को करारा जवाब देने वाले ये हैं छत्तीसगढ़ के ले. जनरल हरिंदर सिंह, सैन्य मोर्चे पर ऐसे घेरा धोखेबाज चीन को
गलवान घाटी में चीनी फौज को करारा जवाब देने वाले ये हैं छत्तीसगढ़ के ले. जनरल हरिंदर सिंह, सैन्य मोर्चे पर ऐसे घेरा धोखेबाज चीन को
भिलाई में हुई प्राथमिक शिक्षा, बचपन से देखा सेना में जाने का सपना
लद्दाख में भारत-चीन सीमा विवाद पर सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह का जन्म भिलाई में हुआ है। प्राथमिक और हायर सेकंडरी शिक्षा भिलाई के बीएसपी सेक्टर 9 और 10 स्कूल से हुई है। उनके पिता दिवंगत सरदार गुरूनाम सिंह भिलाई स्टील प्लांट में मैनेजर थे। लेफ्टिनेंट जनरल सिंह के परिवार से ताल्लुक रखने वालों ने बताया कि वे बचपन से सेना में जाने का सपना देखते थे। आज उनकी सैन्य रणनीति की बदौलत भारत ने चीन को बड़ा सबक सिखाते हुए भारतीय सीमा से उसे पीछे हटने पर मजबूर कर दिया है।
गलवान घाटी में चीनी फौज को करारा जवाब देने वाले ये हैं छत्तीसगढ़ के ले. जनरल हरिंदर सिंह, सैन्य मोर्चे पर ऐसे घेरा धोखेबाज चीन कोसाल 2010 में चीन सीमा विवाद पर लिखा था रिसर्च पेपर
साल 2010 में ले. जनरल हरिंदर सिंह कर्नल के पद पर थे। उन्होंने 'इमरजिंग लैंड वॉरफाइटिंग डॉक्टराइन्स एंड केपेबिलिटीजÓ के टाइटल के साथ रिसर्च पेपर लिखा था। उन्होंने लिखा था कि भारत और चीन सन् 1962 के बाद से ही अपने सीमा विवाद को सुलझाने में लगे हुए हैं। बॉर्डर पर टकराव एक ऐसा मसला है जिसे रोका न जाए तो वह एक स्थानीय संघर्ष में तब्दील हो जाता है। 10 साल बाद उनकी लिखी बात गलवान घाटी में चीन के साथ हिंसक झड़प के रूप में सामने आई है। अब ले. जनरल इसी टकराव को सुलझाने के लिए 6 जून से लगातार चीनी फौज के साथ बैठक कर रहे थे।
लेह स्थित 14वीं कोर के कमांडर
ले. जनरल हरिंदर सिंह लद्दाख की राजधानी लेह स्थित 14वीं कोर के वर्तमान कमांडर हैं। इस कमांड को 'फायर एंड फ्यूरीÓ के नाम जाना जाता है। ले. जनरल सिंह को काउंटर इनसर्जेंसी का एक्सपर्ट माना जाता है। 14 कोर को कमांड करने से पहले वह सेना के कई अहम पदों पर सेवाएं दे चुके हैं। 14 कोर पर आने से पहले वह डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री इंटेलीजेंस, डायरेक्ट जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस और डायरेक्टर जनरल ऑफ लॉजिस्टिक्स एंड स्ट्रैटेजिक मूवमेंट को संभाल चुके हैं। नेशनल डिफेंस एकेडमी (एनडीएस) से पास आउट ले. जनरल सिंह अफ्रीका में यूनाइटेड मिशन के साथ भी तैनात रहे हैं।
उत्कृष्ट सेवा के लिए मिला सम्मान
लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह को सेवा मेडल, विशिष्ट सेवा मेडल, युद्ध सेवा मेडल और अति विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित किया जा चुका है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

अनिल बैजल के इस्तीफे के बाद Vinai Kumar Saxena बने दिल्ली के नए उपराज्यपालISI के निशाने पर पंजाब की ट्रेनें? खुफिया एजेंसियों ने दी चेतावनीममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'भाजपा का तुगलगी शासन, हिटलर और स्टालिन से भी बदतर'Haj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानाWomen's T20 Challenge: पहले ही मैच में धमाकेदार जीत दर्ज की सुपरनोवास ने, ट्रेलब्लेजर्स को 49 रनों से हरायालगातार बारिश के बीच ऑरेंज अलर्ट जारी, केदारनाथ यात्रा पर लगी रोक, प्रशासन ने कहा - 'जो जहां है वहीं रहे'‘सिंधिया जिस दिन कांग्रेस छोडक़र गए थे, उसी दिन से उनका बुढ़ापा शुरू हो गया था’Asia Cup Hockey 2022: अब्दुल राणा के आखिरी मिनट में गोल की वजह से भारत ने पाकिस्तान के साथ ड्रा पर खत्म किया मुकाबला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.